Shobha Yatra

Regular price Rs. 279
Sale price Rs. 279 Regular price Rs. 300
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Shobha Yatra

Shobha Yatra

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सीधी सरल शब्दावली और सहज बिम्बों में सामाजिक यथार्थ की जटिल विडम्बनाओं को अभिव्यक्त करनेवाली भीष्म साहनी की कहानियाँ आज क्लासिक रचनाओं की श्रेणी में आती हैं।
1981 में पहली बार प्रकाशित उनका यह कहानी-संग्रह अपनी मूल्यपरक अर्थवत्ता और वैचारिक निष्ठा के चलते विशेष तौर पर सराहा गया था।
‘शोभायात्रा’ की इन कहानियों में 'फ़ैसला' के जज शुक्ला जी हों या 'रामचन्दानी' के रिटायर्ड अफ़सर रामचन्दानी—सही आदमी इस व्यवस्था में बराबर अव्यावहारिक और उपहास का विषय है। 'निमित्त' में यदि भाग्य और भगवान को ही कारण माननेवाले 'निमित्त मात्रों' की क्रूरता और चालाकी का कलात्मक खुलासा हुआ है तो 'शोभायात्रा' सत्ता के 'अहिंसा परमो धर्म' रूपी ढोंग को उघाड़ती है। दूसरी ओर 'खिलौने' जैसी कहानी है, जिसमें बच्चे और खिलौने के माध्यम से आधुनिक जीवन की भयावह कैरियरिस्ट संवेदनहीनता का मार्मिक चित्रण हुआ है।
वस्तुगत यथार्थ और उसका दृष्टि-सम्पन्न चित्रण, यही इस संग्रह की कहानियों की विशेषता है जिसके कारण इन्हें दशकों से एक ही लगाव के साथ पढ़ा जाता रहा है। Sidhi saral shabdavli aur sahaj bimbon mein samajik yatharth ki jatil vidambnaon ko abhivyakt karnevali bhishm sahni ki kahaniyan aaj klasik rachnaon ki shreni mein aati hain. 1981 mein pahli baar prkashit unka ye kahani-sangrah apni mulyaprak arthvatta aur vaicharik nishtha ke chalte vishesh taur par saraha gaya tha.
‘shobhayatra’ ki in kahaniyon mein faisla ke jaj shukla ji hon ya ramchandani ke ritayard afsar ramchandani—sahi aadmi is vyvastha mein barabar avyavharik aur uphas ka vishay hai. Nimitt mein yadi bhagya aur bhagvan ko hi karan mannevale nimitt matron ki krurta aur chalaki ka kalatmak khulasa hua hai to shobhayatra satta ke ahinsa parmo dharm rupi dhong ko ughadti hai. Dusri or khilaune jaisi kahani hai, jismen bachche aur khilaune ke madhyam se aadhunik jivan ki bhayavah kairiyrist sanvedanhinta ka marmik chitran hua hai.
Vastugat yatharth aur uska drishti-sampann chitran, yahi is sangrah ki kahaniyon ki visheshta hai jiske karan inhen dashkon se ek hi lagav ke saath padha jata raha hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products