Look Inside
Soochana Ka Adhikar
Soochana Ka Adhikar
Soochana Ka Adhikar
Soochana Ka Adhikar

Soochana Ka Adhikar

Regular price Rs. 419
Sale price Rs. 419 Regular price Rs. 450
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Soochana Ka Adhikar

Soochana Ka Adhikar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

राजशाही में व्यक्ति और समाज के पास कोई अधिकार था, तो सिर्फ़ इतना कि वह सत्तावर्ग की आज्ञा का चुपचाप पालन करे। राजा निरंकुश था, सर्वशक्तिमान। उस पर कोई उँगली नहीं उठा सकता था, न उसे किसी चीज़ के लिए उत्तरदायी ठहराया जा सकता था।
औद्योगिक क्रान्ति तथा उदारवाद के आगमन और लोकतांत्रिक शासन पद्धतियों के प्रारम्भ के साथ ही नागरिक स्वतंत्रता की अवधारणा आई। इसके बावजूद द्वितीय विश्वयुद्ध तक प्रजातांत्रिक देशों में भी शासनतंत्र में ‘गोपनीयता’ एक स्वाभाविक चीज़ बनी रही। विभिन्न दस्तावेज़ों में क़ैद सूचनाओं को ‘गोपनीय’ अथवा ‘वर्गीकृत’ करार देकर नागरिकों की पहुँच से दूर रखा गया। लोकतांत्रिक शासन-व्यवस्था के बावजूद राजनेताओं एवं अधिकारियों में स्वयं को ‘शासक’ या ‘राजा’ समझने की प्रवृत्ति हावी रही।
यही शासकवर्ग आज भारतीय लोकतंत्र का असली मालिक है। नागरिक का पाँच साल में महज़ एक वोट डाल आने का बेहद सीमित अधिकार इतना निरुत्साहित करनेवाला है कि चुनावों में बोगस वोट न पड़ें तो मतदान का प्रतिशत तीस-चालीस फ़ीसदी भी न पहुँचे।
यही कारण है कि अक्टूबर 2005 से लागू सूचनाधिकार लोकतांत्रिक राजा की सत्ता के लिए गहरे सदमे के रूप में आया है। राजनेता और नौकरशाह हतप्रभ हैं कि इस क़ानून ने आम नागरिक को लगभग तमाम ऐसी चीज़ों को देखने, जानने, समझने, पूछने की इजाज़त दे दी है, जिन पर परदा डालकर लोकतंत्र को राजशाही अन्दाज़ में चलाया जा रहा था। इस पुस्तक में संकलित उदाहरणों में आप देख पाएँगे कि किस तरह लोकतांत्रिक राजशाही तेज़ी से अपने अन्त की ओर बढ़ रही है।
साथ ही इस पुस्तक में यह भी बताया गया है कि हम अपने इस अधिकार का प्रयोग कैसे करें। Rajshahi mein vyakti aur samaj ke paas koi adhikar tha, to sirf itna ki vah sattavarg ki aagya ka chupchap palan kare. Raja nirankush tha, sarvshaktiman. Us par koi ungali nahin utha sakta tha, na use kisi chiz ke liye uttardayi thahraya ja sakta tha. Audyogik kranti tatha udarvad ke aagman aur loktantrik shasan paddhatiyon ke prarambh ke saath hi nagrik svtantrta ki avdharna aai. Iske bavjud dvitiy vishvyuddh tak prjatantrik deshon mein bhi shasantantr mein ‘gopniyta’ ek svabhavik chiz bani rahi. Vibhinn dastavezon mein qaid suchnaon ko ‘gopniy’ athva ‘vargikrit’ karar dekar nagarikon ki pahunch se dur rakha gaya. Loktantrik shasan-vyvastha ke bavjud rajnetaon evan adhikariyon mein svayan ko ‘shasak’ ya ‘raja’ samajhne ki prvritti havi rahi.
Yahi shasakvarg aaj bhartiy loktantr ka asli malik hai. Nagrik ka panch saal mein mahaz ek vot daal aane ka behad simit adhikar itna nirutsahit karnevala hai ki chunavon mein bogas vot na paden to matdan ka pratishat tis-chalis fisdi bhi na pahunche.
Yahi karan hai ki aktubar 2005 se lagu suchnadhikar loktantrik raja ki satta ke liye gahre sadme ke rup mein aaya hai. Rajneta aur naukarshah hataprabh hain ki is qanun ne aam nagrik ko lagbhag tamam aisi chizon ko dekhne, janne, samajhne, puchhne ki ijazat de di hai, jin par parda dalkar loktantr ko rajshahi andaz mein chalaya ja raha tha. Is pustak mein sanklit udaharnon mein aap dekh payenge ki kis tarah loktantrik rajshahi tezi se apne ant ki or badh rahi hai.
Saath hi is pustak mein ye bhi bataya gaya hai ki hum apne is adhikar ka pryog kaise karen.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products