Look Inside
Shanti ka samar
Shanti ka samar
Shanti ka samar
Shanti ka samar

Shanti ka samar

Regular price Rs. 88
Sale price Rs. 88 Regular price Rs. 95
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Shanti ka samar

Shanti ka samar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारत और पाकिस्तान के सम्बन्धों में भावनाओं, विचारों और सन्देहों का एक बड़ा-सा जंजाल आज़ादी के समय से फैला हुआ है, जो समय–समय पर टकराव की स्थिति पैदा कर देता है। इस पुस्तक में इस जंजाल की छानबीन गहरे धीरज और इस आशा के साथ की गई है कि दोनों देश अपनी–अपनी राष्ट्रीय अस्मिताओं को बनाए रखते हुए शान्ति के एक नए दक्षिण एशियाई सन्दर्भ की रचना कर सकते हैं।
महात्मा गांधी की हत्या से लेकर कश्मीर–समस्या और विश्व स्तर पर उभरे अस्मिताओं के संघर्ष तक अनेक विषयों की पड़ताल करते हुए लेखक ने कई महत्त्वपूर्ण प्रश्नों पर विचार किया है : राष्ट्रपिता की हत्या क्यों हुई? विभाजन के इतिहास को अनुभूति के स्तर पर आज किस तरह देखा जाए? गांधी और जिन्ना की विरासतें आज तक हमें किस तरह प्रभावित करती रही हैं? आदि प्रश्नों की मदद से यह पुस्तक हमें विचारोत्तेजक समाधि की अवस्था में ले जाती है।
इसे पढ़ते हुए हम शान्ति की सम्भावना को लेकर एक नई तरह का तर्क रचने की प्रेरणा पाते हैं जिसका आधार बीते हुए कल की रूमानी यादों में न हो। दक्षिण एशिया में सामूहिक शान्ति के पक्ष में सहमति बनाने के सिलसिले में यह पुस्तक बच्चों और युवाओं की शिक्षा के अलावा मीडिया की भूमिका पर भी रोशनी डालती है। Bharat aur pakistan ke sambandhon mein bhavnaon, vicharon aur sandehon ka ek bada-sa janjal aazadi ke samay se phaila hua hai, jo samay–samay par takrav ki sthiti paida kar deta hai. Is pustak mein is janjal ki chhanbin gahre dhiraj aur is aasha ke saath ki gai hai ki donon desh apni–apni rashtriy asmitaon ko banaye rakhte hue shanti ke ek ne dakshin eshiyai sandarbh ki rachna kar sakte hain. Mahatma gandhi ki hatya se lekar kashmir–samasya aur vishv star par ubhre asmitaon ke sangharsh tak anek vishyon ki padtal karte hue lekhak ne kai mahattvpurn prashnon par vichar kiya hai : rashtrapita ki hatya kyon hui? vibhajan ke itihas ko anubhuti ke star par aaj kis tarah dekha jaye? gandhi aur jinna ki virasten aaj tak hamein kis tarah prbhavit karti rahi hain? aadi prashnon ki madad se ye pustak hamein vicharottejak samadhi ki avastha mein le jati hai.
Ise padhte hue hum shanti ki sambhavna ko lekar ek nai tarah ka tark rachne ki prerna pate hain jiska aadhar bite hue kal ki rumani yadon mein na ho. Dakshin eshiya mein samuhik shanti ke paksh mein sahamati banane ke silasile mein ye pustak bachchon aur yuvaon ki shiksha ke alava midiya ki bhumika par bhi roshni dalti hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products