Look Inside
Shilp Aur Samaj
Shilp Aur Samaj

Shilp Aur Samaj

Regular price ₹ 350
Sale price ₹ 350 Regular price ₹ 350
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Shilp Aur Samaj

Shilp Aur Samaj

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
शिल्प और समाज - समकालीनता और साहित्य की बहुवस्तुस्पर्शी परिधि में ऐसे अनेक मूलगामी मुद्दे और बहसें शामिल रही हैं जिन पर विगत पूरी शताब्दी में विचार किया जाता रहा है। समकालीनता को अक्सर जिस सँकरे देशकाल में सीमित और परिभाषित कर देखा जाता रहा है, अजय तिवारी 'शिल्प और समाज' के आयतन में उसे एक अलग और कालव्यापी आयाम देते हैं। साहित्य स्वप्न और गति से लेकर लोकतन्त्र, जनसमाज, साहित्य की समकालीनता व प्रयोजनीयता और साहित्य व बाज़ार के समय के साथ उन्होंने साहित्य के विराट और उदात्त को पहचानने का यत्न किया है। कविता सदैव एक बेहतर दुनिया का सपना देखती आयी है, यह आलोचक की आँखों से ओझल नहीं है। किन्तु समग्रतः वह शिल्प और रचना के रिश्ते की तलाश के लिए अनुभव- अनुभूति-भाषा-रूप-वस्तु-अन्तर्वस्तु-शैली और कला के पारस्परिक अन्तर्सम्बन्धों की पड़ताल करता है। अजय तिवारी ने 'शिल्प और समाज' में यही किया है। अजय तिवारी ने साहित्य में आगत अस्मितवादी विमर्शों और मुद्दों के आलोक में सौन्दर्य और शिल्प के मापदण्डों की विवेचना की है। उत्तर सोवियत विश्व में पूँजी और साम्राज्यवाद के प्रति खुले और बेझिझक समर्थन के इस दौर में उन्होंने युवा, दलित, स्त्री, लोक और अल्पसंख्यकों के प्रति साहित्य और कला रूपों में शिल्प और वस्तु के बनते व परिवर्तित होते स्वरूप की चर्चा की है। 'समकालीनता और साहित्य' तथा 'स्मृति में बसा राष्ट्र' दो खण्डों में उपनिबद्ध इस पुस्तक की आन्तरिक संरचना में एक ऐसी लय और संहति है जिससे गुज़रते हुए न केवल हिन्दी साहित्य की बल्कि एकध्रुवीय होते विश्व की आन्तरिक जटिलताओं का परिचय भी मिल जाता है। अपने वैचारिक आग्रहों को न छुपाते हुए यहाँ तिवारी ने वाम आन्दोलन में आती पस्ती के प्रति विक्षोम भी व्यक्ति किया है। अजय तिवारी ऐसे आलोचकों में हैं जिन्होंने सत्ता प्रतिष्ठानों को मानवीय नियति का उद्धारक मानने के किसी भी संगठित-असंगठित प्रत्यनों के ख़िलाफ़ आवाज़ उठायी है और यह जताया है कि किसी भी समय में साहित्य ही सबसे बड़ी ताक़त रहा है और आज भी वही सत्ता का अपरिहार्य प्रतिपक्ष है।—ओम निश्चल shilp aur samajsamkalinta aur sahitya ki bahuvastusparshi paridhi mein aise anek mulgami mudde aur bahsen shamil rahi hain jin par vigat puri shatabdi mein vichar kiya jata raha hai. samkalinta ko aksar jis sankare deshkal mein simit aur paribhashit kar dekha jata raha hai, ajay tivari shilp aur samaj ke aytan mein use ek alag aur kalavyapi ayam dete hain. sahitya svapn aur gati se lekar loktantr, janasmaj, sahitya ki samkalinta va pryojniyta aur sahitya va bazar ke samay ke saath unhonne sahitya ke virat aur udatt ko pahchanne ka yatn kiya hai. kavita sadaiv ek behtar duniya ka sapna dekhti aayi hai, ye alochak ki ankhon se ojhal nahin hai. kintu samagratः vah shilp aur rachna ke rishte ki talash ke liye anubhav anubhuti bhasha roop vastu antarvastu shaili aur kala ke parasprik antarsambandhon ki paDtal karta hai. ajay tivari ne shilp aur samaj mein yahi kiya hai.
ajay tivari ne sahitya mein aagat asmitvadi vimarshon aur muddon ke aalok mein saundarya aur shilp ke mapdanDon ki vivechna ki hai. uttar soviyat vishv mein punji aur samrajyvad ke prati khule aur bejhijhak samarthan ke is daur mein unhonne yuva, dalit, stri, lok aur alpsankhykon ke prati sahitya aur kala rupon mein shilp aur vastu ke bante va parivartit hote svroop ki charcha ki hai. samkalinta aur sahitya tatha smriti mein basa raashtr do khanDon mein upanibaddh is pustak ki antrik sanrachna mein ek aisi lay aur sanhati hai jisse guzarte hue na keval hindi sahitya ki balki ekadhruviy hote vishv ki antrik jatiltaon ka parichay bhi mil jata hai. apne vaicharik agrhon ko na chhupate hue yahan tivari ne vaam andolan mein aati pasti ke prati vikshom bhi vyakti kiya hai.
ajay tivari aise alochkon mein hain jinhonne satta prtishthanon ko manviy niyati ka uddharak manne ke kisi bhi sangthit asangthit pratynon ke khilaf avaz uthayi hai aur ye jataya hai ki kisi bhi samay mein sahitya hi sabse baDi taqat raha hai aur aaj bhi vahi satta ka apariharya pratipaksh hai. —om nishchal

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products