Sammukh

Regular price Rs. 372
Sale price Rs. 372 Regular price Rs. 401
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Sammukh

Sammukh

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘सम्मुख’ नामवर सिंह के साक्षात्कारों की महत्त्वपूर्ण पुस्तक है। नामवर सिंह आधुनिक हिन्दी के सबसे बड़े संवादी थे। जिस अर्थ में महात्मा गाँधी आधुनिक भारत के। वाद-विवाद-संवाद को अनिवार्य मानते हुए संवाद के प्रत्येक रूप के लिए प्रस्तुत। संवादी आलोचक। साहित्य-समाज में छिड़ी चर्चाओं में अपनी मान्यताओं और तर्कों के साथ उपस्थित होकर उसमें अपने ढंग से हस्तक्षेप करना उन्हें ज़रूरी लगता था। सम्भवतः इसीलिए उन्होंने ‘साक्षात्कार’ विधा को उसके उभार के दौर से ही गम्भीरता से लिया। साक्षात्कार विधा के उभार का गहरा सम्बन्ध आठवें दशक में पत्रकारिता और साहित्य की आन्तरिक ज़रूरतों और उनके रिश्तों के साथ ही भारतीय लोकतंत्र में आए बुनियादी परिवर्तन से है।
पुस्तक में संकलित साक्षात्कारों का विषय क्षेत्र अत्यन्त विस्तृत है। मार्क्सवाद, समकालीन विश्व, पूँजीवाद, नवसाम्राज्यवाद, नवफासीवाद और भारतीय लोकतंत्र के विरूपीकरण से लेकर कविता और कहानी तक। साहित्य और देश-दुनिया की उनकी समझ का एक स्पष्ट प्रतिबिम्ब यहाँ मिलता है। उनकी विश्वदृष्टि का रूपायन इनमें हुआ है। पुस्तक दो खंडों में है। दीर्घ और विषय केन्द्रित साक्षात्कार पहले खंड में हैं। इनमें एक तरह की तार्किक पूर्णता है। उठाए गए प्रश्नों पर नामवर जी का अभिमत समग्रता के साथ अभिव्यक्त हुआ है। दूसरे खंड में प्रकाशित साक्षात्कारों में ‘तेज चाल बातचीत’ का बोध होता है। इनमें एक तरह की क्षिप्रता है। विलक्षण नुकीलापन। ये साक्षात्कार हिन्दी के शीर्ष आलोचक नामवर सिंह की विचार-प्रक्रिया को भी रेखांकित करते हैं। ‘sammukh’ namvar sinh ke sakshatkaron ki mahattvpurn pustak hai. Namvar sinh aadhunik hindi ke sabse bade sanvadi the. Jis arth mein mahatma gandhi aadhunik bharat ke. Vad-vivad-sanvad ko anivarya mante hue sanvad ke pratyek rup ke liye prastut. Sanvadi aalochak. Sahitya-samaj mein chhidi charchaon mein apni manytaon aur tarkon ke saath upasthit hokar usmen apne dhang se hastakshep karna unhen zaruri lagta tha. Sambhvatः isiliye unhonne ‘sakshatkar’ vidha ko uske ubhar ke daur se hi gambhirta se liya. Sakshatkar vidha ke ubhar ka gahra sambandh aathven dashak mein patrkarita aur sahitya ki aantrik zarurton aur unke rishton ke saath hi bhartiy loktantr mein aae buniyadi parivartan se hai. Pustak mein sanklit sakshatkaron ka vishay kshetr atyant vistrit hai. Marksvad, samkalin vishv, punjivad, navsamrajyvad, navphasivad aur bhartiy loktantr ke virupikran se lekar kavita aur kahani tak. Sahitya aur desh-duniya ki unki samajh ka ek spasht pratibimb yahan milta hai. Unki vishvdrishti ka rupayan inmen hua hai. Pustak do khandon mein hai. Dirgh aur vishay kendrit sakshatkar pahle khand mein hain. Inmen ek tarah ki tarkik purnta hai. Uthaye ge prashnon par namvar ji ka abhimat samagrta ke saath abhivyakt hua hai. Dusre khand mein prkashit sakshatkaron mein ‘tej chal batchit’ ka bodh hota hai. Inmen ek tarah ki kshiprta hai. Vilakshan nukilapan. Ye sakshatkar hindi ke shirsh aalochak namvar sinh ki vichar-prakriya ko bhi rekhankit karte hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products