Soochana Praudyogikee Aur Samachar Patra

Regular price Rs. 124
Sale price Rs. 124 Regular price Rs. 134
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Soochana Praudyogikee Aur Samachar Patra

Soochana Praudyogikee Aur Samachar Patra

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

आधुनिक कम्प्यूटर के सहारे परवान चढ़ा सूचना युग आज सर्वव्यापी है। सूचना प्रौद्योगिकी और उसका इंटरनेट-महाजाल आज समाज के बड़े भाग की रोज़मर्रा ज़िन्दगी को प्रभावित कर रहे हैं। अनेक चिन्तकों ने इसकी भविष्यवाणी दशकों पहले ही कर दी थी, पर जो सामने आया वह भविष्यवाणियों से कहीं ज़्यादा था। इंटरनेट, जो नए मीडिया के रूप में उभरा, पुराने प्रिंट मीडिया के लिए ख़तरे की घंटी के रूप में देखा जाने लगा। एक समय में अख़बारों के प्रसार और विज्ञापन में लगभग स्थिरता से प्रिंट मीडिया में चिन्ता की लहरें छा गईं, किन्तु उनसे उबरते देर भी नहीं लगी क्योंकि एक सार्वजनिक मीडिया के रूप में इंटरनेट जन-जन में ग्राह्य नहीं हो पाया और छपे हुए शब्द की महत्ता बनी रही। यह पुस्तक इन तथ्यों और विषय-उपविषयों को वर्णनात्मक और विश्लेषणात्मक रूप में अध्याय-दर-अध्याय रखते हुए अपने निष्कर्ष की ओर बढ़ती है।
इसमें सूचना क्रान्ति और सूचना युग की विशेषता और कतिपय ज़रूरी तकनीकी शब्दों से परिचित कराते हुए देश-विदेश में इंटरनेट के विकास का जायजा लिया गया है। पुराने (प्रिंट) और (इंटरनेट) मीडिया की तुलना है तो यह भी शामिल है कि इंटरनेट पर भारतीय अख़बार और पत्रिकाओं का पदार्पण कैसे हुआ, इसमें भाषा की समस्या क्या थी और उसे सुलझाने के क्या उपाय हुए। पहले-पहल जो अख़बार और पत्रिकाएँ इंटरनेट पर आए, उनकी एक सूची और हिन्दी के कुछ अख़बारों के इंटरनेट संस्करणों के नमूने भी इसमें हैं। इंटरनेट बनाम अख़बार के तहत जहाँ एक तुलनात्मक अध्ययन किया गया है, वहीं इंटरनेट और बाज़ारवाद के दोहरे प्रहारों के चलते अख़बारों के विज्ञापन, प्रसार और विषय-वस्तु में आ रहे बदलावों का भी विश्लेषण है।
इसके अलावा यह पुस्तक इंटरनेट और लोगों के प्रजातांत्रिक अधिकारों के अन्तर्सम्बन्धों पर भी दृष्टिपात करती है। कई लब्धप्रतिष्ठ पत्रकारों के साक्षात्कारों, विभिन्न रिपोर्टों और कृतियों से लिए गए उद्धरणों और सांख्यिकी के ज़रिए विवेचना को पुष्ट बनाया गया है, जिसका निष्कर्ष कुछ रोचक दृष्टान्तों के साथ मन्थन में है। इसका सार वरिष्ठ पत्रकार प्रभाष जोशी की इस समापन टिप्पणी में है कि ‘जब तक मनुष्य की लिखने-पढ़ने में रुचि रहेगी तब तक काग़ज़ और क़लम से उसका जुड़ाव रहेगा और तब तक अख़बारों को भी कोई समाप्त नहीं कर सकेगा।’ Aadhunik kampyutar ke sahare parvan chadha suchna yug aaj sarvavyapi hai. Suchna praudyogiki aur uska intarnet-mahajal aaj samaj ke bade bhag ki rozmarra zindagi ko prbhavit kar rahe hain. Anek chintkon ne iski bhavishyvani dashkon pahle hi kar di thi, par jo samne aaya vah bhavishyvaniyon se kahin zyada tha. Intarnet, jo ne midiya ke rup mein ubhra, purane print midiya ke liye khatre ki ghanti ke rup mein dekha jane laga. Ek samay mein akhbaron ke prsar aur vigyapan mein lagbhag sthirta se print midiya mein chinta ki lahren chha gain, kintu unse ubarte der bhi nahin lagi kyonki ek sarvajnik midiya ke rup mein intarnet jan-jan mein grahya nahin ho paya aur chhape hue shabd ki mahatta bani rahi. Ye pustak in tathyon aur vishay-upavishyon ko varnnatmak aur vishleshnatmak rup mein adhyay-dar-adhyay rakhte hue apne nishkarsh ki or badhti hai. Ismen suchna kranti aur suchna yug ki visheshta aur katipay zaruri takniki shabdon se parichit karate hue desh-videsh mein intarnet ke vikas ka jayja liya gaya hai. Purane (print) aur (intarnet) midiya ki tulna hai to ye bhi shamil hai ki intarnet par bhartiy akhbar aur patrikaon ka padarpan kaise hua, ismen bhasha ki samasya kya thi aur use suljhane ke kya upay hue. Pahle-pahal jo akhbar aur patrikayen intarnet par aae, unki ek suchi aur hindi ke kuchh akhbaron ke intarnet sanskarnon ke namune bhi ismen hain. Intarnet banam akhbar ke tahat jahan ek tulnatmak adhyyan kiya gaya hai, vahin intarnet aur bazarvad ke dohre prharon ke chalte akhbaron ke vigyapan, prsar aur vishay-vastu mein aa rahe badlavon ka bhi vishleshan hai.
Iske alava ye pustak intarnet aur logon ke prjatantrik adhikaron ke antarsambandhon par bhi drishtipat karti hai. Kai labdhaprtishth patrkaron ke sakshatkaron, vibhinn riporton aur kritiyon se liye ge uddharnon aur sankhyiki ke zariye vivechna ko pusht banaya gaya hai, jiska nishkarsh kuchh rochak drishtanton ke saath manthan mein hai. Iska saar varishth patrkar prbhash joshi ki is samapan tippni mein hai ki ‘jab tak manushya ki likhne-padhne mein ruchi rahegi tab tak kagaz aur qalam se uska judav rahega aur tab tak akhbaron ko bhi koi samapt nahin kar sakega. ’

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products