BackBack

Shaadi ka Joker

Abdul Bismillah

Rs. 295 Rs. 280

‘शादी का जोकर’ वरिष्ठ कथाकार अब्दुल बिस्मिल्लाह का महत्त्वपूर्ण कहानी-संग्रह है। इस संग्रह में सत्रह कहानियाँ हैं। अब्दुल बिस्मिल्लाह ने अपनी रचनाशीलता का प्रस्थान व्यापक सामाजिक सरोकारों से निर्मित किया था। उपन्यासों और कहानियों की सार्थक व यशस्वी रचना-यात्रा करने के बाद उनमें नई तरह की सादगी जगमगाने लगी है।... Read More

HardboundHardbound
readsample_tab

‘शादी का जोकर’ वरिष्ठ कथाकार अब्दुल बिस्मिल्लाह का महत्त्वपूर्ण कहानी-संग्रह है। इस संग्रह में सत्रह कहानियाँ हैं। अब्दुल बिस्मिल्लाह ने अपनी रचनाशीलता का प्रस्थान व्यापक सामाजिक सरोकारों से निर्मित किया था। उपन्यासों और कहानियों की सार्थक व यशस्वी रचना-यात्रा करने के बाद उनमें नई तरह की सादगी जगमगाने लगी है।
प्रस्तुत संग्रह की कहानियाँ सक्रिय शब्दों में व्यक्त हुई हैं। लेखक ने आम ज़िन्दगी से झाँकती परेशानी, पशेमानी और कशमकश से इन कहानियों के सूत्र सहेजे हैं। पहली ही कहानी ‘ख़ून' रिश्तों की हिफ़ाज़त करनेवाले शख़्स और बेमुरव्वत दुनिया की दास्तान है। 'त्राहिमाम', 'कैलेंडर', ‘महामारी’, ‘तीसरी औरत’ सरीखी रचनाएँ रेखांकित करती हैं कि पठनीयता और सार्थकता की सहभागिता से स्मरणीय का जन्म होता है।
यह उल्लेखनीय है कि एक नैतिक निष्कपट क़िस्सागोई अब्दुल बिस्मिल्लाह की पहचान है। सामाजिक अविश्वास और उत्पीड़न के प्रसंग को 'शादी का जोकर' में अद्भुत अभिव्यक्ति मिली है। बारिश होने पर गाँव की बरात में आए दिल्ली के कला रसिकों का भागना और कला की दशा का बखान ‘तूफ़ानी पहलवान’ के इन शब्दों में है—‘अब सिर्फ़ बच गई अमराई में दोनों चारपाइयाँ, जो भीगती रहीं उस धारासार वर्षा में और आम के तने से चिपटे खड़े रहे तूफ़ानी पहलवान हाथ जोड़े। भीगती रही काँधे से लटकी उनकी ढोलक और उसकी डोरियों से टपकता रहा बूँद-बूँद पानी टप्प-टप्प...।'
ज़ाहिर है कि 'शादी का जोकर' एक उल्लेखनीय कहानी-संग्रह है। कथा-रस के साथ समकालीन सभ्यता में व्याप्त असमंजस की अभिव्यक्ति इसकी विशेषता है। ‘shadi ka jokar’ varishth kathakar abdul bismillah ka mahattvpurn kahani-sangrah hai. Is sangrah mein satrah kahaniyan hain. Abdul bismillah ne apni rachnashilta ka prasthan vyapak samajik sarokaron se nirmit kiya tha. Upanyason aur kahaniyon ki sarthak va yashasvi rachna-yatra karne ke baad unmen nai tarah ki sadgi jagamgane lagi hai. Prastut sangrah ki kahaniyan sakriy shabdon mein vyakt hui hain. Lekhak ne aam zindagi se jhankati pareshani, pashemani aur kashamkash se in kahaniyon ke sutr saheje hain. Pahli hi kahani ‘khun rishton ki hifazat karnevale shakhs aur bemuravvat duniya ki dastan hai. Trahimam, kailendar, ‘mahamari’, ‘tisri aurat’ sarikhi rachnayen rekhankit karti hain ki pathniyta aur sarthakta ki sahbhagita se smarniy ka janm hota hai.
Ye ullekhniy hai ki ek naitik nishkpat qissagoi abdul bismillah ki pahchan hai. Samajik avishvas aur utpidan ke prsang ko shadi ka jokar mein adbhut abhivyakti mili hai. Barish hone par ganv ki barat mein aae dilli ke kala rasikon ka bhagna aur kala ki dasha ka bakhan ‘tufani pahalvan’ ke in shabdon mein hai—‘ab sirf bach gai amrai mein donon charpaiyan, jo bhigti rahin us dharasar varsha mein aur aam ke tane se chipte khade rahe tufani pahalvan hath jode. Bhigti rahi kandhe se latki unki dholak aur uski doriyon se tapakta raha bund-bund pani tapp-tapp. . . .
Zahir hai ki shadi ka jokar ek ullekhniy kahani-sangrah hai. Katha-ras ke saath samkalin sabhyta mein vyapt asmanjas ki abhivyakti iski visheshta hai.

Description

‘शादी का जोकर’ वरिष्ठ कथाकार अब्दुल बिस्मिल्लाह का महत्त्वपूर्ण कहानी-संग्रह है। इस संग्रह में सत्रह कहानियाँ हैं। अब्दुल बिस्मिल्लाह ने अपनी रचनाशीलता का प्रस्थान व्यापक सामाजिक सरोकारों से निर्मित किया था। उपन्यासों और कहानियों की सार्थक व यशस्वी रचना-यात्रा करने के बाद उनमें नई तरह की सादगी जगमगाने लगी है।
प्रस्तुत संग्रह की कहानियाँ सक्रिय शब्दों में व्यक्त हुई हैं। लेखक ने आम ज़िन्दगी से झाँकती परेशानी, पशेमानी और कशमकश से इन कहानियों के सूत्र सहेजे हैं। पहली ही कहानी ‘ख़ून' रिश्तों की हिफ़ाज़त करनेवाले शख़्स और बेमुरव्वत दुनिया की दास्तान है। 'त्राहिमाम', 'कैलेंडर', ‘महामारी’, ‘तीसरी औरत’ सरीखी रचनाएँ रेखांकित करती हैं कि पठनीयता और सार्थकता की सहभागिता से स्मरणीय का जन्म होता है।
यह उल्लेखनीय है कि एक नैतिक निष्कपट क़िस्सागोई अब्दुल बिस्मिल्लाह की पहचान है। सामाजिक अविश्वास और उत्पीड़न के प्रसंग को 'शादी का जोकर' में अद्भुत अभिव्यक्ति मिली है। बारिश होने पर गाँव की बरात में आए दिल्ली के कला रसिकों का भागना और कला की दशा का बखान ‘तूफ़ानी पहलवान’ के इन शब्दों में है—‘अब सिर्फ़ बच गई अमराई में दोनों चारपाइयाँ, जो भीगती रहीं उस धारासार वर्षा में और आम के तने से चिपटे खड़े रहे तूफ़ानी पहलवान हाथ जोड़े। भीगती रही काँधे से लटकी उनकी ढोलक और उसकी डोरियों से टपकता रहा बूँद-बूँद पानी टप्प-टप्प...।'
ज़ाहिर है कि 'शादी का जोकर' एक उल्लेखनीय कहानी-संग्रह है। कथा-रस के साथ समकालीन सभ्यता में व्याप्त असमंजस की अभिव्यक्ति इसकी विशेषता है। ‘shadi ka jokar’ varishth kathakar abdul bismillah ka mahattvpurn kahani-sangrah hai. Is sangrah mein satrah kahaniyan hain. Abdul bismillah ne apni rachnashilta ka prasthan vyapak samajik sarokaron se nirmit kiya tha. Upanyason aur kahaniyon ki sarthak va yashasvi rachna-yatra karne ke baad unmen nai tarah ki sadgi jagamgane lagi hai. Prastut sangrah ki kahaniyan sakriy shabdon mein vyakt hui hain. Lekhak ne aam zindagi se jhankati pareshani, pashemani aur kashamkash se in kahaniyon ke sutr saheje hain. Pahli hi kahani ‘khun rishton ki hifazat karnevale shakhs aur bemuravvat duniya ki dastan hai. Trahimam, kailendar, ‘mahamari’, ‘tisri aurat’ sarikhi rachnayen rekhankit karti hain ki pathniyta aur sarthakta ki sahbhagita se smarniy ka janm hota hai.
Ye ullekhniy hai ki ek naitik nishkpat qissagoi abdul bismillah ki pahchan hai. Samajik avishvas aur utpidan ke prsang ko shadi ka jokar mein adbhut abhivyakti mili hai. Barish hone par ganv ki barat mein aae dilli ke kala rasikon ka bhagna aur kala ki dasha ka bakhan ‘tufani pahalvan’ ke in shabdon mein hai—‘ab sirf bach gai amrai mein donon charpaiyan, jo bhigti rahin us dharasar varsha mein aur aam ke tane se chipte khade rahe tufani pahalvan hath jode. Bhigti rahi kandhe se latki unki dholak aur uski doriyon se tapakta raha bund-bund pani tapp-tapp. . . .
Zahir hai ki shadi ka jokar ek ullekhniy kahani-sangrah hai. Katha-ras ke saath samkalin sabhyta mein vyapt asmanjas ki abhivyakti iski visheshta hai.

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Shaadi ka Joker

‘शादी का जोकर’ वरिष्ठ कथाकार अब्दुल बिस्मिल्लाह का महत्त्वपूर्ण कहानी-संग्रह है। इस संग्रह में सत्रह कहानियाँ हैं। अब्दुल बिस्मिल्लाह ने अपनी रचनाशीलता का प्रस्थान व्यापक सामाजिक सरोकारों से निर्मित किया था। उपन्यासों और कहानियों की सार्थक व यशस्वी रचना-यात्रा करने के बाद उनमें नई तरह की सादगी जगमगाने लगी है।
प्रस्तुत संग्रह की कहानियाँ सक्रिय शब्दों में व्यक्त हुई हैं। लेखक ने आम ज़िन्दगी से झाँकती परेशानी, पशेमानी और कशमकश से इन कहानियों के सूत्र सहेजे हैं। पहली ही कहानी ‘ख़ून' रिश्तों की हिफ़ाज़त करनेवाले शख़्स और बेमुरव्वत दुनिया की दास्तान है। 'त्राहिमाम', 'कैलेंडर', ‘महामारी’, ‘तीसरी औरत’ सरीखी रचनाएँ रेखांकित करती हैं कि पठनीयता और सार्थकता की सहभागिता से स्मरणीय का जन्म होता है।
यह उल्लेखनीय है कि एक नैतिक निष्कपट क़िस्सागोई अब्दुल बिस्मिल्लाह की पहचान है। सामाजिक अविश्वास और उत्पीड़न के प्रसंग को 'शादी का जोकर' में अद्भुत अभिव्यक्ति मिली है। बारिश होने पर गाँव की बरात में आए दिल्ली के कला रसिकों का भागना और कला की दशा का बखान ‘तूफ़ानी पहलवान’ के इन शब्दों में है—‘अब सिर्फ़ बच गई अमराई में दोनों चारपाइयाँ, जो भीगती रहीं उस धारासार वर्षा में और आम के तने से चिपटे खड़े रहे तूफ़ानी पहलवान हाथ जोड़े। भीगती रही काँधे से लटकी उनकी ढोलक और उसकी डोरियों से टपकता रहा बूँद-बूँद पानी टप्प-टप्प...।'
ज़ाहिर है कि 'शादी का जोकर' एक उल्लेखनीय कहानी-संग्रह है। कथा-रस के साथ समकालीन सभ्यता में व्याप्त असमंजस की अभिव्यक्ति इसकी विशेषता है। ‘shadi ka jokar’ varishth kathakar abdul bismillah ka mahattvpurn kahani-sangrah hai. Is sangrah mein satrah kahaniyan hain. Abdul bismillah ne apni rachnashilta ka prasthan vyapak samajik sarokaron se nirmit kiya tha. Upanyason aur kahaniyon ki sarthak va yashasvi rachna-yatra karne ke baad unmen nai tarah ki sadgi jagamgane lagi hai. Prastut sangrah ki kahaniyan sakriy shabdon mein vyakt hui hain. Lekhak ne aam zindagi se jhankati pareshani, pashemani aur kashamkash se in kahaniyon ke sutr saheje hain. Pahli hi kahani ‘khun rishton ki hifazat karnevale shakhs aur bemuravvat duniya ki dastan hai. Trahimam, kailendar, ‘mahamari’, ‘tisri aurat’ sarikhi rachnayen rekhankit karti hain ki pathniyta aur sarthakta ki sahbhagita se smarniy ka janm hota hai.
Ye ullekhniy hai ki ek naitik nishkpat qissagoi abdul bismillah ki pahchan hai. Samajik avishvas aur utpidan ke prsang ko shadi ka jokar mein adbhut abhivyakti mili hai. Barish hone par ganv ki barat mein aae dilli ke kala rasikon ka bhagna aur kala ki dasha ka bakhan ‘tufani pahalvan’ ke in shabdon mein hai—‘ab sirf bach gai amrai mein donon charpaiyan, jo bhigti rahin us dharasar varsha mein aur aam ke tane se chipte khade rahe tufani pahalvan hath jode. Bhigti rahi kandhe se latki unki dholak aur uski doriyon se tapakta raha bund-bund pani tapp-tapp. . . .
Zahir hai ki shadi ka jokar ek ullekhniy kahani-sangrah hai. Katha-ras ke saath samkalin sabhyta mein vyapt asmanjas ki abhivyakti iski visheshta hai.