Look Inside
Shrilal Shukl : Vyangya Ke Vividh Aayam
Shrilal Shukl : Vyangya Ke Vividh Aayam

Shrilal Shukl : Vyangya Ke Vividh Aayam

Regular price Rs. 695
Sale price Rs. 695 Regular price Rs. 695
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Shrilal Shukl : Vyangya Ke Vividh Aayam

Shrilal Shukl : Vyangya Ke Vividh Aayam

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
श्रीलाल शुक्ल जी हिन्दी के उन अप्रतिम व्यंग्य शिल्पियों में से एक हैं, जिनके समूचे लेखन में व्यंग्यात्मकता धड़कन की तरह मौजूद है। उनकी बौद्धिक सघनता, वैचारिक ईमानदारी, संवेदनात्मक गहनता और प्रतिरोध की बेधक-मारक क्षमता उनके उपन्यासों- कहानियों एवं व्यंग्य निबन्धों में सहज ही दिखायी देती है। डॉ. अर्चना दुबे ने उनके समग्र साहित्य को खँगालते हुए उसमें व्यंग्य के विविध आयामों को बड़े ही श्रमपूर्वक विवेचित किया है। व्यंग्य वर्तमान रचनाधर्मिता का अनिवार्य अंग बन गया है। जब कोई सजग रचनाकार परिवेशगत विसंगतियों से अपनी असहमति व्यक्त करता हैं तो उसकी अभिव्यक्ति-शैली व्यंग्यात्मक हो ही जाती है। फिर आज का परिवेश तो इतनी विद्रूपताओं और विरोधाभासों से भरा है कि उनका अभिधात्मक उल्लेख भी व्यंग्य बनकर उभर आता है। इसलिए कहा जाता है कि प्रतिरोध का साहित्य आवश्यक रूप से व्यंग्यात्मक भले ही न हो लेकिन व्यंग्य-साहित्य आवश्यक रूप से प्रतिरोधात्मक होता है। प्रस्तुत कृति में डॉ. अर्चना दुबे का यही प्रयास रहा है कि समाज की जिन विद्रूपताओं तक शुक्ल जी की निगाह नहीं पहुँची है, उनका सम्यक् विवेचन करते हुए उनकी व्यंग्य दृष्टि को मूल्यांकित किया जाये। इस प्रकार वे सफल भी हैं। इस व्यंग्य-लेखन की परम्परा में शुक्ल जी के अवदान का सही मूल्यांकन करते हुए उन्होंने बदलती। सामाजिक-पारिवारिक स्थितियों, मूल्यों के विघटन, नारी जीवन की विसंगतियाँ, पूँजी और अपराध जगत के सम्बन्धों आदि पर शुक्ल जी की धारणाओं का बेबाक़ी से विवेचन किया है। राजनीतिक, प्रशासनिक भ्रष्टाचार, अफ़सरशाही तथा सत्ता की राजनीति में दिन-प्रतिदिन हो रहे अवमूल्यन के कारण आज का जीवन बहुत अधिक प्रभावित हुआ है। डॉ. दुबे ने इन स्थितियों को भी शुक्ल जी के साहित्य के आधार पर बड़ी कुशलता से विवेचित किया है। धर्म, संस्कृति एवं शिक्षा जगत् की विद्रूपताएँ भी इस विवेचन का एक महत्त्वपूर्ण अंग हैं। इस रूप में यह कृति श्रीलाल शुक्ल के साहित्य की सजग एवं वस्तुपरक पड़ताल करती हुई उनकी रचना-दृष्टि को समझने में उपयोगी सिद्ध हुई है। -डॉ. सतीश पाण्डेय shrilal shukl ji hindi ke un aprtim vyangya shilpiyon mein se ek hain, jinke samuche lekhan mein vyangyatmakta dhaDkan ki tarah maujud hai. unki bauddhik saghanta, vaicharik iimandari, sanvednatmak gahanta aur pratirodh ki bedhak marak kshamta unke upanyason kahaniyon evan vyangya nibandhon mein sahaj hi dikhayi deti hai. Dau. archna dube ne unke samagr sahitya ko khangalate hue usmen vyangya ke vividh ayamon ko baDe hi shrampurvak vivechit kiya hai. vyangya vartman rachnadharmita ka anivarya ang ban gaya hai. jab koi sajag rachnakar pariveshgat visangatiyon se apni asahamati vyakt karta hain to uski abhivyakti shaili vyangyatmak ho hi jati hai. phir aaj ka parivesh to itni vidruptaon aur virodhabhason se bhara hai ki unka abhidhatmak ullekh bhi vyangya bankar ubhar aata hai. isaliye kaha jata hai ki pratirodh ka sahitya avashyak roop se vyangyatmak bhale hi na ho lekin vyangya sahitya avashyak roop se pratirodhatmak hota hai.
prastut kriti mein Dau. archna dube ka yahi pryaas raha hai ki samaj ki jin vidruptaon tak shukl ji ki nigah nahin pahunchi hai, unka samyak vivechan karte hue unki vyangya drishti ko mulyankit kiya jaye. is prkaar ve saphal bhi hain. is vyangya lekhan ki parampra mein shukl ji ke avdan ka sahi mulyankan karte hue unhonne badalti. samajik parivarik sthitiyon, mulyon ke vightan, nari jivan ki visangatiyan, punji aur apradh jagat ke sambandhon aadi par shukl ji ki dharnaon ka bebaqi se vivechan kiya hai. rajnitik, prshasnik bhrashtachar, afasarshahi tatha satta ki rajniti mein din pratidin ho rahe avmulyan ke karan aaj ka jivan bahut adhik prbhavit hua hai. Dau. dube ne in sthitiyon ko bhi shukl ji ke sahitya ke adhar par baDi kushalta se vivechit kiya hai. dharm, sanskriti evan shiksha jagat ki vidruptayen bhi is vivechan ka ek mahattvpurn ang hain. is roop mein ye kriti shrilal shukl ke sahitya ki sajag evan vastuprak paDtal karti hui unki rachna drishti ko samajhne mein upyogi siddh hui hai.
Dau. satish panDey

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products