Look Inside
Sampurna Kahaniyan : Manzoor Ehtesham
Sampurna Kahaniyan : Manzoor Ehtesham
Sampurna Kahaniyan : Manzoor Ehtesham
Sampurna Kahaniyan : Manzoor Ehtesham

Sampurna Kahaniyan : Manzoor Ehtesham

Regular price Rs. 832
Sale price Rs. 832 Regular price Rs. 895
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Sampurna Kahaniyan : Manzoor Ehtesham

Sampurna Kahaniyan : Manzoor Ehtesham

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

मंज़ूर एहतेशाम हमारे समय के अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कथाकार हैं। उनकी रचनाएँ किसी चमत्कार के लिए व्यग्र नहीं दिखतीं, बल्कि वे अनेक अन्तर्विरोधों और त्रासदियों के बावजूद ‘चमत्कार की तरह बचे जीवन’ का आख्यान रचती हैं। इस संग्रह में उनकी सभी कहानियाँ शामिल हैं। सम्पूर्णता में पढ़ने पर यह स्पष्ट होता है कि मंज़ूर एहतेशाम मध्यवर्गीय भारतीय समाज के द्वन्द्वात्मक यथार्थ को उल्लेखनीय शिल्प में अभिव्यक्त करते हैं। ‘तमाशा’ कहानी का प्रारम्भ है, ‘याद करता हूँ तो कोई किस्सा-कहानी लगता है : ख़ुद से बहुत दूर और अविश्वसनीय-सा। यह कमाल वक़्त के पास है कि असलियत को क़िस्से-कहानी में तब्दील कर दे।’ किसी भी श्रेष्ठ रचनाकार की तरह यह कमाल मंज़ूर एहतेशाम के पास भी है कि वे परिचित यथार्थ के अदेखे कोनों-अँतरों को अपनी रचनाशीलता से अद्भुत कहानी में बदल देते हैं। स्थानीयता इन कहानियों का स्वभाव और व्यापक मनुष्यता इनका प्रभाव। अपनी बहुतेरी चिन्ता और चेतना के साथ मध्यवर्गीय मुस्लिम समाज मंज़ूर एहतेशाम की कहानियों में प्रामाणिकता के साथ प्रकट होता रहा है। कुछ इस भाँति कि इनसे विमर्श के जाने कितने सूत्र सामने आते हैं। ये कहानियाँ ‘समूची सामाजिकता’ का मार्ग प्रशस्त करती हैं। इन रचनाओं में शैली के रेखांकित करने योग्य प्रयोग हैं, फिर भी लक्ष्य है अनकहे सच की अधिकतम अभिव्यक्ति। सहजता इनकी सहजात विशेषता है। मंज़ूर एहतेशाम का कहानी-समग्र ‘सम्पूर्ण कहानियाँ’ समय और समाज की आन्तरिकता को समेकित रूप से हमारे लिए चमकदार बनाता है। Manzur ehtesham hamare samay ke atyant mahattvpurn kathakar hain. Unki rachnayen kisi chamatkar ke liye vyagr nahin dikhtin, balki ve anek antarvirodhon aur trasadiyon ke bavjud ‘chamatkar ki tarah bache jivan’ ka aakhyan rachti hain. Is sangrah mein unki sabhi kahaniyan shamil hain. Sampurnta mein padhne par ye spasht hota hai ki manzur ehtesham madhyvargiy bhartiy samaj ke dvandvatmak yatharth ko ullekhniy shilp mein abhivyakt karte hain. ‘tamasha’ kahani ka prarambh hai, ‘yad karta hun to koi kissa-kahani lagta hai : khud se bahut dur aur avishvasniy-sa. Ye kamal vakt ke paas hai ki asaliyat ko qisse-kahani mein tabdil kar de. ’ kisi bhi shreshth rachnakar ki tarah ye kamal manzur ehtesham ke paas bhi hai ki ve parichit yatharth ke adekhe konon-antaron ko apni rachnashilta se adbhut kahani mein badal dete hain. Sthaniyta in kahaniyon ka svbhav aur vyapak manushyta inka prbhav. Apni bahuteri chinta aur chetna ke saath madhyvargiy muslim samaj manzur ehtesham ki kahaniyon mein pramanikta ke saath prkat hota raha hai. Kuchh is bhanti ki inse vimarsh ke jane kitne sutr samne aate hain. Ye kahaniyan ‘samuchi samajikta’ ka marg prshast karti hain. In rachnaon mein shaili ke rekhankit karne yogya pryog hain, phir bhi lakshya hai anakhe sach ki adhiktam abhivyakti. Sahajta inki sahjat visheshta hai. Manzur ehtesham ka kahani-samagr ‘sampurn kahaniyan’ samay aur samaj ki aantarikta ko samekit rup se hamare liye chamakdar banata hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products