Look Inside
Sookha Bargad
Sookha Bargad
Sookha Bargad
Sookha Bargad
Sookha Bargad
Sookha Bargad
Sookha Bargad
Sookha Bargad
Sookha Bargad
Sookha Bargad
Sookha Bargad
Sookha Bargad
Sookha Bargad
Sookha Bargad
Sookha Bargad
Sookha Bargad

Sookha Bargad

Regular price Rs. 553
Sale price Rs. 553 Regular price Rs. 595
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Sookha Bargad

Sookha Bargad

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सुपरिचित कथाकार मंज़ूर एहतेशाम का यह महत्त्वपूर्ण उपन्यास वर्तमान भारतीय मुस्लिम समाज के अन्तर्विरोधों की गम्भीर, प्रामाणिक और मूल्यवान पड़ताल का नतीजा है और यही कारण है कि इस उपन्यास को हिन्दी की कालजयी रचनाओं में गिना जाता है।
सामाजिक विकास के जिन अत्यन्त संवेदनशील गतिरोधों पर क़लम उठाने और उन्हें छूने-भर का साहस भी बहुत कम लोग कर पाते हैं, उन्हें इस उपन्यास में न सिर्फ़ छुआ गया है, बल्कि सबसे बड़े ख़ुदा—इंसान की ज़रूरतों, आशा-आकांक्षाओं और अस्तित्व के सन्दर्भ में उनकी गहरी छानबीन की गई है। धर्म, जातीयता, क्षेत्रीयता, भाषा और साम्प्रदायिकता के जो सवाल आज़ादी के बाद हमारे समाज में यथार्थ के विभिन्न चेहरों में उभरे हैं, उनकी असहनीय आँच इस समूची कथाकृति में मौजूद है।
यही सारे सवाल आज भी हमारे आसपास एक ऐसे बरगद की झूलती जड़ें बनकर फैले हुए हैं, जिसके नीचे किसी भी कौम की तरक़्क़ी और ख़ुशहाली असम्भव है। लेकिन सबसे महत्त्वपूर्ण है यह जानना कि इस त्रासदी के पीछे किसका हाथ है और इसका हल क्या है? कहना न होगा कि इस प्रश्न का उत्तर देते हैं वे तमाम लोग जो इस समाज में शोषित, पीड़ित, अपमानित और लांछित हैं, लेकिन आज भी टूटे नहीं हैं। Suparichit kathakar manzur ehtesham ka ye mahattvpurn upanyas vartman bhartiy muslim samaj ke antarvirodhon ki gambhir, pramanik aur mulyvan padtal ka natija hai aur yahi karan hai ki is upanyas ko hindi ki kalajyi rachnaon mein gina jata hai. Samajik vikas ke jin atyant sanvedanshil gatirodhon par qalam uthane aur unhen chhune-bhar ka sahas bhi bahut kam log kar pate hain, unhen is upanyas mein na sirf chhua gaya hai, balki sabse bade khuda—insan ki zarurton, aasha-akankshaon aur astitv ke sandarbh mein unki gahri chhanbin ki gai hai. Dharm, jatiyta, kshetriyta, bhasha aur samprdayikta ke jo saval aazadi ke baad hamare samaj mein yatharth ke vibhinn chehron mein ubhre hain, unki asahniy aanch is samuchi kathakriti mein maujud hai.
Yahi sare saval aaj bhi hamare aaspas ek aise bargad ki jhulti jaden bankar phaile hue hain, jiske niche kisi bhi kaum ki taraqqi aur khushhali asambhav hai. Lekin sabse mahattvpurn hai ye janna ki is trasdi ke pichhe kiska hath hai aur iska hal kya hai? kahna na hoga ki is prashn ka uttar dete hain ve tamam log jo is samaj mein shoshit, pidit, apmanit aur lanchhit hain, lekin aaj bhi tute nahin hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products