Look Inside
Shadi Se Peshtar
Shadi Se Peshtar
Shadi Se Peshtar
Shadi Se Peshtar

Shadi Se Peshtar

Regular price Rs. 103
Sale price Rs. 103 Regular price Rs. 111
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Shadi Se Peshtar

Shadi Se Peshtar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

शादी, ख़ासकर लड़कियों की एक कठिन, जटिल और अत्याधुनिक समस्या बनती जा रही है। वह जीवन का एक मुक़ाम है, परम और चरम लक्ष्य नहीं, ऐसी प्रतीति पढ़ी-लिखी और तथाकथित आधुनिक लड़की को भी नहीं हो पाती, क्योंकि बहुत कुछ बदलने के बावजूद समाज जस का तस रह गया है। जींस पहननेवाली बाल-कटी लड़की राहगीरों को भले ही आज़ाद, खिलंदड़ और कभी-कभी लड़का तक होने का आभास दे या भ्रम पैदा करे, लेकिन उसकी और उसके संकटग्रस्त माता-पिता की तलाश अच्छा-सा लड़का और ठीक-ठाक घर ढूँढ़ने से आगे नहीं जा पाती। यह तलाश एक अथक और जानलेवा प्रयत्न बन जाती है और बार-बार असफल होने पर एक ऐसी प्रतीक्षा का रूप ले लेती है, जो तरह-तरह के भय, नए-नए नुस्ख़े आज़माने, ज्योतिषियों के चक्कर लगाने और समय को भरने के दबाव पैदा करती रहती है। जब तक शादी न हो तब तक लड़की क्या करे?
‘शादी से पेशतर’ की कई लड़कियों में एक डेज़ी कहती है, ‘‘कुछ सोचो मत बस करती चली जाओ।’’ क्या करती चली जाओ? नए-नए कोर्स—ब्यूटीशियन बनने के, कम्प्यूटर विशेषज्ञ बनने के, इंटीरियर डेकोरेटर बनने के और न जाने क्या-क्या। इस करते जाने के पीछे एक धुँधला-सा संकेत अपने पैरों पर खड़े होने का भी ज़रूर रहता है, लेकिन वह शादी को ही ‘मोक्ष’ मानने के कारण ठोस रूप ग्रहण नहीं कर पाता। ‘शादी से पेशतर’ हमें एक ऐसे अन्तःपुर के एकदम भीतर ले जाता है, जिसकी विदीर्णता का हम अनुमान भी नहीं लगा पाते क्योंकि हमें जो दिखाई पड़ता है, उसी को देख रहे होते हैं। यह एक ऐसा कोलाज़नुमा लघु उपन्यास है जो सरसरी दृष्टि से पढ़ने पर सतह पर ही तैरता मालूम पड़ता है, पर ध्यान देने पर यह बताता है कि सतह सिर्फ़ सतही नहीं होती, उसमें नीचे गहराई और डूब भी रहती है।
लेखिका बिना किसी लेखकीय टिप्पणी और गुरुगम्भीरता के शादी का इन्तज़ार करती हुई लड़कियों से हमारी इस तरह मुलाक़ात करवाती है कि हम परेशानी महसूस करने लगते हैं। वह हमें लड़की देखने आए लोगों में बैठा देती है। Shadi, khaskar ladakiyon ki ek kathin, jatil aur atyadhunik samasya banti ja rahi hai. Vah jivan ka ek muqam hai, param aur charam lakshya nahin, aisi prtiti padhi-likhi aur tathakthit aadhunik ladki ko bhi nahin ho pati, kyonki bahut kuchh badalne ke bavjud samaj jas ka tas rah gaya hai. Jins pahannevali bal-kati ladki rahgiron ko bhale hi aazad, khilandad aur kabhi-kabhi ladka tak hone ka aabhas de ya bhram paida kare, lekin uski aur uske sanktagrast mata-pita ki talash achchha-sa ladka aur thik-thak ghar dhundhane se aage nahin ja pati. Ye talash ek athak aur janleva pryatn ban jati hai aur bar-bar asphal hone par ek aisi prtiksha ka rup le leti hai, jo tarah-tarah ke bhay, ne-ne nuskhe aazmane, jyotishiyon ke chakkar lagane aur samay ko bharne ke dabav paida karti rahti hai. Jab tak shadi na ho tab tak ladki kya kare?‘shadi se peshtar’ ki kai ladakiyon mein ek dezi kahti hai, ‘‘kuchh socho mat bas karti chali jao. ’’ kya karti chali jao? ne-ne kors—byutishiyan banne ke, kampyutar visheshagya banne ke, intiriyar dekoretar banne ke aur na jane kya-kya. Is karte jane ke pichhe ek dhundhala-sa sanket apne pairon par khade hone ka bhi zarur rahta hai, lekin vah shadi ko hi ‘moksh’ manne ke karan thos rup grhan nahin kar pata. ‘shadi se peshtar’ hamein ek aise antःpur ke ekdam bhitar le jata hai, jiski vidirnta ka hum anuman bhi nahin laga pate kyonki hamein jo dikhai padta hai, usi ko dekh rahe hote hain. Ye ek aisa kolazanuma laghu upanyas hai jo sarasri drishti se padhne par satah par hi tairta malum padta hai, par dhyan dene par ye batata hai ki satah sirf sathi nahin hoti, usmen niche gahrai aur dub bhi rahti hai.
Lekhika bina kisi lekhkiy tippni aur gurugambhirta ke shadi ka intzar karti hui ladakiyon se hamari is tarah mulaqat karvati hai ki hum pareshani mahsus karne lagte hain. Vah hamein ladki dekhne aae logon mein baitha deti hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products