BackBack
-10%

Stri Evam Samajik Prasang Mamta Kalia Katha Sahitya

Peter Sagi

Rs. 995 Rs. 896

Vani Prakashan

ममता कालिया हिन्दी साहित्य के पिछले पाँच दशकों की आवश्यक रचनाकार हैं, जो हम सबके जीवन के निकट रहती व लिखती आयी हैं। एक्स-रे जैसी पटु सामाजिक दृष्टि और सकारात्मक अनुभवों से भरा उनकी कृतियों का संसार फिर-फिर चर्चा की माँग करता है। उनके लेखन पर उपलब्ध शोध-ग्रन्थों में इस... Read More

Description

ममता कालिया हिन्दी साहित्य के पिछले पाँच दशकों की आवश्यक रचनाकार हैं, जो हम सबके जीवन के निकट रहती व लिखती आयी हैं। एक्स-रे जैसी पटु सामाजिक दृष्टि और सकारात्मक अनुभवों से भरा उनकी कृतियों का संसार फिर-फिर चर्चा की माँग करता है। उनके लेखन पर उपलब्ध शोध-ग्रन्थों में इस पुस्तक का स्थान, एक परदेसी विद्यार्थी की देन होते हुए भी स्वयं लेखिका के अनुसार "प्रमुख" है। प्रस्तुत किताब को कई स्तरों पर पढ़ा और समझा जा सकता है। मुख्यतः तो यह एक साहित्यिक अध्ययन है, पाठकों को इसके संयोजन में एक विदेशी छात्र की देशी अनुभूतियों के प्रतिबिम्ब भी दिखाई पड़ेंगे। कुछ प्रतिशत समाजशात्र के आस-पास कुछ प्रतिशत भाषा और शैली सम्बन्धी समालोचन के बिन्दुओं का सम्यक् विश्लेषण करने का प्रयत्न यहाँ हुआ है। आलोचना में मूल पाठ की अपरिहार्यता को बारम्बार रेखांकित करती यह खोज ममता कालिया की रचनाओं के सबसे मनोरम एवं मनीषी विचारों का आकलन है। लेखिका के साहित्य तथा अध्येता की जिज्ञासा दोनों के लिए हमारे समय में महिलाओं की स्थिति से जुड़े प्रश्न केन्द्रीय रहे, इसके अलावा मौजूदा शोध में प्रायः सभी दृष्टिगत सामाजिक सन्दर्भों को गूँथने की कोशिश की गयी है। ममता कालिया स्वयं एक स्त्री हैं, जो समाज के बीच में बेचैन खड़ी अपनी आँखों के सामने घट रहे हैरतंगेज़ दृश्यों का चित्रण करती चली हैं। इन्हें उनके सोसियोग्राफी सरीखे लेखन के झरोखे से देखेंगे और इस मौलिक व्याख्या के सहारे सहज रूप से समझने का प्रयास करेंगे। mamta kaliya hindi sahitya ke pichhle paanch dashkon ki avashyak rachnakar hain, jo hum sabke jivan ke nikat rahti va likhti aayi hain. eks re jaisi patu samajik drishti aur sakaratmak anubhvon se bhara unki kritiyon ka sansar phir phir charcha ki maang karta hai. unke lekhan par uplabdh shodh granthon mein is pustak ka sthaan, ek pardesi vidyarthi ki den hote hue bhi svayan lekhika ke anusar "prmukh" hai. prastut kitab ko kai stron par paDha aur samjha ja sakta hai. mukhyatः to ye ek sahityik adhyyan hai, pathkon ko iske sanyojan mein ek videshi chhaatr ki deshi anubhutiyon ke pratibimb bhi dikhai paDenge. kuchh pratishat samajshatr ke aas paas kuchh pratishat bhasha aur shaili sambandhi samalochan ke binduon ka samyak vishleshan karne ka pryatn yahan hua hai. alochna mein mool paath ki apariharyta ko barambar rekhankit karti ye khoj mamta kaliya ki rachnaon ke sabse manoram evan manishi vicharon ka aklan hai. lekhika ke sahitya tatha adhyeta ki jigyasa donon ke liye hamare samay mein mahilaon ki sthiti se juDe prashn kendriy rahe, iske alava maujuda shodh mein praayः sabhi drishtigat samajik sandarbhon ko gunthane ki koshish ki gayi hai. mamta kaliya svayan ek stri hain, jo samaj ke beech mein bechain khaDi apni ankhon ke samne ghat rahe hairtangez drishyon ka chitran karti chali hain. inhen unke sosiyographi sarikhe lekhan ke jharokhe se dekhenge aur is maulik vyakhya ke sahare sahaj roop se samajhne ka pryaas karenge.