Look Inside
Shabd
Shabd

Shabd

Regular price ₹ 200
Sale price ₹ 200 Regular price ₹ 200
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Shabd

Shabd

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
शब्द - बसंत त्रिपाठी की कहानियाँ पिछले बीस-पचीस बरसों के अराजक और अमानवीय शहरीकरण के दौर में अमानवीयकरण की जटिल, त्रासद और निराशाजनक प्रक्रियाओं को रेखांकित करती हुई बढ़ती चली जाती हैं। इन कहानियों में हमारे समय के इस मार्मिक सच की बार-बार प्रतीति मिलती रहती है कि हमारे वक़्त में सिर्फ़ आदमी बने रहना कितना मुश्किल हो गया है। इस संग्रह की सभी कहानियाँ अपने समय, समाज और संस्कृति के प्रति गहरी प्रतिबद्धता सम्बद्धता जताते हुए, अगर हमें इतनी सच्ची और समकालीन जान पड़ती हैं तो इसका एक कारण मुझे बसंत त्रिपाठी की अपनी लेखकीय चेतना, इस लेखकीय चेतना की प्रश्नाकुलता और जागरूकता में भी नज़र आता है। इन कहानियों की रेंज बड़ी है तो इनका डिक्शन भी व्यापक है जो मुझे नागरी जीवन को समझ रहे नागरी लेखन के अनिवार्य तत्त्व जान पड़ते हैं। यहाँ विभिन्न परिवेशों से अलग-अलग पृष्ठभूमि लिए हुए, तरह-तरह के पात्र आते हैं। किसी लेखक के पहले ही कथा-संग्रह में दुहरावों के लिए ऐसा प्रतिरोध बहुत कम नज़र आता है। मुझे लगता है कि ख़ुद को न दुहराने का उनका लेखकीय स्वभाव भी कहीं उनकी लेखकीय चेतना और आलोचनात्मक विवेक से ही बाहर आता है। हम जानते हैं कि बरसों से बसंत त्रिपाठी कविता और आलोचना के क्षेत्र में भी अपनी सर्जनात्मक सक्रियता बनाये हुए हैं लेकिन ये कहानियाँ अपनी चिन्ताओं और चिन्तन से उनको अपनी दोनों विधाओं से अलग करती हैं। इन कहानियों को पढ़ते हुए हम पाठक यह महसूस कर सकते हैं कि जिन मानवीय विद्रूपों और विडम्बनाओं को बसंत हमारे सामने लाना चाहते हैं वे कहानी की अपनी विधा और विस्तार में ही सम्भव हो सकते थे। इस तरह ये कहानियाँ, कहानी की अपनी विधा के लिए चिन्तित और प्रतिबद्ध कहानियाँ भी हैं। कहानी में आते जीवन पर सोचती हुई और कहानी के अपने जीवन पर सोचती हुई मार्मिक, दिलचस्प और महत्त्वपूर्ण कहानियाँ।—जयशंकर shabdbasant tripathi ki kahaniyan pichhle bees pachis barson ke arajak aur amanviy shahrikran ke daur mein amanviyakran ki jatil, trasad aur nirashajnak prakriyaon ko rekhankit karti hui baDhti chali jati hain.
in kahaniyon mein hamare samay ke is marmik sach ki baar baar prtiti milti rahti hai ki hamare vaqt mein sirf aadmi bane rahna kitna mushkil ho gaya hai. is sangrah ki sabhi kahaniyan apne samay, samaj aur sanskriti ke prati gahri pratibaddhta sambaddhta jatate hue, agar hamein itni sachchi aur samkalin jaan paDti hain to iska ek karan mujhe basant tripathi ki apni lekhkiy chetna, is lekhkiy chetna ki prashnakulta aur jagrukta mein bhi nazar aata hai.
in kahaniyon ki renj baDi hai to inka Dikshan bhi vyapak hai jo mujhe nagri jivan ko samajh rahe nagri lekhan ke anivarya tattv jaan paDte hain. yahan vibhinn pariveshon se alag alag prishthbhumi liye hue, tarah tarah ke paatr aate hain. kisi lekhak ke pahle hi katha sangrah mein duhravon ke liye aisa pratirodh bahut kam nazar aata hai. mujhe lagta hai ki khud ko na duhrane ka unka lekhkiy svbhaav bhi kahin unki lekhkiy chetna aur alochnatmak vivek se hi bahar aata hai.
hum jante hain ki barson se basant tripathi kavita aur alochna ke kshetr mein bhi apni sarjnatmak sakriyta banaye hue hain lekin ye kahaniyan apni chintaon aur chintan se unko apni donon vidhaon se alag karti hain. in kahaniyon ko paDhte hue hum pathak ye mahsus kar sakte hain ki jin manviy vidrupon aur viDambnaon ko basant hamare samne lana chahte hain ve kahani ki apni vidha aur vistar mein hi sambhav ho sakte the.
is tarah ye kahaniyan, kahani ki apni vidha ke liye chintit aur pratibaddh kahaniyan bhi hain. kahani mein aate jivan par sochti hui aur kahani ke apne jivan par sochti hui marmik, dilchasp aur mahattvpurn kahaniyan. —jayshankar

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products