Look Inside
Sunner Pande Ki Patoh
Sunner Pande Ki Patoh
Sunner Pande Ki Patoh
Sunner Pande Ki Patoh
Sunner Pande Ki Patoh
Sunner Pande Ki Patoh
Sunner Pande Ki Patoh
Sunner Pande Ki Patoh
Sunner Pande Ki Patoh
Sunner Pande Ki Patoh
Sunner Pande Ki Patoh
Sunner Pande Ki Patoh
Sunner Pande Ki Patoh
Sunner Pande Ki Patoh

Sunner Pande Ki Patoh

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Sunner Pande Ki Patoh

Sunner Pande Ki Patoh

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रसिद्ध उपन्यासकार अमरकान्त का यह उपन्यास पति द्वारा परिव्यक्त राजलक्ष्मी नाम की उस स्त्री की कहानी है जो न केवल नर-भेड़ियों से भरे समाज में अपनी अस्मत बचा के रखती है, बल्कि कुछ लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत भी है।
विवाह होते ही उसका निजत्व तिरोहित हो जाता है और नया नाम मिलता है—सुन्नर पांडे की पतोह। सुन्नर पांडे की पतोह का पति झुल्लन पांडे एक दिन उसे छोड़कर कहीं चला जाता है और फिर लौटकर नहीं आता। अन्तहीन प्रतीक्षा के धुँधलके में जीती राजलक्ष्मी के पास पति की निशानी सिन्दूर बचा रहता है। औरत की इच्छाओं, हौसलों और अधिकारों से वंचित होने पर भी उसे सिन्दूर ही औरत होने का गर्व और गरिमा देता है। वस्तुतः पहले सिन्दूर का मतलब था पति, बाद में पति का मतलब सिन्दूर हो गया। लेकिन एक रात जब उसने अपनी सास-ससुर की बातें सुनीं तो जैसे पाँवों-तले की ज़मीन ही खिसक गई। जब घर में ही स्त्री की अस्मत असुरक्षित हो तो कोई स्त्री क्या करे! वह अन्ततः गाँव-घर, देवी-देवता, चिरई-चुरंग, नदी-पोखर सबको अन्तिम प्रणाम कर अनजानी राह पर चल पड़ी...।
निम्नमध्यवर्गीय जीवन की विडम्बनाओं और एक परित्यक्त स्त्री की जिजीविषाओं का बेहद प्रभावशाली और अन्तरंग चित्रण से लबरेज़ यह उपन्यास अपने जीवन्त मानवीय संस्पर्श के कारण एक उदात्त भाव पाठकों के मन में भरता चलता है। लोकजीवन के मुहावरों और देशज शब्दों के प्रयोग से भाषा में माटी का सहज स्पर्श और ऐसी सोंधी गन्ध महसूस होती है जो पाठकों को निजी लोक के उदात्त क्षेत्रों में ले आती है। निश्चय ही यह कृति पाठकों के मन में देर तक और दूर तक रची-बसी रहेगी। Prsiddh upanyaskar amarkant ka ye upanyas pati dvara parivyakt rajlakshmi naam ki us stri ki kahani hai jo na keval nar-bhediyon se bhare samaj mein apni asmat bacha ke rakhti hai, balki kuchh logon ke liye prerna ka srot bhi hai. Vivah hote hi uska nijatv tirohit ho jata hai aur naya naam milta hai—sunnar pande ki patoh. Sunnar pande ki patoh ka pati jhullan pande ek din use chhodkar kahin chala jata hai aur phir lautkar nahin aata. Anthin prtiksha ke dhundhalake mein jiti rajlakshmi ke paas pati ki nishani sindur bacha rahta hai. Aurat ki ichchhaon, hauslon aur adhikaron se vanchit hone par bhi use sindur hi aurat hone ka garv aur garima deta hai. Vastutः pahle sindur ka matlab tha pati, baad mein pati ka matlab sindur ho gaya. Lekin ek raat jab usne apni sas-sasur ki baten sunin to jaise panvon-tale ki zamin hi khisak gai. Jab ghar mein hi stri ki asmat asurakshit ho to koi stri kya kare! vah antatः ganv-ghar, devi-devta, chirii-churang, nadi-pokhar sabko antim prnam kar anjani raah par chal padi. . . .
Nimnmadhyvargiy jivan ki vidambnaon aur ek parityakt stri ki jijivishaon ka behad prbhavshali aur antrang chitran se labrez ye upanyas apne jivant manviy sansparsh ke karan ek udatt bhav pathkon ke man mein bharta chalta hai. Lokjivan ke muhavron aur deshaj shabdon ke pryog se bhasha mein mati ka sahaj sparsh aur aisi sondhi gandh mahsus hoti hai jo pathkon ko niji lok ke udatt kshetron mein le aati hai. Nishchay hi ye kriti pathkon ke man mein der tak aur dur tak rachi-basi rahegi.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products