Sitam Ki Intiha Kya Hai

Regular price Rs. 414
Sale price Rs. 414 Regular price Rs. 445
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Sitam Ki Intiha Kya Hai

Sitam Ki Intiha Kya Hai

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘सितम की इन्तिहा क्या है’ पुस्तक का स्थायी-भाव यह है कि मुक्ति-संग्राम की संघर्ष-यात्रा में क्या ‘शब्द’ की कोई असरदार भूमिका रही? इसका सीधा-सपाट उत्तर यही होगा कि नहीं। परन्तु ज़ब्तशुदा साहित्य का इतिहास इस राय की पुष्टि नहीं करता। उस दौर की केवल ज़ब्तशुदा नाट्य-कृतियों की सबल उपस्थिति ही चुनौती बनकर सामने मौजूद है। भारत के पहले ज़ब्तशुदा नाटक ‘नीलदर्पण’ (बांग्ला) अर्थात् शब्द की लिखित शक्ति ने ब्रिटिश शासन को सकते में डाल दिया; शब्द की वाचन-सम्भावनाओं—अर्थात् अभिनय द्वारा भावोत्तेजना उत्पन्न करना—का तो अनुमान लगाना कभी मुमकिन नहीं रहा। अभिनेता-निर्देशक गिरीश घोष जैसे कलाकारों की इस विलक्षण क्षमता से घबराई ब्रिटिश सरकार को ‘ड्रामैटिक परफ़ारमेंस एक्ट’ लागू करना पड़ा। इस पृष्ठभूमि में यह कहना अत्युक्ति न होगी कि ‘सितम की इन्तिहा क्या है’ दुर्लभ अभिलेखों की एक ऐसी महत्त्वपूर्ण पुस्तक है जिसमें एक अछूते विषय का पहली बार वस्तुनिष्ठ मूल्यांकन हुआ है।
इस पुस्तक की कुछ विशेषताएँ उल्लेखनीय हैं। इस पुस्तक में जिन सात ज़ब्तशुदा हिन्दी नाटकों को प्रकाशित किया जा रहा है, हिन्दी नाट्य-जगत उनका पहली बार साक्षात्कार करेगा; दूसरे, देश-विदेश से दुर्लभ अभिलेखों की खोज से मिली इन नाट्य-कृतियों, उनके लेखकों का यथेष्ट विश्लेषण एवं उन्हें हर पहलू से देखा-परखा गया है।
इस पुस्तक के पहले दो खंड इस मूल सवाल का सामना करते हैं कि इन मामूली लेखकों में इतनी विद्रोही-वृत्ति कैसे पैदा हुई कि उनकी कृतियों पर प्रतिबन्ध लगाने पड़े? व्यापक फलक पर इसका ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य प्रस्तुत करना आवश्यक था। 19वीं सदी और 20वीं सदी के 30 के दशक तक की 24 विप्लवधर्मी विभूतियों के उन विचारों या अवधारणाओं का आकलन भी इसमें किया गया है जिनमें अपने-अपने प्रकार से जीवन या समाज या राजनीति में आमूल बदलाव के आवेग या प्रतिकार या राजद्रोह की चिनगारियाँ थीं।
पुस्तक में समाहित तत्कालीन पत्रिकाओं-पुस्तकों में प्रयुक्त, मुखपृष्ठों, चित्रों, रेखांकनों की प्रस्तुति इसे और अधिक उपयोगी बनाती है। ‘sitam ki intiha kya hai’ pustak ka sthayi-bhav ye hai ki mukti-sangram ki sangharsh-yatra mein kya ‘shabd’ ki koi asardar bhumika rahi? iska sidha-sapat uttar yahi hoga ki nahin. Parantu zabtashuda sahitya ka itihas is raay ki pushti nahin karta. Us daur ki keval zabtashuda natya-kritiyon ki sabal upasthiti hi chunauti bankar samne maujud hai. Bharat ke pahle zabtashuda natak ‘nildarpan’ (bangla) arthat shabd ki likhit shakti ne british shasan ko sakte mein daal diya; shabd ki vachan-sambhavnaon—arthat abhinay dvara bhavottejna utpann karna—ka to anuman lagana kabhi mumkin nahin raha. Abhineta-nirdeshak girish ghosh jaise kalakaron ki is vilakshan kshamta se ghabrai british sarkar ko ‘dramaitik parfarmens ekt’ lagu karna pada. Is prishthbhumi mein ye kahna atyukti na hogi ki ‘sitam ki intiha kya hai’ durlabh abhilekhon ki ek aisi mahattvpurn pustak hai jismen ek achhute vishay ka pahli baar vastunishth mulyankan hua hai. Is pustak ki kuchh visheshtayen ullekhniy hain. Is pustak mein jin saat zabtashuda hindi natkon ko prkashit kiya ja raha hai, hindi natya-jagat unka pahli baar sakshatkar karega; dusre, desh-videsh se durlabh abhilekhon ki khoj se mili in natya-kritiyon, unke lekhkon ka yathesht vishleshan evan unhen har pahlu se dekha-parkha gaya hai.
Is pustak ke pahle do khand is mul saval ka samna karte hain ki in mamuli lekhkon mein itni vidrohi-vritti kaise paida hui ki unki kritiyon par pratibandh lagane pade? vyapak phalak par iska aitihasik pariprekshya prastut karna aavashyak tha. 19vin sadi aur 20vin sadi ke 30 ke dashak tak ki 24 viplavdharmi vibhutiyon ke un vicharon ya avdharnaon ka aaklan bhi ismen kiya gaya hai jinmen apne-apne prkar se jivan ya samaj ya rajniti mein aamul badlav ke aaveg ya pratikar ya rajadroh ki chingariyan thin.
Pustak mein samahit tatkalin patrikaon-pustkon mein pryukt, mukhprishthon, chitron, rekhanknon ki prastuti ise aur adhik upyogi banati hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products