Look Inside
Sansar Kayaron ke Liye Nahin
Sansar Kayaron ke Liye Nahin
Sansar Kayaron ke Liye Nahin
Sansar Kayaron ke Liye Nahin

Sansar Kayaron ke Liye Nahin

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Sansar Kayaron ke Liye Nahin

Sansar Kayaron ke Liye Nahin

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

स्वामी विवेकानन्द 'योद्धा संन्यासी' थे। करुणा, निर्भयता, कर्मठता, ज्ञान और सेवा आदि महत्तर गुणों से विभूषित उनका जीवन प्रेरणा का महाग्रन्थ है। कठिन से कठिन परिस्थिति का सामना करने और उससे विजयी होकर निकलने का आदर्श स्वामी विवेकानन्द की शिक्षाओं का सार है।
स्वामी जी ने अपनी अमृत वाणी से पूरे विश्व को नवजीवन का सन्देश दिया था। वे व्यावहारिक वेदान्त के अग्रणी व्यक्तित्व थे। उनके जीवन और कृतित्व में एक विराट सत्ता के प्रति आस्था तो है ही साथ ही मनुष्य को निर्भय और कर्मठ बनाने की प्रेरणा भी है।
‘संसार कायरों के लिए नहीं’ एक विलक्षण और प्रासंगिक पुस्तक है। आज जटिल होते समय और समाज में जीने के लिए व्यक्ति को अपने जीवन का नियोजन करना होता है। यह कठिन कार्य है, इसे स्वामी विवेकानन्द के सन्देश और विचार सुगम बनाते हैं। यह पुस्तक स्वामी विवेकानन्द के विचारों, आदर्शों एवं सन्देशों पर आधारित है। जीवन जीने की कला पर प्रकाश डालते हुए स्वामी जी विश्व मानवता के प्रति अपार करुणा से भर जाते हैं।
सहृदय साहित्यकार डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने स्वामी विवेकानन्द के विपुल साहित्य से वे सूत्र चुने हैं जो समय और समाज को एक नई दिशा देते हैं। इस पुस्तक को पढ़कर किसी भी व्यक्ति के मन में जीवन को सार्थक बनाने की ललक जाग उठेगी। Svami vivekanand yoddha sannyasi the. Karuna, nirbhayta, karmathta, gyan aur seva aadi mahattar gunon se vibhushit unka jivan prerna ka mahagranth hai. Kathin se kathin paristhiti ka samna karne aur usse vijyi hokar nikalne ka aadarsh svami vivekanand ki shikshaon ka saar hai. Svami ji ne apni amrit vani se pure vishv ko navjivan ka sandesh diya tha. Ve vyavharik vedant ke agrni vyaktitv the. Unke jivan aur krititv mein ek virat satta ke prati aastha to hai hi saath hi manushya ko nirbhay aur karmath banane ki prerna bhi hai.
‘sansar kayron ke liye nahin’ ek vilakshan aur prasangik pustak hai. Aaj jatil hote samay aur samaj mein jine ke liye vyakti ko apne jivan ka niyojan karna hota hai. Ye kathin karya hai, ise svami vivekanand ke sandesh aur vichar sugam banate hain. Ye pustak svami vivekanand ke vicharon, aadarshon evan sandeshon par aadharit hai. Jivan jine ki kala par prkash dalte hue svami ji vishv manavta ke prati apar karuna se bhar jate hain.
Sahriday sahitykar dau. Ramesh pokhariyal ‘nishank’ ne svami vivekanand ke vipul sahitya se ve sutr chune hain jo samay aur samaj ko ek nai disha dete hain. Is pustak ko padhkar kisi bhi vyakti ke man mein jivan ko sarthak banane ki lalak jaag uthegi.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products