Look Inside
Striyon Ki Paradhinta
Striyon Ki Paradhinta
Striyon Ki Paradhinta
Striyon Ki Paradhinta

Striyon Ki Paradhinta

Regular price Rs. 274
Sale price Rs. 274 Regular price Rs. 295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Striyon Ki Paradhinta

Striyon Ki Paradhinta

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘स्त्रियों की पराधीनता’ पुस्तक में मिल पुरुष-वर्चस्ववाद की स्वीकार्यता के आधार के तौर पर काम करनेवाली सभी प्रस्तरीकृत मान्यताओं-संस्कारों-रूढ़ियों को, और स्थापित कानूनों को तर्कों के ज़रिए प्रश्नचिह्नों के कठघरे में खड़ा करते हैं। निजी सम्पत्ति और असमानतापूर्ण वर्गीय संरचना के इतिहास के साथ सम्बन्ध नहीं जोड़ पाने के बावजूद, मिल ने परिवार और विवाह की संस्थाओं के स्त्री-उत्पीड़क, अनैतिक चरित्र के ऊपर से रागात्मकता के आवरण को नोच फेंका है और उन नैतिक मान्यताओं की पवित्रता का रंग-रोगन भी खुरच डाला है जो सिर्फ़ स्त्रियों से ही समस्त एकनिष्ठता, सेवा और समर्पण की माँग करती हैं और पुरुषों को उड़ने के लिए लीला-विलास का अनन्त आकाश मुहैया कराती हैं।
पुरुष-वर्चस्ववाद की सामाजिक-वैधिक रूप से मान्यता प्राप्त सत्ता को मिल ने मनुष्य की स्थिति में सुधार की राह की सबसे बड़ी बाधा बताते हुए स्त्री-पुरुष सम्बन्धों में पूर्ण समानता की तरफ़दारी की है। स्त्री-पुरुष समानता के विरोध में जो उपादान काम करते हैं, उनमें मिल प्रचलित भावनाओं को प्रमुख स्थान देते हुए उनके विरुद्ध तर्क करते हैं। वे बताते हैं कि (उन्नीसवीं शताब्दी में) समाज में आम तौर पर लोग स्वतंत्रता और न्याय की तर्कबुद्धिसंगत अवधारणाओें को आत्मसात् कर चुके हैं लेकिन स्त्री-पुरुष सम्बन्धों के सन्दर्भ में उनकी यह धारणा है कि शासन करने, निर्णय लेने और आदेश देने की स्वाभाविक क्षमता पुरुष में ही है। स्त्री-अधीनस्थता की समूची सामाजिक व्यवस्था एकांगी अनुभव व सिद्धान्त पर आधारित है।
मिल के अनुसार, प्राचीन काल में बहुत-से स्त्री-पुरुष दास थे। फिर दास-प्रथा के औचित्य पर प्रश्न उठने लगे और धीरे-धीरे यह प्रथा समाप्त हो गई लेकिन स्त्रियों की दासता धीरे-धीरे एक क़िस्म की निर्भरता में तब्दील हो गई। मिल स्त्री की निर्भरता को पुरातन दासता की ही निरन्तरता मानते हैं जिस पर तमाम सुधारों के रंग-रोगन के बाद भी पुरानी निर्दयता के चिह्न अभी मौजूद हैं और आज भी स्त्री-पुरुष असमानता के मूल में ‘ताक़त’ का वही आदिम नियम है जिसके तहत ताक़तवर सब कुछ हथिया लेता है।
—सम्पादकीय से, ‘striyon ki paradhinta’ pustak mein mil purush-varchasvvad ki svikaryta ke aadhar ke taur par kaam karnevali sabhi prastrikrit manytaon-sanskaron-rudhiyon ko, aur sthapit kanunon ko tarkon ke zariye prashnchihnon ke kathaghre mein khada karte hain. Niji sampatti aur asmantapurn vargiy sanrachna ke itihas ke saath sambandh nahin jod pane ke bavjud, mil ne parivar aur vivah ki sansthaon ke stri-utpidak, anaitik charitr ke uupar se ragatmakta ke aavran ko noch phenka hai aur un naitik manytaon ki pavitrta ka rang-rogan bhi khurach dala hai jo sirf striyon se hi samast eknishthta, seva aur samarpan ki mang karti hain aur purushon ko udne ke liye lila-vilas ka anant aakash muhaiya karati hain. Purush-varchasvvad ki samajik-vaidhik rup se manyta prapt satta ko mil ne manushya ki sthiti mein sudhar ki raah ki sabse badi badha batate hue stri-purush sambandhon mein purn samanta ki tarafdari ki hai. Stri-purush samanta ke virodh mein jo upadan kaam karte hain, unmen mil prachlit bhavnaon ko prmukh sthan dete hue unke viruddh tark karte hain. Ve batate hain ki (unnisvin shatabdi men) samaj mein aam taur par log svtantrta aur nyay ki tarkbuddhisangat avdharnaoen ko aatmsat kar chuke hain lekin stri-purush sambandhon ke sandarbh mein unki ye dharna hai ki shasan karne, nirnay lene aur aadesh dene ki svabhavik kshamta purush mein hi hai. Stri-adhinasthta ki samuchi samajik vyvastha ekangi anubhav va siddhant par aadharit hai.
Mil ke anusar, prachin kaal mein bahut-se stri-purush daas the. Phir das-prtha ke auchitya par prashn uthne lage aur dhire-dhire ye prtha samapt ho gai lekin striyon ki dasta dhire-dhire ek qism ki nirbharta mein tabdil ho gai. Mil stri ki nirbharta ko puratan dasta ki hi nirantarta mante hain jis par tamam sudharon ke rang-rogan ke baad bhi purani nirdayta ke chihn abhi maujud hain aur aaj bhi stri-purush asmanta ke mul mein ‘taqat’ ka vahi aadim niyam hai jiske tahat taqatvar sab kuchh hathiya leta hai.
—sampadkiy se,

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products