Look Inside
Sangatin Yatra
Sangatin Yatra
Sangatin Yatra
Sangatin Yatra

Sangatin Yatra

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Sangatin Yatra

Sangatin Yatra

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘संगतिन-यात्रा’ उत्तर प्रदेश के सीतापुर ज़िले में दलित और शोषित महिलाओं के हक़ के लिए लड़ती सात ग्राम-स्तरीय महिला-कार्यकर्ताओं की ज़िन्दगी का सफ़रनामा है। नौ लेखिकाओं की क़लम से पिरोया यह सफ़रनामा सात औरतों की निजी डायरियों पर आधारित है। इसमें उन्होंने अपने बचपन, जवानी, शादी-ब्याह और मातृत्व की देहरी से लेकर गाँवों में किए अपने काम तथा उस काम से जुड़े हुए सपनों आदि को बहुत मार्मिकता से लिपिबद्ध किया है।
इन कहानियों के माध्यम से लेखिकाओं ने बार-बार हमारा ध्यान उन सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक ढाँचों और प्रक्रियाओं की ओर ले जाने की कोशिश की है, जो लिंग-भेद से जुड़े संघर्षों को जाति, वर्ग, मज़हबी भेदभाव और छुआछूत की ज़ंजीरों में जकड़े रहती हैं। साथ ही इसमें उन जटिलताओं और दिक़्क़तों को भी स्वर देने की भरसक कोशिश हुई है, जो आज के दौर में एनजीओ की दुनिया में गहरे तक पैठ गई हैं, लेकिन जिन पर खुलकर बातचीत करने के लिए ग्राम-स्तरीय कार्यकर्ताओं को बहुत कम मंच मिलते हैं। मंच मिले भी हैं, तो खुलकर कहने-बोलने का साहस जुटाना कठिन होता है।
ललित और वैचारिक लेखन के बीच की खाई को पाटते हुए अपनी जुदा-जुदा दुनिया में साँस लेती नौ लेखिकाओं ने जिस अनूठी सामूहिक प्रक्रिया से गुज़रकर इस प्रयास को साँचे में ढाला या एक माला की तरह पिरोया है, उसका सिलसिलेवार बयान इस किताब और चिन्तन को एक नया आयाम और गहराई देता है। ‘sangtin-yatra’ uttar prdesh ke sitapur zile mein dalit aur shoshit mahilaon ke haq ke liye ladti saat gram-striy mahila-karykartaon ki zindagi ka safarnama hai. Nau lekhikaon ki qalam se piroya ye safarnama saat aurton ki niji dayariyon par aadharit hai. Ismen unhonne apne bachpan, javani, shadi-byah aur matritv ki dehri se lekar ganvon mein kiye apne kaam tatha us kaam se jude hue sapnon aadi ko bahut marmikta se lipibaddh kiya hai. In kahaniyon ke madhyam se lekhikaon ne bar-bar hamara dhyan un samajik, aarthik aur rajnitik dhanchon aur prakriyaon ki or le jane ki koshish ki hai, jo ling-bhed se jude sangharshon ko jati, varg, mazahbi bhedbhav aur chhuachhut ki zanjiron mein jakde rahti hain. Saath hi ismen un jatiltaon aur diqqton ko bhi svar dene ki bharsak koshish hui hai, jo aaj ke daur mein enjio ki duniya mein gahre tak paith gai hain, lekin jin par khulkar batchit karne ke liye gram-striy karykartaon ko bahut kam manch milte hain. Manch mile bhi hain, to khulkar kahne-bolne ka sahas jutana kathin hota hai.
Lalit aur vaicharik lekhan ke bich ki khai ko patte hue apni juda-juda duniya mein sans leti nau lekhikaon ne jis anuthi samuhik prakriya se guzarkar is pryas ko sanche mein dhala ya ek mala ki tarah piroya hai, uska silasilevar bayan is kitab aur chintan ko ek naya aayam aur gahrai deta hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products