Look Inside
Shabdon Ka Safar : Vol. 3
Shabdon Ka Safar : Vol. 3
Shabdon Ka Safar : Vol. 3
Shabdon Ka Safar : Vol. 3

Shabdon Ka Safar : Vol. 3

Regular price Rs. 739
Sale price Rs. 739 Regular price Rs. 795
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Shabdon Ka Safar : Vol. 3

Shabdon Ka Safar : Vol. 3

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

शब्दों में ज्योति है...इंसान के पास शब्द ना होते तो इंसान का रिश्ता भी संसार के साथ वैसा ही होता जैसाकि जानवर का होता है। आचार्य दंडी को याद करें, ‘शब्दों की ज्योति न होती तो तीनों लोक अँधियारे होते’। शब्दों में ज्योति है क्योंकि उनका अपना एक जीवन है। कहाँ से शुरू होकर कहाँ तक जाता है, एक-एक शब्द का सफ़र! कैसे-कैसे अर्थ भरते जाते हैं शब्द में!
हिन्दी की जीवन्तता का सबसे बड़ा कारण यह है कि इस भाषा ने संकीर्ण शुद्धतावाद को संस्कार कभी नहीं बनने दिया। न जाने कहाँ-कहाँ से आए शब्दों को हिन्दी ने अपनाया है। हिन्दी शब्दों के सफ़र को जानना हिन्दी भाषा के विकास के साथ-साथ हिन्दी समाज के मिज़ाज को भी जानना है।
अजित वडनेरकर कई वर्षों से शब्दों के इस रोमांचक सफ़र में हम सबको शामिल करते रहे हैं। कमाल की सूझ-बूझ है उनकी और कमाल की मेहनत। कहने का अन्दाज़ निराला। ‘शब्दों का सफ़र’ कितने रोचक, प्रामाणिक और विश्वसनीय ढंग से एक-एक शब्द के विकास-क्रम और अन्य शब्दों के साथ उसके सम्बन्ध को पाठक के सामने रखता है, यह पढ़कर ही जाना जा सकता है। सफ़र के इस तीसरे पड़ाव पर उन्हें बधाई और साथ ही शुक्रिया भी।
—डॉ. पुरुषोत्तम अग्रवाल Shabdon mein jyoti hai. . . Insan ke paas shabd na hote to insan ka rishta bhi sansar ke saath vaisa hi hota jaisaki janvar ka hota hai. Aacharya dandi ko yaad karen, ‘shabdon ki jyoti na hoti to tinon lok andhiyare hote’. Shabdon mein jyoti hai kyonki unka apna ek jivan hai. Kahan se shuru hokar kahan tak jata hai, ek-ek shabd ka safar! kaise-kaise arth bharte jate hain shabd men!Hindi ki jivantta ka sabse bada karan ye hai ki is bhasha ne sankirn shuddhtavad ko sanskar kabhi nahin banne diya. Na jane kahan-kahan se aae shabdon ko hindi ne apnaya hai. Hindi shabdon ke safar ko janna hindi bhasha ke vikas ke sath-sath hindi samaj ke mizaj ko bhi janna hai.
Ajit vadnerkar kai varshon se shabdon ke is romanchak safar mein hum sabko shamil karte rahe hain. Kamal ki sujh-bujh hai unki aur kamal ki mehnat. Kahne ka andaz nirala. ‘shabdon ka safar’ kitne rochak, pramanik aur vishvasniy dhang se ek-ek shabd ke vikas-kram aur anya shabdon ke saath uske sambandh ko pathak ke samne rakhta hai, ye padhkar hi jana ja sakta hai. Safar ke is tisre padav par unhen badhai aur saath hi shukriya bhi.
—dau. Purushottam agrval

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products