Shesh Yatra

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Shesh Yatra

Shesh Yatra

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अनु प्रणव के अपने फ़ैसले का शिकार हुई, वरना वैसा घर, वैसा वर न तो उसके सपनों में था, न सामर्थ्य में। गली-मोहल्लों वाले क़स्बाई परिवार से निकलकर वह लड़की अचानक अमेरिका जा बसी—डॉ. प्रणवकुमार की परिणीता बनकर। सब कुछ जैसे पलक झपकते बदल गया—घर-परिवेश, रहन-सहन, खान-पान। अनु ने बड़ी मुश्किल से अपने को सँभाला और प्रणव की आकांक्षाओं, रुचियों के अनुरूप ढाल लिया। दिन-दिन डूबती चली गई प्यार की गहराइयों में। लेकिन शीघ्र ही उसे लगने लगा कि वह वहाँ अकेली है। प्रणव की तो छाया तक उन गहराइयों में नहीं। वह तो मात्र तैराक है—भावमयी लहरों को रौंदकर प्रसन्न होनेवाला एक महत्त्वाकांक्षी और अस्थिर पुरुष।
ठगी गई अनु अपनी सुन्दरता, अपने संस्कार और सहज विश्वासी मन से। लेकिन आत्महत्या वह नहीं करेगी। टूट-बिखरकर भी जोड़ने की कोशिश करेगी स्वयं को, क्योंकि दलित-आश्रित रहना ही नारी-जीवन का यथार्थ नहीं है। यथार्थ है उसकी निजता और स्वावलम्बन।
विरल कथाकार उषा प्रियम्वदा की अनु वस्तुतः नारी-मन की समस्त कोमलताओं के बावजूद उसके जागते स्वाभिमान और कठोर जीवन-संघर्ष का प्रतीक है, जिसे इस उपन्यास में गहरी आत्मीयता से उकेरा गया है। उच्च-मध्यवर्गीय प्रवासी भारतीय समाज यहाँ अपने तमाम अन्तर्विरोधों, व्यामोहों और कुंठाओं के साथ मौजूद है। अनु, प्रणव, दिव्या और दीपांकर जैसे पात्रों का लेखिका ने जिस गहन अन्तरंगता से चित्रण किया है, उससे वे पाठकीय अनुभव का अविस्मरणीय अंग बन जाते हैं। Anu prnav ke apne faisle ka shikar hui, varna vaisa ghar, vaisa var na to uske sapnon mein tha, na samarthya mein. Gali-mohallon vale qasbai parivar se nikalkar vah ladki achanak amerika ja basi—dau. Pranavakumar ki parinita bankar. Sab kuchh jaise palak jhapakte badal gaya—ghar-parivesh, rahan-sahan, khan-pan. Anu ne badi mushkil se apne ko sanbhala aur prnav ki aakankshaon, ruchiyon ke anurup dhal liya. Din-din dubti chali gai pyar ki gahraiyon mein. Lekin shighr hi use lagne laga ki vah vahan akeli hai. Prnav ki to chhaya tak un gahraiyon mein nahin. Vah to matr tairak hai—bhavamyi lahron ko raundkar prsann honevala ek mahattvakankshi aur asthir purush. Thagi gai anu apni sundarta, apne sanskar aur sahaj vishvasi man se. Lekin aatmhatya vah nahin karegi. Tut-bikharkar bhi jodne ki koshish karegi svayan ko, kyonki dalit-ashrit rahna hi nari-jivan ka yatharth nahin hai. Yatharth hai uski nijta aur svavlamban.
Viral kathakar usha priyamvda ki anu vastutः nari-man ki samast komaltaon ke bavjud uske jagte svabhiman aur kathor jivan-sangharsh ka prtik hai, jise is upanyas mein gahri aatmiyta se ukera gaya hai. Uchch-madhyvargiy prvasi bhartiy samaj yahan apne tamam antarvirodhon, vyamohon aur kunthaon ke saath maujud hai. Anu, prnav, divya aur dipankar jaise patron ka lekhika ne jis gahan antrangta se chitran kiya hai, usse ve pathkiy anubhav ka avismarniy ang ban jate hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products