BackBack
-10%

Shrikrishna Ras

Vidyaniwas Mishr Edited by Collected by Dayanidhi Mishr

Rs. 595 Rs. 536

Vani Prakashan

श्रीकृष्ण शब्द में ही निहित है कि जो जहाँ है, वहाँ से खिंचे और जिस किसी देश-काल में वह है, उस दायरे से उसे बाहर निकाल दे, उसे न घर का रहने दे न घाट का! पर इतनी सब समझ के बावजूद श्रीकृष्ण की ओर खिंचना और खिंचते ही अपनी... Read More

Description

श्रीकृष्ण शब्द में ही निहित है कि जो जहाँ है, वहाँ से खिंचे और जिस किसी देश-काल में वह है, उस दायरे से उसे बाहर निकाल दे, उसे न घर का रहने दे न घाट का! पर इतनी सब समझ के बावजूद श्रीकृष्ण की ओर खिंचना और खिंचते ही अपनी पहचान खोना, एक ऐसी प्रक्रिया है जो हर भारतीय मन में घटे बिना नहीं रहती। किसी को भी श्रीकृष्ण पर विश्वास नहीं होता, बल्कि ठीक-ठाक कहें तो हर किसी को अविश्वास ही होता है कि वे कभी अपने नहीं होंगे। वे विश्वसनीय हैं ही नहीं। उनके हर एक कार्य-कलाप में कोई-न-कोई ऐसा भाव है कि सब कुछ घट जाने पर ही लगता है कि कुछ हुआ ही नहीं। श्रीकृष्ण-चरित में कुछ अलौकिक है ही नहीं, जितनी अलौकिकता है, वह सब एक खेल है। वे बचपन से ही कई ऐसे कार्य करते हैं जिन पर विश्वास नहीं होता, चाहे जन्मते ही अपने पैर से यमुना के प्रवाह को फिर शिथिल कर दिया हो, पूतना का दूध पीकर उसका सारा जश्हर, सारा द्वेष पी लिया हो। तृणावर्त के रूप में आयी हुई आँधी को जिसने दबोच लिया हो, छकड़ा बन करके आसुरी लीला करने वाले शकटासुर को तोड़-फोड़ कर रख दिया हो, एक के बाद दूसरे अनेक रूप धारण करने वाले असुरों को जिसने खेल-खेल में पछाड़ दिया हो, जिसने पूरे व्रज को अपनी शरारतों से परवश कर दिया हो, बायें हाथ की कानी उँगली पर गोवर्धन पर्वत उठा लिया हो और जो कालिया नाग के फनों के ऊपर थिरक-थिरक कर नाचा हो, उस बालक के ऊपर कौन विश्वास करेगा, कोई विश्वास करता भी हो, तो वह विश्वास हल्की-सी मुस्कान से धो देते हैं और मन में यह विश्वास भर देते हैं कि आश्चर्य तो घटित ही नहीं हुआ, ऐसा तो खेल में होता ही रहता है। shrikrishn shabd mein hi nihit hai ki jo jahan hai, vahan se khinche aur jis kisi desh kaal mein vah hai, us dayre se use bahar nikal de, use na ghar ka rahne de na ghaat kaa! par itni sab samajh ke bavjud shrikrishn ki or khinchna aur khinchte hi apni pahchan khona, ek aisi prakriya hai jo har bhartiy man mein ghate bina nahin rahti. kisi ko bhi shrikrishn par vishvas nahin hota, balki theek thaak kahen to har kisi ko avishvas hi hota hai ki ve kabhi apne nahin honge. ve vishvasniy hain hi nahin. unke har ek karya kalap mein koi na koi aisa bhaav hai ki sab kuchh ghat jane par hi lagta hai ki kuchh hua hi nahin. shrikrishn charit mein kuchh alaukik hai hi nahin, jitni alaukikta hai, vah sab ek khel hai. ve bachpan se hi kai aise karya karte hain jin par vishvas nahin hota, chahe janmte hi apne pair se yamuna ke prvaah ko phir shithil kar diya ho, putna ka doodh pikar uska sara jashhar, sara dvesh pi liya ho. trinavart ke roop mein aayi hui andhi ko jisne daboch liya ho, chhakDa ban karke asuri lila karne vale shaktasur ko toD phoD kar rakh diya ho, ek ke baad dusre anek roop dharan karne vale asuron ko jisne khel khel mein pachhaD diya ho, jisne pure vraj ko apni shararton se parvash kar diya ho, bayen haath ki kani ungali par govardhan parvat utha liya ho aur jo kaliya naag ke phanon ke uupar thirak thirak kar nacha ho, us balak ke uupar kaun vishvas karega, koi vishvas karta bhi ho, to vah vishvas halki si muskan se dho dete hain aur man mein ye vishvas bhar dete hain ki ashcharya to ghatit hi nahin hua, aisa to khel mein hota hi rahta hai.