Sanskriti : Varchswa Aur Pratirodh

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Sanskriti : Varchswa Aur Pratirodh

Sanskriti : Varchswa Aur Pratirodh

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘संस्कृति : वर्चस्व और प्रतिरोध’ भारतीय समाज और संस्कृति के उन सुविधाजनक सवालों से टकराने के क्रम में लिखी गई है, जिनसे बचने का हर सम्भव प्रयास अब तक किया जाता रहा है। संस्कृति पर अमूर्तनों की भाषा में लिखे गए तमाम पोथों से भिन्न यह पुस्तक मोहक आवरणों से ढके छद्म को उद्घाटित करती है। बढ़ता साम्प्रदायिक ज़हर, शोषण के नए तरीक़े, कुर्सी हथियाने के लिए धर्म का सीढ़ी की तरह किया जानेवाला इस्तेमाल, स्त्री-दमन का अनवरत सिलसिला, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के ख़िलाफ़ जारी होनेवाले फ़तवे, उभरते दलित आन्दोलन को नाकाम करने में लगी अमानुषिक ताक़तें और मानवीय संवेदनातंत्र के निरन्तर छीजते जाने की प्रक्रिया—ये अब हमारे समय की कटु वास्तविकताएँ हैं। ईमानदार रचनाधर्मी मानस ने इन सभी मुद्दों को इस पुस्तक में उठाया है, सरलीकरणों से बचने की सफल कोशिश की है और इन प्रश्नों से जुड़ी प्रचलित प्रगतिशील व्याख्याओं की जाँच भी की है। सुपरिभाषित सांस्कृतिक प्रतीकों को पुरुषोत्तम अग्रवाल ने नई दृष्टि से विश्लेषित करने का प्रयास किया है। कहने की आवश्यकता नहीं कि इसी कारण यह पुस्तक हमारे परम्परागत संस्कारों, स्वीकृत मूल्यों और प्रश्नातीत बना दी गई आस्थाओं को झकझोर देने में समर्थ हो सकेगी।
अपने भाषिक रचाव में यह पुस्तक विशिष्ट है। विचारगत नवीनता भाषा का नया तेवर चाहती है, जिसे डॉ. अग्रवाल ने सघन सर्जनात्मकता में अर्जित किया है। मधुर पदबन्धों के आदी हो चुके लोगों को इसमें ज़रूरी औषधीय कड़वाहट मिलेगी, साथ ही आद्यन्त कवि-सुलभ रससिक्तता भी।
तथाकथित ‘जातिवाद’ के सामाजिक-राजनीतिक निहितार्थों की सर्वथा नई व्याख्या और वर्णाश्रम के सांस्कृतिक अर्थ का विचारोत्तेजक रेखांकन इस पुस्तक के तर्क की अपनी विशेषताएँ हैं।
समाज, संस्कृति और सर्जनात्मकता का गतिशील परिप्रेक्ष्य विकसित करने की बौद्धिक बेचैनी से भरपूर यह किताब उन सबके लिए ज़रूरी है, जो भारतीय समाज के अन्तर्निहित वर्चस्वतंत्र से जिरह करना चाहते हैं। ‘sanskriti : varchasv aur pratirodh’ bhartiy samaj aur sanskriti ke un suvidhajnak savalon se takrane ke kram mein likhi gai hai, jinse bachne ka har sambhav pryas ab tak kiya jata raha hai. Sanskriti par amurtnon ki bhasha mein likhe ge tamam pothon se bhinn ye pustak mohak aavarnon se dhake chhadm ko udghatit karti hai. Badhta samprdayik zahar, shoshan ke ne tariqe, kursi hathiyane ke liye dharm ka sidhi ki tarah kiya janevala istemal, stri-daman ka anavrat silasila, abhivyakti ki svtantrta ke khilaf jari honevale fatve, ubharte dalit aandolan ko nakam karne mein lagi amanushik taqten aur manviy sanvednatantr ke nirantar chhijte jane ki prakriya—ye ab hamare samay ki katu vastaviktayen hain. Iimandar rachnadharmi manas ne in sabhi muddon ko is pustak mein uthaya hai, sarlikarnon se bachne ki saphal koshish ki hai aur in prashnon se judi prachlit pragatishil vyakhyaon ki janch bhi ki hai. Suparibhashit sanskritik prtikon ko purushottam agrval ne nai drishti se vishleshit karne ka pryas kiya hai. Kahne ki aavashyakta nahin ki isi karan ye pustak hamare parampragat sanskaron, svikrit mulyon aur prashnatit bana di gai aasthaon ko jhakjhor dene mein samarth ho sakegi. Apne bhashik rachav mein ye pustak vishisht hai. Vichargat navinta bhasha ka naya tevar chahti hai, jise dau. Agrval ne saghan sarjnatmakta mein arjit kiya hai. Madhur padbandhon ke aadi ho chuke logon ko ismen zaruri aushdhiy kadvahat milegi, saath hi aadyant kavi-sulabh rassiktta bhi.
Tathakthit ‘jativad’ ke samajik-rajnitik nihitarthon ki sarvtha nai vyakhya aur varnashram ke sanskritik arth ka vicharottejak rekhankan is pustak ke tark ki apni visheshtayen hain.
Samaj, sanskriti aur sarjnatmakta ka gatishil pariprekshya viksit karne ki bauddhik bechaini se bharpur ye kitab un sabke liye zaruri hai, jo bhartiy samaj ke antarnihit varchasvtantr se jirah karna chahte hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products