Look Inside
Sophie Ka Sansar : Pashchatya Jagat Ki Darshan-Gatha
Sophie Ka Sansar : Pashchatya Jagat Ki Darshan-Gatha
Sophie Ka Sansar : Pashchatya Jagat Ki Darshan-Gatha
Sophie Ka Sansar : Pashchatya Jagat Ki Darshan-Gatha

Sophie Ka Sansar : Pashchatya Jagat Ki Darshan-Gatha

Regular price Rs. 371
Sale price Rs. 371 Regular price Rs. 399
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Sophie Ka Sansar : Pashchatya Jagat Ki Darshan-Gatha

Sophie Ka Sansar : Pashchatya Jagat Ki Darshan-Gatha

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सोफी का संसार’ एक रहस्यपूर्ण और रोचक उपन्यास है, साथ ही पश्चिमी दर्शन के इतिहास और दर्शन की मूलभूत समस्याओं के विश्लेषण पर एक गहन तथा अद्वितीय पुस्तक भी। आधुनिक भारत के प्रसिद्ध दार्शनिक प्रोफ़ेसर दयाकृष्ण के अनुसार दो प्रश्नों को सार्वभौमिक स्तर पर दर्शन के मूलभूत प्रश्न कहा जा सकता है। पहला प्रश्न है : 'मैं कौन हूँ?' और, दूसरा है : 'यह विश्व अस्तित्व में कैसे आया?' अन्य दार्शनिक प्रश्न इन्हीं दो मूल प्रश्नों के साथ जुड़े हुए हैं।
इन प्रश्नों से पाठक का परिचय उपन्यास के पहले ही अध्याय में एक रहस्यात्मक और रोचक प्रसंग के माध्यम से हो जाता है। किसी जटिल सैद्धान्तिक रूप में प्रस्तुत करने के बजाय 14-15 वर्ष की किशोरी सोफी को दैनिक जीवन के व्यावहारिक स्तर पर इन प्रश्नों को पूछने के लिए प्रेरित किया गया है।
विश्व के अनेक दार्शनिकों और विचारकों ने इन प्रश्नों पर गम्भीर चिन्तन किया है। 'सोफी का संसार' पाश्चात्य दार्शनिक जिज्ञासाओं के 2500 वर्ष लम्बे इतिहास को स्मृति, कल्पना तथा विवेक के अद्भुत संयोजन के माध्यम से प्रस्तुत करता है।
सुकरात से पहले के दार्शनिकों—येल्स, ऐनेक्सीमांदर, ऐनेक्सीमेनीज, परमेनिडीज, हैरेक्लाइटस, डैमोक्रिटीस इत्यादि दार्शनिकों की चर्चा से प्रारम्भ करते हुए यह उपन्यास अफलातून (प्लेटो), अरस्तू, आगस्तीन, एक्विनाज, देकार्त, स्पिनोजा, लाइब्निज, लॉक, बर्कले, ह्यूम, कांट, हेगेल, किर्केगार्ड, मार्क्स, डारविन तथा सार्त्र तक सभी महत्त्वपूर्ण दार्शनिकों की जिज्ञासाओं तथा चिन्तन-विधियों की विश्लेषणात्मक समीक्षा प्रस्तुत करता है।
नार्वेजन भाषा में लिखे गए इस दार्शनिक उपन्यास का अनुवाद विश्व की 60 से अधिक भाषाओं में हो चुका है और पिछले दो दशकों में इसकी पाँच करोड़ से अधिक प्रतियाँ बिक चुकी हैं। Sophi ka sansar’ ek rahasypurn aur rochak upanyas hai, saath hi pashchimi darshan ke itihas aur darshan ki mulbhut samasyaon ke vishleshan par ek gahan tatha advitiy pustak bhi. Aadhunik bharat ke prsiddh darshnik profesar dayakrishn ke anusar do prashnon ko sarvbhaumik star par darshan ke mulbhut prashn kaha ja sakta hai. Pahla prashn hai : main kaun hun? aur, dusra hai : ye vishv astitv mein kaise aaya? anya darshnik prashn inhin do mul prashnon ke saath jude hue hain. In prashnon se pathak ka parichay upanyas ke pahle hi adhyay mein ek rahasyatmak aur rochak prsang ke madhyam se ho jata hai. Kisi jatil saiddhantik rup mein prastut karne ke bajay 14-15 varsh ki kishori sophi ko dainik jivan ke vyavharik star par in prashnon ko puchhne ke liye prerit kiya gaya hai.
Vishv ke anek darshanikon aur vicharkon ne in prashnon par gambhir chintan kiya hai. Sophi ka sansar pashchatya darshnik jigyasaon ke 2500 varsh lambe itihas ko smriti, kalpna tatha vivek ke adbhut sanyojan ke madhyam se prastut karta hai.
Sukrat se pahle ke darshanikon—yels, aineksimandar, aineksimenij, parmenidij, haireklaitas, daimokritis ityadi darshanikon ki charcha se prarambh karte hue ye upanyas aphlatun (pleto), arastu, aagastin, ekvinaj, dekart, spinoja, laibnij, lauk, barkle, hyum, kant, hegel, kirkegard, marks, darvin tatha sartr tak sabhi mahattvpurn darshanikon ki jigyasaon tatha chintan-vidhiyon ki vishleshnatmak samiksha prastut karta hai.
Narvejan bhasha mein likhe ge is darshnik upanyas ka anuvad vishv ki 60 se adhik bhashaon mein ho chuka hai aur pichhle do dashkon mein iski panch karod se adhik pratiyan bik chuki hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products