Look Inside
Sange Sabur : Sahansheel Patthar
Sange Sabur : Sahansheel Patthar
Sange Sabur : Sahansheel Patthar
Sange Sabur : Sahansheel Patthar

Sange Sabur : Sahansheel Patthar

Regular price Rs. 166
Sale price Rs. 166 Regular price Rs. 178
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Sange Sabur : Sahansheel Patthar

Sange Sabur : Sahansheel Patthar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

एक फ़ारसी लोककथा के अनुसार ‘संगे सबूर’ एक जादुई काला पत्थर होता है, जो मनुष्य के दु:खों को सुनता है, अपने भीतर समाता है, और जब भर जाता है तो फट पड़ता है। अपने भीतर जमा सारे दु:खों को वापस दुनिया के ऊपर पलट देता है और यही दुनिया का अन्त होता है।
ज़िहादी हिंसा से छिन्न-भिन्न किसी शहर में एक जर्जर घर है और गोलियों की आवाज़ों से हिलती-काँपती उसकी दीवारों के भीतर एक स्त्री अपने घायल पति को छिपाए बैठी है। पति की गर्दन में गोली लगी है और इस समय वह कोमा में है। जीवन और मृत्यु के बीच की इसी अचेतनावस्था में पत्थर की तरह पड़े अपने पति को वह स्त्री-जीवन में पहली बार वह सब सुना रही है जिसे कहने की इजाज़त न उसका धर्म उसे देता है, न समाज और न ही पुरुष वर्चस्व। तहेदिल और भरपूर स्नेह के साथ पति की तीमारदारी में जुटी वह स्त्री आज अपने तमाम सपनों, वंचनाओं, पापों और ग़ुस्से को शब्द देती है, अपने रहस्यों से पर्दा उठाती है, अपने दु:खों का हिसाब माँगती है और एक लोमहर्षक कथा बुनती है।
अफ़गानी मूल के फ़्रांसीसी लेखक अतिक् रहिमी इस उपन्यास में संसार की उन असंख्य औरतों की ज़ुबान को हरकत दे रहे हैं जो सदियों से ख़ामोश हैं और जिनके पास ऐसी जाने कितनी कहानियाँ अनकही पड़ी हुई हैं जो सामने आएँ तो पत्थरों के भी कलेजे बेसाख़्ता फट पड़ें। Ek farsi lokaktha ke anusar ‘sange sabur’ ek jadui kala patthar hota hai, jo manushya ke du:khon ko sunta hai, apne bhitar samata hai, aur jab bhar jata hai to phat padta hai. Apne bhitar jama sare du:khon ko vapas duniya ke uupar palat deta hai aur yahi duniya ka ant hota hai. Zihadi hinsa se chhinn-bhinn kisi shahar mein ek jarjar ghar hai aur goliyon ki aavazon se hilti-kanpati uski divaron ke bhitar ek stri apne ghayal pati ko chhipaye baithi hai. Pati ki gardan mein goli lagi hai aur is samay vah koma mein hai. Jivan aur mrityu ke bich ki isi achetnavastha mein patthar ki tarah pade apne pati ko vah stri-jivan mein pahli baar vah sab suna rahi hai jise kahne ki ijazat na uska dharm use deta hai, na samaj aur na hi purush varchasv. Tahedil aur bharpur sneh ke saath pati ki timardari mein juti vah stri aaj apne tamam sapnon, vanchnaon, papon aur gusse ko shabd deti hai, apne rahasyon se parda uthati hai, apne du:khon ka hisab mangati hai aur ek lomharshak katha bunti hai.
Afgani mul ke fransisi lekhak atik rahimi is upanyas mein sansar ki un asankhya aurton ki zuban ko harkat de rahe hain jo sadiyon se khamosh hain aur jinke paas aisi jane kitni kahaniyan anakhi padi hui hain jo samne aaen to patthron ke bhi kaleje besakhta phat paden.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products