BackBack
-11%

Sardar Patel Tatha Bhartiya Musalman

Rs. 395 Rs. 352

भारत के प्रथम गृहमंत्री लौहपुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल पर उनके जीवन के अन्तिम वर्षों में और उनकी मृत्यु के बाद तो और भी ज्‍़यादा यह आरोप चस्पाँ होता गया है कि उनकी सोच में मुस्लिम-विरोध का पुट मौजूद था। इस पुस्तक में देश के जाने-माने बौद्धिक डॉ. रफ़ीक़ ज़करिया ने... Read More

Description

भारत के प्रथम गृहमंत्री लौहपुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल पर उनके जीवन के अन्तिम वर्षों में और उनकी मृत्यु के बाद तो और भी ज्‍़यादा यह आरोप चस्पाँ होता गया है कि उनकी सोच में मुस्लिम-विरोध का पुट मौजूद था। इस पुस्तक में देश के जाने-माने बौद्धिक डॉ. रफ़ीक़ ज़करिया ने बिना किसी आग्रह-पूर्वाग्रह के इस आरोप की असलियत की जाँच-पड़ताल की है और इसकी तह तक गए हैं। सरदार पटेल के तमाम बयानात, उनके राजनीतिक जीवन की विविध घटनाओं और विभिन्न दस्तावेज़ों का सहारा लेते हुए विद्वान लेखक ने यहाँ उनकी सोच और व्यवहार का खुलासा किया है।
इस खोजबीन में उन्होंने यह पाया है कि देश-विभाजन के दौरान हिन्दू शरणार्थियों की करुण अवस्था देखकर पटेल में कुछ हिन्दू-समर्थक रुझानात भले ही आ गए हों पर ऐसा एक भी प्रमाण नहीं मिलता, जिससे यह पता चले कि उनके भीतर भारतीय मुसलमानों के विरोध में खड़े होने की कोई प्रवृत्ति थी। महात्मा गांधी के प्रारम्भिक सहकर्मी के रूप में सरदार पटेल ने हिन्दू-मुस्लिम एकता के जैसे शानदार उदाहरण गुजरात में प्रस्तुत किए थे, उन्हें अन्त तक बनाए रखने की प्रबल भावना उनमें बार-बार ज़ाहिर होती रही। मोहम्मद अली जिन्ना और ‘मुस्लिम लीग’ का कड़ा विरोध करने का उनका रवैया उनके किसी मुस्लिम विरोधी रुझान को व्यक्त करने के बजाय उनकी इस खीझ को व्यक्त करता है कि लाख कोशिशों के बावजूद भारत की सामुदायिक एकता को वे बचा नहीं पा रहे हैं।
कूटनीतिक व्यवहार की लगभग अनुपस्थित और खरा बोलने की आदतवाले इस भारतीय राष्ट्र-निर्माता की यह कमज़ोरी भी डॉ. ज़करिया चिन्हित करते हैं कि ‘मुस्लिम लीग’ के प्रति अपने विरोध की धार उतनी साफ़ न रख पाने के चलते कई बार उन्हें ग़लत समझ लिए जाने की पूरी गुंजाइश रह जाती थी। निस्सन्देह, सरदार वल्लभभाई पटेल के विषय में व्याप्त कई सारी ग़लतफ़हमियाँ इस पुस्तक से काफ़ी हद तक दूर हो जाएँगी। Bharat ke prtham grihmantri lauhapurush sardar vallabhbhai patel par unke jivan ke antim varshon mein aur unki mrityu ke baad to aur bhi ‍yada ye aarop chaspan hota gaya hai ki unki soch mein muslim-virodh ka put maujud tha. Is pustak mein desh ke jane-mane bauddhik dau. Rafiq zakariya ne bina kisi aagrah-purvagrah ke is aarop ki asaliyat ki janch-padtal ki hai aur iski tah tak ge hain. Sardar patel ke tamam bayanat, unke rajnitik jivan ki vividh ghatnaon aur vibhinn dastavezon ka sahara lete hue vidvan lekhak ne yahan unki soch aur vyavhar ka khulasa kiya hai. Is khojbin mein unhonne ye paya hai ki desh-vibhajan ke dauran hindu sharnarthiyon ki karun avastha dekhkar patel mein kuchh hindu-samarthak rujhanat bhale hi aa ge hon par aisa ek bhi prman nahin milta, jisse ye pata chale ki unke bhitar bhartiy musalmanon ke virodh mein khade hone ki koi prvritti thi. Mahatma gandhi ke prarambhik sahkarmi ke rup mein sardar patel ne hindu-muslim ekta ke jaise shandar udahran gujrat mein prastut kiye the, unhen ant tak banaye rakhne ki prbal bhavna unmen bar-bar zahir hoti rahi. Mohammad ali jinna aur ‘muslim lig’ ka kada virodh karne ka unka ravaiya unke kisi muslim virodhi rujhan ko vyakt karne ke bajay unki is khijh ko vyakt karta hai ki lakh koshishon ke bavjud bharat ki samudayik ekta ko ve bacha nahin pa rahe hain.
Kutnitik vyavhar ki lagbhag anupasthit aur khara bolne ki aadatvale is bhartiy rashtr-nirmata ki ye kamzori bhi dau. Zakariya chinhit karte hain ki ‘muslim lig’ ke prati apne virodh ki dhar utni saaf na rakh pane ke chalte kai baar unhen galat samajh liye jane ki puri gunjaish rah jati thi. Nissandeh, sardar vallabhbhai patel ke vishay mein vyapt kai sari galatafahamiyan is pustak se kafi had tak dur ho jayengi.