Suraj Ko Angootha

Regular price Rs. 149
Sale price Rs. 149 Regular price Rs. 160
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Suraj Ko Angootha

Suraj Ko Angootha

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सूरज को अँगूठा दिखाते हुए ठहाके लगाने का साहस करती जितेन्द्र श्रीवास्तव की कविताओं का प्राणतत्त्व राजनीति और समाजनीति—दोनों के समान योग से निर्मित है। यही कारण है कि जितेन्द्र की कविताएँ इकहरी नहीं, बहुस्तरीय हैं। मनुष्य और मनुष्यता की चिन्ता करने के क्रम में यह कवि सत्ताकांक्षी राजनीति और वर्चस्ववादी सामाजिक संरचना की गहरी पड़ताल करता है। यह अकारण नहीं है कि वह बात करता है सपनों की, इच्छाओं की और चुप्पी के समाजशास्त्र की। पिछले तीन दशकों से हिन्दी कविता में निरन्तर सक्रिय, स्वीकृत और सम्मानित जितेन्द्र श्रीवास्तव गृहस्थ जीवन के सिद्ध और अद्वितीय कवि हैं। उनकी कविता से ही एक शब्द लेकर कहें तो पारिवारिक विन्यास के रास्ते जीवन की विविधता को प्रकट करने का कौशल उनकी कविताओं का जीवद्रव्य है। जितेन्द्र श्रीवास्तव की भाषा में अपूर्व और दुर्लभ आत्मीयता है। चिन्तन करते हुए, समस्याओं पर विचार करते हुए, दुःख बतियाते हुए, पत्नी से कुछ कहते हुए, छोटे भाई की शादी में माँ की चर्चा करते हुए, पिता को याद करते हुए, पुराने मित्र से मिलते हुए, बहुत दिनों के बाद अपनी पुश्तैनी खेती-बारी को निहारते हुए, आत्मबल को बटोरते हुए—आप कविताओं में विन्यस्त इन सभी रंगों से गुज़रते हुए पाएँगे कि जितेन्द्र की काव्य-भाषा में 'आत्मीयता' आश्चर्यजनक रूप से बनी रहती है। न कोई दिखावे की तल्खी, न नफ़रत का अतिरिक्त प्रदर्शन—फिर भी पक्षधरता में कोई विचलन नहीं। यह रक्त और विवेक में समाई हुई पक्षधरता है जिसे व्यक्त करने के लिए कवि को अलग से कोई उद्यम नहीं करना पड़ता। उम्मीद है उनका यह नया संग्रह हिन्दी कविता के पाठकों को एक नया आस्वाद देगा। Suraj ko angutha dikhate hue thahake lagane ka sahas karti jitendr shrivastav ki kavitaon ka prantattv rajniti aur samajniti—donon ke saman yog se nirmit hai. Yahi karan hai ki jitendr ki kavitayen ikahri nahin, bahustriy hain. Manushya aur manushyta ki chinta karne ke kram mein ye kavi sattakankshi rajniti aur varchasvvadi samajik sanrachna ki gahri padtal karta hai. Ye akaran nahin hai ki vah baat karta hai sapnon ki, ichchhaon ki aur chuppi ke samajshastr ki. Pichhle tin dashkon se hindi kavita mein nirantar sakriy, svikrit aur sammanit jitendr shrivastav grihasth jivan ke siddh aur advitiy kavi hain. Unki kavita se hi ek shabd lekar kahen to parivarik vinyas ke raste jivan ki vividhta ko prkat karne ka kaushal unki kavitaon ka jivadravya hai. Jitendr shrivastav ki bhasha mein apurv aur durlabh aatmiyta hai. Chintan karte hue, samasyaon par vichar karte hue, duःkha batiyate hue, patni se kuchh kahte hue, chhote bhai ki shadi mein man ki charcha karte hue, pita ko yaad karte hue, purane mitr se milte hue, bahut dinon ke baad apni pushtaini kheti-bari ko niharte hue, aatmbal ko batorte hue—ap kavitaon mein vinyast in sabhi rangon se guzarte hue payenge ki jitendr ki kavya-bhasha mein atmiyta aashcharyajnak rup se bani rahti hai. Na koi dikhave ki talkhi, na nafrat ka atirikt prdarshan—phir bhi pakshadharta mein koi vichlan nahin. Ye rakt aur vivek mein samai hui pakshadharta hai jise vyakt karne ke liye kavi ko alag se koi udyam nahin karna padta. Ummid hai unka ye naya sangrah hindi kavita ke pathkon ko ek naya aasvad dega.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products