Look Inside
Satya Ke Mere Prayog
Satya Ke Mere Prayog
Satya Ke Mere Prayog
Satya Ke Mere Prayog

Satya Ke Mere Prayog

Regular price Rs. 925
Sale price Rs. 925 Regular price Rs. 995
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Satya Ke Mere Prayog

Satya Ke Mere Prayog

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

विश्व के स्वप्नदर्शी और युगांतरकारी नेताओं में सर्वाधिक चर्चित और देश-काल की सीमाओं को लांघकर एक प्रतीक बन जानेवाले महात्मा गांधी की यह आत्मकथा न किसी परिचय की मुहताज है और न किसी प्रशंसा की। अनेक भाषाओं और देशों के असंख्य पाठकों के मन में राजनीति, समाज और नैतिकता से जुड़े सवालों को जगाने, विचलित करनेवाली इस पुस्तक का यह मूल गुजराती से अनूदित प्रामाणिक पाठ है।
समाज और राजनीति की धारा में गांधी जी ने असहयोग और अहिंसा जैसे व्यावहारिक औज़ारों से एक मानवीय हस्तक्षेप किया, वहीं अपने निजी जीवन को उन्होंने सत्य, संयम और आत्मबल की लगभग एक प्रयोगशाला की तरह जिया। नैतिकता उनके लिए सिर्फ़ समाजोन्मुख, बाहरी मूल्य नहीं, उनके लिए वह अपने अन्त:करण के पारदर्शी आइने में एक ऐसे नग्न प्रश्न के रूप में खड़ी थी, जिसका जवाब व्यक्ति को अपने सामने, अपने को ही देना होता है। अपने स्व की कसौटी ही जिसकी एकमात्र कसौटी होती है। यह पुस्तक गांधी जी के इसी अविराम नैतिक आत्मनिरीक्षण की विवरणिका है।
इस चर्चित पुस्तक की पुनर्प्रस्‍तुति यह बात ध्यान में रखते हुए की जा रही है कि महान कृतियों का अनुवाद बार-बार होते रहना चाहिए। इस अनुवाद में प्रयास किया गया है कि गांधी जी की इस सर्वाधिक पढ़ी जानेवाली कृति को आज का पाठक उस भाषा-संवेदना की रोशनी में पढ़ सके जो आज़ादी के बाद हमारी चेतना का हिस्सा बनी है। Vishv ke svapndarshi aur yugantarkari netaon mein sarvadhik charchit aur desh-kal ki simaon ko langhkar ek prtik ban janevale mahatma gandhi ki ye aatmaktha na kisi parichay ki muhtaj hai aur na kisi prshansa ki. Anek bhashaon aur deshon ke asankhya pathkon ke man mein rajniti, samaj aur naitikta se jude savalon ko jagane, vichlit karnevali is pustak ka ye mul gujrati se anudit pramanik path hai. Samaj aur rajniti ki dhara mein gandhi ji ne asahyog aur ahinsa jaise vyavharik auzaron se ek manviy hastakshep kiya, vahin apne niji jivan ko unhonne satya, sanyam aur aatmbal ki lagbhag ek pryogshala ki tarah jiya. Naitikta unke liye sirf samajonmukh, bahri mulya nahin, unke liye vah apne ant:karan ke pardarshi aaine mein ek aise nagn prashn ke rup mein khadi thi, jiska javab vyakti ko apne samne, apne ko hi dena hota hai. Apne sv ki kasauti hi jiski ekmatr kasauti hoti hai. Ye pustak gandhi ji ke isi aviram naitik aatmanirikshan ki vivaranika hai.
Is charchit pustak ki punarpras‍tuti ye baat dhyan mein rakhte hue ki ja rahi hai ki mahan kritiyon ka anuvad bar-bar hote rahna chahiye. Is anuvad mein pryas kiya gaya hai ki gandhi ji ki is sarvadhik padhi janevali kriti ko aaj ka pathak us bhasha-sanvedna ki roshni mein padh sake jo aazadi ke baad hamari chetna ka hissa bani hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products