Sansar Ke Mahan Ganitagya

Regular price Rs. 1,483
Sale price Rs. 1,483 Regular price Rs. 1,595
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Sansar Ke Mahan Ganitagya

Sansar Ke Mahan Ganitagya

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

वैज्ञानिकों ने भौतिक जगत् के अन्वेषण के लिए गणित का उपयोग परमावश्यक माना है। लेकिन इतने महत्त्व का विषय होते हुए भी अंग्रेज़ी तक में गणित के इतिहास और गणितज्ञों के बारे में जानकारी देनेवाले ज़्यादा ग्रन्थ नहीं हैं। जो हैं, उनमें भारत या पूर्व के अन्य देशों की गणितीय उपलब्धियों के बारे में बहुत कम सूचनाएँ मिलती हैं। इस दृष्टि से प्रस्तुत पुस्तक की उपादेयता स्वयंसिद्ध है। यह इसलिए और भी महत्त्वपूर्ण है, क्योंकि हिन्दी में यह अपने विषय की सम्भवतः पहली कृति है।
इस ग्रन्थ में विद्वान लेखक ने यूनानी गणितज्ञ यूक्लिड (300 ई.पू.) से लेकर जर्मन गणितज्ञ डेविड हिल्बर्ट (1862-1943) तक संसार के उनचालीस गणितज्ञों के जीवन और कृतित्व का परिचय दिया है। इनमें पाँच भारतीय गणितज्ञ भी हैं—आर्यभट, ब्रह्मगुप्त, महावीराचार्य, भास्कराचार्य और रामानुजन, जो संसार के श्रेष्ठ गणितज्ञों के समुदाय में स्थान पाने के निश्चय ही अधिकारी हैं।
हम न्यूटन, गॉस, आयलर, रीमान, कान्तोर आदि महान गणितज्ञों के गणितीय सिद्धान्‍तों के बारे में पढ़ते हैं, उनका उपयोग करते हैं। मगर इन गणितज्ञों के संघर्षमय जीवन के बारे में हमारी जानकारी नहीं के बराबर होती है।
प्रस्तुत ग्रन्थ में गणितज्ञों को कालक्रमानुसार रखा गया है, इसलिए इस ग्रन्थ से प्राचीन काल से लेकर वर्तमान सदी के आरम्भ काल तक के गणित के बहुमुखी विकास की भी सिलसिलेवार जानकारी मिल जाती है। ग्रन्थ के अन्त में पारिभाषिक शब्दावली, सहायक ग्रन्थ-सूची, नामानुक्रमणिका, विषयानु- क्रमणिका आदि के छह परिशिष्ट हैं।
संसार के महान गणितज्ञों के जीवन और कृतित्व से सम्बन्धित यह प्रेरणाप्रद जानकारी इस ग्रन्थ में मिलेगी, हिन्दी में पहली बार। Vaigyanikon ne bhautik jagat ke anveshan ke liye ganit ka upyog parmavashyak mana hai. Lekin itne mahattv ka vishay hote hue bhi angrezi tak mein ganit ke itihas aur ganitagyon ke bare mein jankari denevale zyada granth nahin hain. Jo hain, unmen bharat ya purv ke anya deshon ki ganitiy uplabdhiyon ke bare mein bahut kam suchnayen milti hain. Is drishti se prastut pustak ki upadeyta svyansiddh hai. Ye isaliye aur bhi mahattvpurn hai, kyonki hindi mein ye apne vishay ki sambhvatः pahli kriti hai. Is granth mein vidvan lekhak ne yunani ganitagya yuklid (300 ii. Pu. ) se lekar jarman ganitagya devid hilbart (1862-1943) tak sansar ke unchalis ganitagyon ke jivan aur krititv ka parichay diya hai. Inmen panch bhartiy ganitagya bhi hain—arybhat, brahmgupt, mahaviracharya, bhaskracharya aur ramanujan, jo sansar ke shreshth ganitagyon ke samuday mein sthan pane ke nishchay hi adhikari hain.
Hum nyutan, gaus, aaylar, riman, kantor aadi mahan ganitagyon ke ganitiy siddhan‍ton ke bare mein padhte hain, unka upyog karte hain. Magar in ganitagyon ke sangharshmay jivan ke bare mein hamari jankari nahin ke barabar hoti hai.
Prastut granth mein ganitagyon ko kalakrmanusar rakha gaya hai, isaliye is granth se prachin kaal se lekar vartman sadi ke aarambh kaal tak ke ganit ke bahumukhi vikas ki bhi silasilevar jankari mil jati hai. Granth ke ant mein paribhashik shabdavli, sahayak granth-suchi, namanukramanika, vishyanu- kramanika aadi ke chhah parishisht hain.
Sansar ke mahan ganitagyon ke jivan aur krititv se sambandhit ye prernaprad jankari is granth mein milegi, hindi mein pahli baar.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products