Sharmnak

Regular price Rs. 116
Sale price Rs. 116 Regular price Rs. 125
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Sharmnak

Sharmnak

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

बांग्लादेश के आठवें संसदीय चुनाव के दौरान और उसके तुरन्त बाद वहाँ के हिन्दू समुदाय पर अत्याचार-उत्पीड़न का जो दौर चला, सलाम आज़ाद की यह औपन्यासिक कृति उसी का दस्तावेज़ है। बांग्लादेश बनने के बाद वहाँ के हिन्दू कई बार अत्याचार के शिकार हुए हैं लेकिन इस बार सुनियोजित ढंग से उन पर अत्याचार-उत्पीड़न का जो चक्र चला, उसके आगे पिछली घटनाएँ नगण्य हैं। बांग्लादेश से हिन्दुओं को नेस्तनाबूद कर वहाँ उग्र इस्लामी तथा तालिबानी राजसत्ता क़ायम करने के मक़सद से इस्लामी कट्टरपंथियों की मदद से बने चार दलीय गठबन्धन की छत्रच्छाया में हिन्दू नागरिकों पर चौतरफ़ा अत्याचार किया गया। पिता के सामने बेटी के साथ और माँ-बेटी को पास-पास रखकर बलात्कार किया गया। बलात्कारियों की पाशविकता से सात साल की बच्ची से लेकर साठ साल की वृद्धा तक को रिहाई नहीं मिली। लेकिन क्यों और कहाँ से आई यह बर्बरता? एक समुदाय के ख़िलाफ़ क्यों चला यह अत्याचार का दौर?—इसी का जवाब ढूँढ़ा गया है इस उपन्यास में। Bangladesh ke aathven sansdiy chunav ke dauran aur uske turant baad vahan ke hindu samuday par atyachar-utpidan ka jo daur chala, salam aazad ki ye aupanyasik kriti usi ka dastavez hai. Bangladesh banne ke baad vahan ke hindu kai baar atyachar ke shikar hue hain lekin is baar suniyojit dhang se un par atyachar-utpidan ka jo chakr chala, uske aage pichhli ghatnayen naganya hain. Bangladesh se hinduon ko nestnabud kar vahan ugr islami tatha talibani rajsatta qayam karne ke maqsad se islami kattarpanthiyon ki madad se bane char daliy gathbandhan ki chhatrachchhaya mein hindu nagarikon par chautarfa atyachar kiya gaya. Pita ke samne beti ke saath aur man-beti ko pas-pas rakhkar balatkar kiya gaya. Balatkariyon ki pashavikta se saat saal ki bachchi se lekar saath saal ki vriddha tak ko rihai nahin mili. Lekin kyon aur kahan se aai ye barbarta? ek samuday ke khilaf kyon chala ye atyachar ka daur?—isi ka javab dhundha gaya hai is upanyas mein.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products