BackBack

San 2025

Piyush Mishra

Rs. 250 Rs. 238

दो पात्रों का यह नाटक एक लेखक के रहस्यमय जीवन और लेखन से एक-एक कर कई पर्दे उठाता है। गड़गड़ सूफ़ी एक जासूस है, जो उसके चर्चित-पुरस्कृत उपन्यासों की सच्चाई की तस्दीक अख़बारी कतरनों से करता चलता है और एक दिन आकर लेखक को बताता है कि मुझे मालूम है... Read More

HardboundHardbound
readsample_tab

दो पात्रों का यह नाटक एक लेखक के रहस्यमय जीवन और लेखन से एक-एक कर कई पर्दे उठाता है। गड़गड़ सूफ़ी एक जासूस है, जो उसके चर्चित-पुरस्कृत उपन्यासों की सच्चाई की तस्दीक अख़बारी कतरनों से करता चलता है और एक दिन आकर लेखक को बताता है कि मुझे मालूम है कि आपने जो भी हत्या-कथाएँ लिखी हैं, वे आपने स्वयं की हैं; और लेखक उसके इस आरोप को स्वीकार कर लेता है और कहता है कि हाँ, वे सब हत्याएँ मैंने ही की हैं। इससे पहले कि जासूस लेखक से कुछ हासिल करने के लिए अपनी शर्तें मनवाता लेखक पिस्तौल के इशारे पर उसे बाल्कनी से गिरकर मरने पर बाध्य कर देता है।
तुर्की-ब-तुर्की संवादों के माध्यम से आगे बढ़ता यह छोटा-सा नाटक दर्शक के सामने सच और झूठ का एक तिलस्म रचता है जिसमें हमें यथार्थ का एक नया चेहरा दिखाई देता है। Do patron ka ye natak ek lekhak ke rahasymay jivan aur lekhan se ek-ek kar kai parde uthata hai. Gadgad sufi ek jasus hai, jo uske charchit-puraskrit upanyason ki sachchai ki tasdik akhbari katarnon se karta chalta hai aur ek din aakar lekhak ko batata hai ki mujhe malum hai ki aapne jo bhi hatya-kathayen likhi hain, ve aapne svayan ki hain; aur lekhak uske is aarop ko svikar kar leta hai aur kahta hai ki han, ve sab hatyayen mainne hi ki hain. Isse pahle ki jasus lekhak se kuchh hasil karne ke liye apni sharten manvata lekhak pistaul ke ishare par use balkni se girkar marne par badhya kar deta hai. Turki-ba-turki sanvadon ke madhyam se aage badhta ye chhota-sa natak darshak ke samne sach aur jhuth ka ek tilasm rachta hai jismen hamein yatharth ka ek naya chehra dikhai deta hai.

Description

दो पात्रों का यह नाटक एक लेखक के रहस्यमय जीवन और लेखन से एक-एक कर कई पर्दे उठाता है। गड़गड़ सूफ़ी एक जासूस है, जो उसके चर्चित-पुरस्कृत उपन्यासों की सच्चाई की तस्दीक अख़बारी कतरनों से करता चलता है और एक दिन आकर लेखक को बताता है कि मुझे मालूम है कि आपने जो भी हत्या-कथाएँ लिखी हैं, वे आपने स्वयं की हैं; और लेखक उसके इस आरोप को स्वीकार कर लेता है और कहता है कि हाँ, वे सब हत्याएँ मैंने ही की हैं। इससे पहले कि जासूस लेखक से कुछ हासिल करने के लिए अपनी शर्तें मनवाता लेखक पिस्तौल के इशारे पर उसे बाल्कनी से गिरकर मरने पर बाध्य कर देता है।
तुर्की-ब-तुर्की संवादों के माध्यम से आगे बढ़ता यह छोटा-सा नाटक दर्शक के सामने सच और झूठ का एक तिलस्म रचता है जिसमें हमें यथार्थ का एक नया चेहरा दिखाई देता है। Do patron ka ye natak ek lekhak ke rahasymay jivan aur lekhan se ek-ek kar kai parde uthata hai. Gadgad sufi ek jasus hai, jo uske charchit-puraskrit upanyason ki sachchai ki tasdik akhbari katarnon se karta chalta hai aur ek din aakar lekhak ko batata hai ki mujhe malum hai ki aapne jo bhi hatya-kathayen likhi hain, ve aapne svayan ki hain; aur lekhak uske is aarop ko svikar kar leta hai aur kahta hai ki han, ve sab hatyayen mainne hi ki hain. Isse pahle ki jasus lekhak se kuchh hasil karne ke liye apni sharten manvata lekhak pistaul ke ishare par use balkni se girkar marne par badhya kar deta hai. Turki-ba-turki sanvadon ke madhyam se aage badhta ye chhota-sa natak darshak ke samne sach aur jhuth ka ek tilasm rachta hai jismen hamein yatharth ka ek naya chehra dikhai deta hai.

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

San 2025

दो पात्रों का यह नाटक एक लेखक के रहस्यमय जीवन और लेखन से एक-एक कर कई पर्दे उठाता है। गड़गड़ सूफ़ी एक जासूस है, जो उसके चर्चित-पुरस्कृत उपन्यासों की सच्चाई की तस्दीक अख़बारी कतरनों से करता चलता है और एक दिन आकर लेखक को बताता है कि मुझे मालूम है कि आपने जो भी हत्या-कथाएँ लिखी हैं, वे आपने स्वयं की हैं; और लेखक उसके इस आरोप को स्वीकार कर लेता है और कहता है कि हाँ, वे सब हत्याएँ मैंने ही की हैं। इससे पहले कि जासूस लेखक से कुछ हासिल करने के लिए अपनी शर्तें मनवाता लेखक पिस्तौल के इशारे पर उसे बाल्कनी से गिरकर मरने पर बाध्य कर देता है।
तुर्की-ब-तुर्की संवादों के माध्यम से आगे बढ़ता यह छोटा-सा नाटक दर्शक के सामने सच और झूठ का एक तिलस्म रचता है जिसमें हमें यथार्थ का एक नया चेहरा दिखाई देता है। Do patron ka ye natak ek lekhak ke rahasymay jivan aur lekhan se ek-ek kar kai parde uthata hai. Gadgad sufi ek jasus hai, jo uske charchit-puraskrit upanyason ki sachchai ki tasdik akhbari katarnon se karta chalta hai aur ek din aakar lekhak ko batata hai ki mujhe malum hai ki aapne jo bhi hatya-kathayen likhi hain, ve aapne svayan ki hain; aur lekhak uske is aarop ko svikar kar leta hai aur kahta hai ki han, ve sab hatyayen mainne hi ki hain. Isse pahle ki jasus lekhak se kuchh hasil karne ke liye apni sharten manvata lekhak pistaul ke ishare par use balkni se girkar marne par badhya kar deta hai. Turki-ba-turki sanvadon ke madhyam se aage badhta ye chhota-sa natak darshak ke samne sach aur jhuth ka ek tilasm rachta hai jismen hamein yatharth ka ek naya chehra dikhai deta hai.