BackBack
-11%

Samvedana Ke Swar

Dinesh Adhikari

Rs. 300 Rs. 267

दिनेश अधिकारी नेपाली कवि हैं। हिन्दी में यह उनका पहला काव्य-संग्रह है। बहैसियत कवि अपने काव्य-कर्म के बारे में उनका कहना है कि आदमी और आदमी से जुड़े तमाम सन्दर्भ ही उनके लेखन की ऊर्जा बनते हैं। मौलिकता की उनकी अवधारणा ठीक उतनी ही विनम्र है जितनी ये कविताएँ। विनम्र... Read More

BlackBlack
Description

दिनेश अधिकारी नेपाली कवि हैं। हिन्दी में यह उनका पहला काव्य-संग्रह है। बहैसियत कवि अपने काव्य-कर्म के बारे में उनका कहना है कि आदमी और आदमी से जुड़े तमाम सन्दर्भ ही उनके लेखन की ऊर्जा बनते हैं। मौलिकता की उनकी अवधारणा ठीक उतनी ही विनम्र है जितनी ये कविताएँ। विनम्र लेकिन तत्वतः ठोस और अपने पैरों के नीचे की ज़मीं को भरी-पूरी नज़रों से देखती-आँकती हुई। वे कहते हैं कि एक ही विश्व के निवासी होने के कारण विषयवस्तु में समानता की सम्भावना प्रबल होती है। सो सृष्टा की मौलिकता को उसके प्रस्तुति-क्रम में खोजना चाहिए। लेकिन मौलिकता की एक कसौटी और भी है, वह है दृष्टि, जिसके दर्शन इस संग्रह की कविताओं में होते हैं। उनकी कविता पूछती है : ‘प्रदर्शन मात्र ही शक्ति है क्या?’ उनकी कविता बताती है : ‘कपड़ा फट जाता है, चमड़ी नहीं।’ उनकी कविता उद्घाटित करती है : ‘तर्क वास्तव में बेशर्म ही होता है...शासक की तरह बेहया।’ उनकी कविता स्वीकार करती है : ‘अकेले चलने का आनन्द तुम्हारे साथ चलते नहीं आता।’ ये कुछ पंक्तियाँ यद्यपि उनकी मौलिकता को रेखांकित करने के लिए पर्याप्त हैं लेकिन इस
संग्रह की कविताओं की अर्थ और सन्दर्भ-व्याप्ति कहीं अधिक है।
बीच-बीच में नेपाली अभिव्यक्तियों के साथ ये कविताएँ अखिल मानवता को सम्बोधित करती हैं। ‘हर्क बहादुर’, ‘कहाँ रखें अब पैदा होनेवाले पुत्र को’, ‘मच्छरदानी के भीतर आदमी’, ‘आदमी का क़द’ और ‘विकासोन्मुख देश का आदमी’ जैसी अनेक कविताएँ कवि के आन्तरिक विस्तार का परिचय देती हैं।
संग्रह में प्रकाशित ‘गाँव की एक कविता’ बार-बार पढ़ने लायक़ कविता है जिसमें प्रस्तुत गाँव की तस्वीर भारत में भी जहाँ चाहे वहाँ देखी जा सकती है। हस्तक्षेप के रूप में देखें तो यह विचारणीय है जो यह कविता कहती
है : ‘गोद के शिशु को पीठ पर बाँधकर मज़े से निकल जाती है कोई भी माँ अपनी सन्तान पर भी बोझ बन सकती है—उसे पता नहीं।’ हिन्दी कविता के परिदृश्य में हमारे प्रिय पड़ोसी देश से आई यह दस्तक स्वागत योग्य है, पर उससे पहले ध्यान से पढ़ने योग्य। Dinesh adhikari nepali kavi hain. Hindi mein ye unka pahla kavya-sangrah hai. Bahaisiyat kavi apne kavya-karm ke bare mein unka kahna hai ki aadmi aur aadmi se jude tamam sandarbh hi unke lekhan ki uurja bante hain. Maulikta ki unki avdharna thik utni hi vinamr hai jitni ye kavitayen. Vinamr lekin tatvatः thos aur apne pairon ke niche ki zamin ko bhari-puri nazron se dekhti-ankati hui. Ve kahte hain ki ek hi vishv ke nivasi hone ke karan vishayvastu mein samanta ki sambhavna prbal hoti hai. So srishta ki maulikta ko uske prastuti-kram mein khojna chahiye. Lekin maulikta ki ek kasauti aur bhi hai, vah hai drishti, jiske darshan is sangrah ki kavitaon mein hote hain. Unki kavita puchhti hai : ‘prdarshan matr hi shakti hai kya?’ unki kavita batati hai : ‘kapda phat jata hai, chamdi nahin. ’ unki kavita udghatit karti hai : ‘tark vastav mein besharm hi hota hai. . . Shasak ki tarah behya. ’ unki kavita svikar karti hai : ‘akele chalne ka aanand tumhare saath chalte nahin aata. ’ ye kuchh panktiyan yadyapi unki maulikta ko rekhankit karne ke liye paryapt hain lekin isSangrah ki kavitaon ki arth aur sandarbh-vyapti kahin adhik hai.
Bich-bich mein nepali abhivyaktiyon ke saath ye kavitayen akhil manavta ko sambodhit karti hain. ‘hark bahadur’, ‘kahan rakhen ab paida honevale putr ko’, ‘machchhardani ke bhitar aadmi’, ‘admi ka qad’ aur ‘vikasonmukh desh ka aadmi’ jaisi anek kavitayen kavi ke aantrik vistar ka parichay deti hain.
Sangrah mein prkashit ‘ganv ki ek kavita’ bar-bar padhne layaq kavita hai jismen prastut ganv ki tasvir bharat mein bhi jahan chahe vahan dekhi ja sakti hai. Hastakshep ke rup mein dekhen to ye vicharniy hai jo ye kavita kahti
Hai : ‘god ke shishu ko pith par bandhakar maze se nikal jati hai koi bhi man apni santan par bhi bojh ban sakti hai—use pata nahin. ’ hindi kavita ke paridrishya mein hamare priy padosi desh se aai ye dastak svagat yogya hai, par usse pahle dhyan se padhne yogya.