Look Inside
Sobti Ek Sohbat
Sobti Ek Sohbat
Sobti Ek Sohbat
Sobti Ek Sohbat

Sobti Ek Sohbat

Regular price Rs. 744
Sale price Rs. 744 Regular price Rs. 800
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Sobti Ek Sohbat

Sobti Ek Sohbat

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हिन्दी साहित्य के समकालीन परिदृश्य पर कृष्णा सोबती एक विशिष्ट रचनाकार के रूप में समादृत हैं। यह कृति उनके बहुचर्चित कथा-साहित्य, संस्मरणों, रेखाचित्रों, साक्षात्कारों और कविताओं से एक चयन है। उनके कुछ विचारोत्तेजक निबन्धों को भी इसमें रखा गया है। इसके साथ ही ‘ज़िन्दगीनामा-2’ से कुछ महत्त्वपूर्ण अंश भी इसमें शामिल हैं, जिसे वे अभी लिख रही हैं।
उल्लेखनीय है कि अपनी विभिन्न कथाकृतियों के माध्यम से कृष्णा सोबती ने संस्कृति, संवेदना और भाषा-शिल्प की दृष्टि से हिन्दी साहित्य को एक नई व्यापकता प्रदान की है। इस सन्दर्भ में उनकी इस मान्यता से सहमत हुआ जा सकता है कि हिन्दी अगर किसी प्रदेश-विशेष या धर्म-वर्ग की भाषा नहीं है तो उसे अपने संस्कार को व्यापक बनाना होगा। वस्तुत: उन्होंने बने-बनाए साँचे, चौखटे और चौहद्‌दियाँ हर स्तर पर अस्वीकार की हैं तथा रचना के साथ-साथ स्वयं भी एक नया जन्म लिया है। उनके लिए रचनाकार की ही तरह रचना भी एक जीवित सच्चाई है; उसकी भी एक स्वायत्तता है। उन्हीं के शब्दों में कहें तो ‘रचना न बाहर की प्रेरणा से उपजती है, न केवल रचनाकार के मानसिक दबाव और तनाव से। रचना और रचनाकार—दोनों अपनी-अपनी स्वतंत्र सत्ता में एक-दूसरे का अतिक्रमण करते हैं और एक हो जाते हैं। इसी के साथ लेखक पर रचना की शर्तें लागू हो जाती हैं और रचना पर लेखकीय संयम और अनुशासन।’
कहना न होगा कि यह एक ऐसी कृति है जो न सिर्फ़ एक लेखक की बहुआयामी रचनाशीलता को समझने का अवसर जुटाती है, बल्कि समकालीन रचनात्मकता से जुड़े अनेक सवालों को भी हमारी चिन्ताओं में शामिल करती है। Hindi sahitya ke samkalin paridrishya par krishna sobti ek vishisht rachnakar ke rup mein samadrit hain. Ye kriti unke bahucharchit katha-sahitya, sansmarnon, rekhachitron, sakshatkaron aur kavitaon se ek chayan hai. Unke kuchh vicharottejak nibandhon ko bhi ismen rakha gaya hai. Iske saath hi ‘zindginama-2’ se kuchh mahattvpurn ansh bhi ismen shamil hain, jise ve abhi likh rahi hain. Ullekhniy hai ki apni vibhinn kathakritiyon ke madhyam se krishna sobti ne sanskriti, sanvedna aur bhasha-shilp ki drishti se hindi sahitya ko ek nai vyapakta prdan ki hai. Is sandarbh mein unki is manyta se sahmat hua ja sakta hai ki hindi agar kisi prdesh-vishesh ya dharm-varg ki bhasha nahin hai to use apne sanskar ko vyapak banana hoga. Vastut: unhonne bane-banaye sanche, chaukhte aur chauhad‌diyan har star par asvikar ki hain tatha rachna ke sath-sath svayan bhi ek naya janm liya hai. Unke liye rachnakar ki hi tarah rachna bhi ek jivit sachchai hai; uski bhi ek svayattta hai. Unhin ke shabdon mein kahen to ‘rachna na bahar ki prerna se upajti hai, na keval rachnakar ke mansik dabav aur tanav se. Rachna aur rachnakar—donon apni-apni svtantr satta mein ek-dusre ka atikrman karte hain aur ek ho jate hain. Isi ke saath lekhak par rachna ki sharten lagu ho jati hain aur rachna par lekhkiy sanyam aur anushasan. ’
Kahna na hoga ki ye ek aisi kriti hai jo na sirf ek lekhak ki bahuayami rachnashilta ko samajhne ka avsar jutati hai, balki samkalin rachnatmakta se jude anek savalon ko bhi hamari chintaon mein shamil karti hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products