Look Inside
Stri Mere Bhitar
Stri Mere Bhitar
Stri Mere Bhitar
Stri Mere Bhitar

Stri Mere Bhitar

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Stri Mere Bhitar

Stri Mere Bhitar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रिय पापा, ‘कथन’ के अक्तूबर-दिसम्बर 2001 अंक में, आपकी कविता ‘एक ख़ूबसूरत बेटी का पिता’ पढ़ी। आप अत्यन्त संवेदनशील हैं और हर चीज़ पर गम्भीरता से विचार करते हैं, यह तो मुझे पहले से ही पता है। लेकिन मुझे लेकर आप इतनी गहरी उधेड़बुन में पड़े हुए हैं, इसका मुझे एहसास तक नहीं था।
चूँकि आपने अपनी इस कविता में सब कुछ खोलकर रखा है इसलिए मैं भी आपको साफ़-साफ़ बताना चाहती हूँ कि आपकी सीख मुझे बहुत देर से मिली। आप चाहते हैं कि मेरी बेटी प्रेम करे तो थोड़ा रुककर क्योंकि ‘प्रेम करने की सही उम्र नहीं यह’ और ‘मेरी बेटी काँपते और डरते हुए नहीं, इस डगर पर/सँभलकर चलते हुए करे प्रेम/अपने भीतर अद्भुत स्वाद लिए बैठे प्रेम के इस फल को/वह हड़बड़ी में नहीं धैर्य से नमक के साथ चखे।’
आपकी ही बेटी ठहरी, इसलिए मैंने ख़ूब सोच-समझकर, जितना पता लगा सकती थी, पता लगाकर अपने स्कूल के राजीव से प्रेम किया था। वह मुझसे एक क्लास आगे है। सुन्दर और पढ़ाई में बहुत तेज़ है।
आज भी हम दोनों प्रेम के आनन्द की नदी में बहते होते, अगर उसने एक किताब में रखकर यह चिट न दी होती—‘आइ एम प्राउड दैट द मोस्ट ब्यूटीफुल गर्ल ऑन दिस अर्थ बिलांग्स टू मी।’ इसे पढ़ते ही मेरी शिराएँ तन गईं—तो राजीव भी सिर्फ़ मेरी सुन्दरता को चाहता है?
पापा, मुझे लगता है कि वे लड़कियाँ जल्दी परिपक्व हो जाती हैं, जो सामान्य से कम या सामान्य से ज़्यादा सुन्दर होती हैं। शायद दोनों ही हर काम, प्रेम भी ठोक-बजा कर यानी गणितपूर्वक करती हैं। मैं भी अपने को ऐसा ही मानती थी। पर मेरे पहले चुनाव ने ही मुझे बता दिया कि गणित भी हमेशा काम नहीं करता।
लेकिन मेरी समझ में यह नहीं आता कि अगर मुझसे ‘कुछ’ हो ही जाता है, तो उसे ‘गलती’ कहना कहाँ तक ठीक है। आपसे उम्र और बुद्धि में बहुत ही छोटी हूँ, पर आपके द्वारा दिए गए भरोसे के आधार पर ही कहना चाहती हूँ कि सोच-समझ कर किया गया कोई भी काम ‘गलती’ की श्रेणी में नहीं आ सकता। किसी काम के नतीजे अच्छे नहीं निकले, तो अपने निर्णय को क्यों कोसना। इमर्सन ने कहा है कि सभी निर्णय सीमित जानकारी के आधार पर किए जाते हैं और यह संसार असीम है। ग़लती तब है, जब अस्वीकार्य नतीजे आने के बाद भी आदमी अपने निर्णय से चिपका रहे। पापा मुझे आशीर्वाद दो कि अपना ही फ़ैसला जब मेरी त्वचा में चुभने लगे, तो मैं उससे फ्री हो सकूँ।
—आपकी बेटी राधा
(पवन करण की ‘एक ख़ूबसूरत बेटी का पिता’ कविता के सन्दर्भ में राजकिशोर के एक लेख से) Priy papa, ‘kathan’ ke aktubar-disambar 2001 ank mein, aapki kavita ‘ek khubsurat beti ka pita’ padhi. Aap atyant sanvedanshil hain aur har chiz par gambhirta se vichar karte hain, ye to mujhe pahle se hi pata hai. Lekin mujhe lekar aap itni gahri udhedbun mein pade hue hain, iska mujhe ehsas tak nahin tha. Chunki aapne apni is kavita mein sab kuchh kholkar rakha hai isaliye main bhi aapko saf-saf batana chahti hun ki aapki sikh mujhe bahut der se mili. Aap chahte hain ki meri beti prem kare to thoda rukkar kyonki ‘prem karne ki sahi umr nahin yah’ aur ‘meri beti kanpate aur darte hue nahin, is dagar par/sanbhalakar chalte hue kare prem/apne bhitar adbhut svad liye baithe prem ke is phal ko/vah hadabdi mein nahin dhairya se namak ke saath chakhe. ’
Aapki hi beti thahri, isaliye mainne khub soch-samajhkar, jitna pata laga sakti thi, pata lagakar apne skul ke rajiv se prem kiya tha. Vah mujhse ek klas aage hai. Sundar aur padhai mein bahut tez hai.
Aaj bhi hum donon prem ke aanand ki nadi mein bahte hote, agar usne ek kitab mein rakhkar ye chit na di hoti—‘ai em praud dait da most byutiphul garl aun dis arth bilangs tu mi. ’ ise padhte hi meri shirayen tan gain—to rajiv bhi sirf meri sundarta ko chahta hai?
Papa, mujhe lagta hai ki ve ladakiyan jaldi paripakv ho jati hain, jo samanya se kam ya samanya se zyada sundar hoti hain. Shayad donon hi har kaam, prem bhi thok-baja kar yani ganitpurvak karti hain. Main bhi apne ko aisa hi manti thi. Par mere pahle chunav ne hi mujhe bata diya ki ganit bhi hamesha kaam nahin karta.
Lekin meri samajh mein ye nahin aata ki agar mujhse ‘kuchh’ ho hi jata hai, to use ‘galti’ kahna kahan tak thik hai. Aapse umr aur buddhi mein bahut hi chhoti hun, par aapke dvara diye ge bharose ke aadhar par hi kahna chahti hun ki soch-samajh kar kiya gaya koi bhi kaam ‘galti’ ki shreni mein nahin aa sakta. Kisi kaam ke natije achchhe nahin nikle, to apne nirnay ko kyon kosna. Imarsan ne kaha hai ki sabhi nirnay simit jankari ke aadhar par kiye jate hain aur ye sansar asim hai. Galti tab hai, jab asvikarya natije aane ke baad bhi aadmi apne nirnay se chipka rahe. Papa mujhe aashirvad do ki apna hi faisla jab meri tvcha mein chubhne lage, to main usse phri ho sakun.
—apki beti radha
(pavan karan ki ‘ek khubsurat beti ka pita’ kavita ke sandarbh mein rajakishor ke ek lekh se)

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products