Look Inside
Sarfaroshi Ki Tamanna
Sarfaroshi Ki Tamanna
Sarfaroshi Ki Tamanna
Sarfaroshi Ki Tamanna

Sarfaroshi Ki Tamanna

Regular price Rs. 512
Sale price Rs. 512 Regular price Rs. 550
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Sarfaroshi Ki Tamanna

Sarfaroshi Ki Tamanna

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भगत सिंह (1907-1931) का समय वही समय था जब भारत का स्वतंत्रता-संग्राम अपने उरूज की तरफ़ बढ़ रहा था और जिस समय आंशिक आज़ादी के लिए महात्मा गांधी के अहिंसात्मक, निष्क्रिय प्रतिरोध ने लोगों के धैर्य की परीक्षा लेना शुरू कर दिया था।
भारत का युवा वर्ग भगत सिंह के सशस्त्र विरोध के आह्वान और हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन के आर्मी विंग की अवज्ञापूर्ण साहसिकता से प्रेरणा ग्रहण कर रहा था, जिससे भगत सिंह और उनके साथी सुखदेव और राजगुरु जुड़े थे। ‘इंकिलाब ज़िन्दाबाद’ का उनका नारा स्वतंत्रता-संघर्ष का उद्घोष बन गया था।
लाहौर षड्यंत्र मामले में एक दिखावटी मुक़दमा चलाकर ब्रिटिश सरकार द्वारा भगत सिंह को मात्र 23 साल की आयु में फाँसी पर चढ़ा दिए जाने के बाद भारतवासियों ने उन्हें, उनके युवकोचित साहस, नायकत्व और मौत के प्रति निडरता को देखते हुए शहीद का दर्जा दे दिया। जेल में लिखी हुई उनकी चीज़ें तो अनेक वर्ष उपरान्त, आज़ादी के बाद सामने आईं। आज इसी सामग्री के आधार पर उन्हें देश की आज़ादी के लिए जान देनेवाले अन्य शहीदों से अलग माना जाता है। उनका यह लेखन उन्हें सिर्फ़ एक भावप्रवण स्वतंत्रता सेनानी से कहीं ज़्यादा एक ऐसे अध्यवसायी बुद्धिजीवी के रूप में सामने लाता है जिसकी प्रेरणा के स्रोत, अन्य विचारकों के साथ, मार्क्स, लेनिन, बर्ट्रेंड रसेल और विक्टर ह्यूगो थे और जिसका क्रान्ति-स्वप्न अंग्रेज़ों को देश से निकाल देने-भर तक सीमित नहीं था, बल्कि वह उससे कहीं आगे एक धर्मनिरपेक्ष और समाजवादी भारत का सपना सँजो रहा था।
इसी असाधारण युवक की सौवीं जन्मशती के अवसर पर कुलदीप नैयर इस पुस्तक में उस शहीद के पीछे छिपे आदमी, उसके विश्वासों, उसके बौद्धिक रुझानों और निराशाओं पर प्रकाश डाल रहे हैं।
यह पुस्तक पहली बार स्पष्ट करती है कि हंसराज वोहरा ने भगत सिंह के साथ धोखा क्यों किया, साथ ही इसमें सुखदेव के ऊपर भी नई रोशनी में विचार किया गया है जिनकी वफ़ादारी पर कुछ इतिहासकारों ने सवाल उठाए हैं। लेकिन इसके केन्द्र में भगत सिंह का हिंसा का प्रयोग ही है जिसकी गांधी जी समेत अन्य अनेक लोगों ने इतनी कड़ी आलोचना की है। भगत सिंह की मंशा अधिक से अधिक लोगों की हत्या करके या अपने हमलों की भयावहता से अंग्रेज़ों के दिल में आतंक पैदा करना नहीं था, न उनकी निर्भयता का उत्स सिर्फ़ बन्दूक़ों और जवानी के साहस में था। यह उनके अध्ययन से उपजी बौद्धिकता और उनके विश्वासों की दृढ़ता का मिला-जुला परिणाम था। Bhagat sinh (1907-1931) ka samay vahi samay tha jab bharat ka svtantrta-sangram apne uruj ki taraf badh raha tha aur jis samay aanshik aazadi ke liye mahatma gandhi ke ahinsatmak, nishkriy pratirodh ne logon ke dhairya ki pariksha lena shuru kar diya tha. Bharat ka yuva varg bhagat sinh ke sashastr virodh ke aahvan aur hindustan soshlist ripablikan esosiyeshan ke aarmi ving ki avagyapurn sahasikta se prerna grhan kar raha tha, jisse bhagat sinh aur unke sathi sukhdev aur rajaguru jude the. ‘inkilab zindabad’ ka unka nara svtantrta-sangharsh ka udghosh ban gaya tha.
Lahaur shadyantr mamle mein ek dikhavti muqadma chalakar british sarkar dvara bhagat sinh ko matr 23 saal ki aayu mein phansi par chadha diye jane ke baad bharatvasiyon ne unhen, unke yuvkochit sahas, naykatv aur maut ke prati nidarta ko dekhte hue shahid ka darja de diya. Jel mein likhi hui unki chizen to anek varsh uprant, aazadi ke baad samne aain. Aaj isi samagri ke aadhar par unhen desh ki aazadi ke liye jaan denevale anya shahidon se alag mana jata hai. Unka ye lekhan unhen sirf ek bhavaprvan svtantrta senani se kahin zyada ek aise adhyavsayi buddhijivi ke rup mein samne lata hai jiski prerna ke srot, anya vicharkon ke saath, marks, lenin, bartrend rasel aur viktar hyugo the aur jiska kranti-svapn angrezon ko desh se nikal dene-bhar tak simit nahin tha, balki vah usse kahin aage ek dharmanirpeksh aur samajvadi bharat ka sapna sanjo raha tha.
Isi asadharan yuvak ki sauvin janmashti ke avsar par kuldip naiyar is pustak mein us shahid ke pichhe chhipe aadmi, uske vishvason, uske bauddhik rujhanon aur nirashaon par prkash daal rahe hain.
Ye pustak pahli baar spasht karti hai ki hansraj vohra ne bhagat sinh ke saath dhokha kyon kiya, saath hi ismen sukhdev ke uupar bhi nai roshni mein vichar kiya gaya hai jinki vafadari par kuchh itihaskaron ne saval uthaye hain. Lekin iske kendr mein bhagat sinh ka hinsa ka pryog hi hai jiski gandhi ji samet anya anek logon ne itni kadi aalochna ki hai. Bhagat sinh ki mansha adhik se adhik logon ki hatya karke ya apne hamlon ki bhayavahta se angrezon ke dil mein aatank paida karna nahin tha, na unki nirbhayta ka uts sirf banduqon aur javani ke sahas mein tha. Ye unke adhyyan se upji bauddhikta aur unke vishvason ki dridhta ka mila-jula parinam tha.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products