BackBack
-11%

Shreshth Nibandh : Aacharya Ramchandra Shukla

Acharya Ramchandra Shukla, Ed. Ramchandra Tiwari

Rs. 250 Rs. 223

‘श्रेष्ठ निबन्ध’ आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के चुने हुए निबन्धों का संग्रह है—ऐसे निबन्ध जो उनके सभी प्रकार के निबन्धों का सही प्रतिनिधित्व करते हैं, साथ ही उनकी आचार्यसुलभ गरिमा को उद्भाषित भी करते हैं। इन्हें पढ़ने से यह स्पष्ट होता है कि आचार्य शुक्ल ने बौद्धिक एवं मनोवैज्ञानिक दृष्टि से... Read More

Description

‘श्रेष्ठ निबन्ध’ आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के चुने हुए निबन्धों का संग्रह है—ऐसे निबन्ध जो उनके सभी प्रकार के निबन्धों का सही प्रतिनिधित्व करते हैं, साथ ही उनकी आचार्यसुलभ गरिमा को उद्भाषित भी करते हैं। इन्हें पढ़ने से यह स्पष्ट होता है कि आचार्य शुक्ल ने बौद्धिक एवं मनोवैज्ञानिक दृष्टि से भारतीय रस-सिद्धान्त को पुनराख्यायित करते हुए काव्य की जिस विश्लेषणात्मक पद्धति का विकास किया, वह प्रासंगिकता की दृष्टि से आज भी कितनी महत्त्वपूर्ण है। उनकी निबन्ध-शैली की प्रायः सभी विशिष्टताओं की झलक इनमें मिल जाती है—चाहे वह उनकी विचारात्मकता हो या भावात्मकता अथवा व्यंग्यात्मकता। निबन्ध-रचना की दृष्टि से वह एक विचारक ही नहीं, बल्कि एक सहृदय रचनाकार के रूप में भी हमारे सामने प्रत्यक्ष हो उठते हैं।
ये श्रेष्ठ निबन्ध प्रस्तुत करते हुए डॉ. रामचन्द्र तिवारी ने इसके आरम्भ में एक उपयोगी भूमिका दी है जिसमें आग्रह-मुक्त भाव से उन्होंने आचार्य शुक्ल की वैचारिकता का विवेचन और रचना-दृष्टि का विश्लेषण किया है। ‘shreshth nibandh’ aacharya ramchandr shukl ke chune hue nibandhon ka sangrah hai—aise nibandh jo unke sabhi prkar ke nibandhon ka sahi pratinidhitv karte hain, saath hi unki aacharyasulabh garima ko udbhashit bhi karte hain. Inhen padhne se ye spasht hota hai ki aacharya shukl ne bauddhik evan manovaigyanik drishti se bhartiy ras-siddhant ko punrakhyayit karte hue kavya ki jis vishleshnatmak paddhati ka vikas kiya, vah prasangikta ki drishti se aaj bhi kitni mahattvpurn hai. Unki nibandh-shaili ki prayः sabhi vishishttaon ki jhalak inmen mil jati hai—chahe vah unki vicharatmakta ho ya bhavatmakta athva vyangyatmakta. Nibandh-rachna ki drishti se vah ek vicharak hi nahin, balki ek sahriday rachnakar ke rup mein bhi hamare samne pratyaksh ho uthte hain. Ye shreshth nibandh prastut karte hue dau. Ramchandr tivari ne iske aarambh mein ek upyogi bhumika di hai jismen aagrah-mukt bhav se unhonne aacharya shukl ki vaicharikta ka vivechan aur rachna-drishti ka vishleshan kiya hai.