Shakkar

Regular price Rs. 161
Sale price Rs. 161 Regular price Rs. 174
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Shakkar

Shakkar

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

सुप्रसिद्ध समाजवादी चिन्तक और अप्रतिम नेता ई.एम.एस. नम्बूदिरिपाद के शब्दों में, चिन्नप्‍प भारती ने अपने पूर्ववर्ती उपन्यास ‘संगम’ और ‘दाहम’ में किसानों के हृदय में पनप रही वर्ग-चेतना और संगठन-बोध की जिस बेल को पल्लवित होते दिखाया था, ‘शक्कर’ में आकर वह परवान चढ़ जाती है। इस रचना में वर्ग-संघर्ष और क्रान्ति के सिद्धान्त को परिभाषित करते हुए एक सुलझी हुई रणनीति प्रस्तुत की गई है।
दो भागों में विभक्त इस उपन्यास का कथानक रोचक और सुगठित है। मिल-मालिक और मज़दूरों के संघर्ष और टकराव में मेहनतकश किसानों की भूमिका को रेखांकित करना कृषि-प्रधान देश भारत की यथार्थ परिस्थितियों के नितान्त अनुरूप है। अंग्रेज़ सरकार की फूट डालकर राज करने की नीति को अपनाते हुए चीनी मिल-मालिक मज़दूर यूनियन के प्रयासों को नाकाम करने के लिए पुत्र के नेतृत्व में समान्तर यूनियन बनाकर किसानों को मज़दूरों के ख़िलाफ़ बरगलाता है। हड़ताल के पहले चरण में किसानों का संघ मज़दूरों के ख़िलाफ़ लड़ता है। इस टकराव में यूनियन नेता कन्दसामी घायल होकर अस्पताल में भर्ती हो जाते हैं। उन्हें अस्थायी रूप से निलम्बित किया जाता है। नेता-विहीन मज़दूर-यूनियन की बागडोर सँभालने के लिए युवा नेता वीरन आगे आता है। कन्दसामी द्वारा यूनियन गतिविधियों में प्रशिक्षित वीरन मज़दूरों और किसानों को संगठित करके उन्हें वर्ग-संघर्ष की ओर प्रेरित करता है। इस बीच यूनियन का चुनाव आता है जिसमें उम्मीदवार के रूप में खड़े नेता को मज़दूरों और प्रबन्ध के सहयोग की आवश्यकता होती है। इस प्रयास के चलते एक समझौता होता है जिसमें मज़दूरों की ज़्यादातर माँगे मंजूर कर ली जाती हैं और कन्दसामी को नौकरी पर बहाल किया जाता है।
इस प्रधान कथा के अन्दर एक रोमांटिक उपकथा भी है। कन्दसामी की बहन और युवा मज़दूर नेता वीरन के बीच अंकुरित प्रेम अन्त में विवाह में परिणत होता है।
‘शक्कर’ उपन्यास में चिन्नप्‍प भारती ने मालिक-मज़दूर के बीच हो रहे टकराव का तर्कपूर्ण विश्लेषण किया है। यही नहीं, इस उपन्यास में मज़दूरों की क्रान्ति के सिद्धान्त को वास्तविकता के धरातल पर परिभाषित करके एक सुलझी हुई रणनीति को रूप देने में भारती को पूरी कामयाबी मिली है। Suprsiddh samajvadi chintak aur aprtim neta ii. Em. Es. Nambudiripad ke shabdon mein, chinnap‍pa bharti ne apne purvvarti upanyas ‘sangam’ aur ‘daham’ mein kisanon ke hriday mein panap rahi varg-chetna aur sangthan-bodh ki jis bel ko pallvit hote dikhaya tha, ‘shakkar’ mein aakar vah parvan chadh jati hai. Is rachna mein varg-sangharsh aur kranti ke siddhant ko paribhashit karte hue ek suljhi hui ranniti prastut ki gai hai. Do bhagon mein vibhakt is upanyas ka kathanak rochak aur sugthit hai. Mil-malik aur mazduron ke sangharsh aur takrav mein mehanatkash kisanon ki bhumika ko rekhankit karna krishi-prdhan desh bharat ki yatharth paristhitiyon ke nitant anurup hai. Angrez sarkar ki phut dalkar raaj karne ki niti ko apnate hue chini mil-malik mazdur yuniyan ke pryason ko nakam karne ke liye putr ke netritv mein samantar yuniyan banakar kisanon ko mazduron ke khilaf baraglata hai. Hadtal ke pahle charan mein kisanon ka sangh mazduron ke khilaf ladta hai. Is takrav mein yuniyan neta kandsami ghayal hokar asptal mein bharti ho jate hain. Unhen asthayi rup se nilambit kiya jata hai. Neta-vihin mazdur-yuniyan ki bagdor sanbhalane ke liye yuva neta viran aage aata hai. Kandsami dvara yuniyan gatividhiyon mein prshikshit viran mazduron aur kisanon ko sangthit karke unhen varg-sangharsh ki or prerit karta hai. Is bich yuniyan ka chunav aata hai jismen ummidvar ke rup mein khade neta ko mazduron aur prbandh ke sahyog ki aavashyakta hoti hai. Is pryas ke chalte ek samjhauta hota hai jismen mazduron ki zyadatar mange manjur kar li jati hain aur kandsami ko naukri par bahal kiya jata hai.
Is prdhan katha ke andar ek romantik upaktha bhi hai. Kandsami ki bahan aur yuva mazdur neta viran ke bich ankurit prem ant mein vivah mein parinat hota hai.
‘shakkar’ upanyas mein chinnap‍pa bharti ne malik-mazdur ke bich ho rahe takrav ka tarkpurn vishleshan kiya hai. Yahi nahin, is upanyas mein mazduron ki kranti ke siddhant ko vastavikta ke dharatal par paribhashit karke ek suljhi hui ranniti ko rup dene mein bharti ko puri kamyabi mili hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products