Sita Nahin Mein

Regular price Rs. 295
Sale price Rs. 295 Regular price Rs. 295
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Sita Nahin Mein

Sita Nahin Mein

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हिन्दी में स्त्री कवियों की द्वितीय पीढ़ी में आभा बोधिसत्व का स्थान सर्वोपरि है। अपनी बिलकुल ताज़ा, मार्मिक एवं संश्लिष्ट कविताओं के लिए ख्यात आभा जी ने स्त्री कविता की प्रचलित रूढ़ियों और छवि को तोड़ते हुए नितान्त असूर्यमुपश्या जीवन वीथियों का सन्धान किया है और सर्वथा नवीन, अच्छिन्न अनुभवों को कविता की कक्षा में समादृत किया है। यहाँ जीवन का सम्पूर्ण वैभव विराजता है। प्रेम, संघर्ष, लोक जीवन के मोह और महानगर का सन्त्रास सब एक साथ सम्भव होते हैं। इसके पहले ऐसी विविधता विरल थी। आभा जी ने इस क्रम में न केवल अनाविल बिम्बों की सृष्टि की है बल्कि भावानुकूल लय और स्वर लहरियों का भी अन्वेषण किया है। गहरे इतिहास बोध ने उनके अनुभवों को अभूतपूर्व परिपक्वता दी है जो कई बार वरिष्ठ कवियों के लिए भी स्पृहणीय है। महत्त्वपूर्ण यह है कि उन्होंने कहीं भी स्त्री बोध को न तो छोड़ा है न वहाँ अतिरिक्त बलाघात डाला है। ऐसी सहजता और सरलता दुर्लभ है। आभा जी की कविताओं में घर-परिवार, बच्चे, पड़ोस तो है ही, यहाँ गहरी राजनीतिक चेतना और भारतीयता के उत्तमांश का रासायनिक विलयन है जो सम्पूर्ण भारतीय काव्य परम्परा में विरल और अप्रत्याशित है। आभा बोधिसत्व का यह पहला संग्रह सम्पूर्ण हिन्दी काव्य मानचित्र में एक नया क्षेत्र-रंग जोड़ेगा। जैसा कि सभी सहृदय पाठक स्वयं तस्दीक करेंगे, इस कविता पुस्तक को पटने का अर्थ है भारतीय कविता के कछ सर्वथा नवीन वारों को जानने-पहचानने का सौभाग्य। और यह भी कि अब स्त्री कविता वहाँ आ पहुँची है जहाँ कोई भी विशेषण अपर्याप्त सिद्ध होता है। अब यह कविता केवल कविता आभा बोधिसत्व इस पहले ही कविता संग्रह के साथ द्वन्दी कवियों की अग्रिम पंक्ति में अपना अधिकृत स्थान ण करेंगी। ऐसी आशा और विश्वास है। अरुण कमल hindi mein stri kaviyon ki dvitiy piDhi mein aabha bodhisatv ka sthaan sarvopari hai. apni bilkul taza, marmik evan sanshlisht kavitaon ke liye khyaat aabha ji ne stri kavita ki prachlit ruDhiyon aur chhavi ko toDte hue nitant asuryamupashya jivan vithiyon ka sandhan kiya hai aur sarvtha navin, achchhinn anubhvon ko kavita ki kaksha mein samadrit kiya hai. yahan jivan ka sampurn vaibhav virajta hai. prem, sangharsh, lok jivan ke moh aur mahangar ka santras sab ek saath sambhav hote hain. iske pahle aisi vividhta viral thi. aabha ji ne is kram mein na keval anavil bimbon ki srishti ki hai balki bhavanukul lay aur svar lahariyon ka bhi anveshan kiya hai. gahre itihas bodh ne unke anubhvon ko abhutpurv paripakvta di hai jo kai baar varishth kaviyon ke liye bhi sprihniy hai. mahattvpurn ye hai ki unhonne kahin bhi stri bodh ko na to chhoDa hai na vahan atirikt balaghat Dala hai. aisi sahajta aur saralta durlabh hai. aabha ji ki kavitaon mein ghar parivar, bachche, paDos to hai hi, yahan gahri rajnitik chetna aur bhartiyta ke uttmansh ka rasaynik vilyan hai jo sampurn bhartiy kavya parampra mein viral aur apratyashit hai. aabha bodhisatv ka ye pahla sangrah sampurn hindi kavya manchitr mein ek naya kshetr rang joDega. jaisa ki sabhi sahriday pathak svayan tasdik karenge, is kavita pustak ko patne ka arth hai bhartiy kavita ke kachh sarvtha navin varon ko janne pahchanne ka saubhagya. aur ye bhi ki ab stri kavita vahan aa pahunchi hai jahan koi bhi visheshan aparyapt siddh hota hai. ab ye kavita keval kavita aabha bodhisatv is pahle hi kavita sangrah ke saath dvandi kaviyon ki agrim pankti mein apna adhikrit sthaan na karengi. aisi aasha aur vishvas hai. arun kamal

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products