Look Inside
Samkaleenta Aur Sahitya
Samkaleenta Aur Sahitya
Samkaleenta Aur Sahitya
Samkaleenta Aur Sahitya

Samkaleenta Aur Sahitya

Regular price ₹ 497
Sale price ₹ 497 Regular price ₹ 534
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Samkaleenta Aur Sahitya

Samkaleenta Aur Sahitya

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

जब मैं बैंक में काम करता था, एक भिखारी था जो थोड़े अन्तराल से बैंक आता और रोकड़िया के काउंटर पर जाकर बहुत सारी चिल्लर अपनी थैली से उलट देता, फिर अपनी अंटी से, कभी अपनी आस्तीन से तुड़े-मुड़े नोट निकालकर एक छोटी-सी ढेरी लगा देता। कहता, इसे जमा कर लीजिए। उसके आने से मज़ा आता, आश्चर्य भी होता और एक क़िस्म की खीज भी होती—उन नोटों और गन्दी-सी चिल्लर को गिनने में। उस रोकड़िया जैसी ही स्थिति मेरी भी होती है जब समय-समय पर लिखी गई, छोटी-बड़ी टिप्पणियों को जमा कर उनकी किताब बनाने लगता हूँ। इस पूरी प्रक्रिया में लेकिन भिखारी भी मैं ही हूँ और रोकड़िया भी। सारी चिल्लर और नोट गिन लिए जाते तब पता लगता कि राशि कम नहीं हैं—कुल जमा काफ़ी अच्छा-ख़ासा है। ऐसा आश्चर्य कभी-कभी मुझे भी होता है। पृष्ठ गिनने लगता हूँ तो लगता है कि बहुत कुछ जमा हो गया है। सब कुछ चोखा नहीं है, कुछ खोटे सिक्के और फटे हुए नोट भी हैं।
इस दूसरी नोटबुक में इतना ही फ़र्क़ है कि इसमें गद्य की कुछ किताबों पर गाहे-बगाहे लिखी गई टिप्पणियों को भी शामिल किया गया है। पहली नोटबुक के फ़्लैप पर मैंने कहा था कि लिखने के सारे कौशल सिर्फ़ रचनाकार की क्षमताओं से ही पैदा नहीं होते हैं, कई बार वह अक्षमताओं से भी जन्म लेते हैं। ये नोट्‌स और टिप्पणियाँ मेरी क्षमताओं के बनिस्बत मेरी अक्षमताओं से ज़्यादा पैदा हुई हैं।
मुझे लगता था कि बाज़ार हिन्दी की कविता का कभी कुछ नहीं बिगाड़ पाएगा क्योंकि न तो इस क्षेत्र में अधिक पैसा है, न ही कीर्ति के कोई बहुत बड़े अवसर ही हैं। पर मैं ग़लत था। बाज़ार एक प्रवृत्ति है। इसका ताल्लुक़ अवसर, पैसे या कीर्ति से नहीं है। हिन्दी साहित्य का वर्तमान परिदृश्य जिस तरह के घमासान और निरर्थक विवादों से भरा नज़र आ रहा है, वह बाज़ार के ही प्रभाव का परिणाम है। विगत तीन दशकों की कविता का जैसा मूल्यांकन होना चाहिए, वह नहीं हो पा रहा है। ‘आलोचना’ से यह उम्मीद तब तक निरर्थक ही होगी जब तक कि कवि स्वयं इस दृश्य के मूल्यांकन की कोशिश नहीं करेंगे। यही हालत गद्य की भी है, विशेष रूप से कहानी और उपन्यास की। उसमें हल्ला अधिक है, सार्थक विमर्श और साफ़ बोलनेवाली आलोचना कम। आलोचना का एक बड़ा हिस्सा या तो उजड्डता और अहंकार से भरा है या ‘अहो रूपम् अहो ध्वनि’ के शोर से। एक कवि और कथाकार ही इसमें हस्तक्षेप कर सकता है। उसी की ज़रूरत है।
—राजेश जोशी Jab main baink mein kaam karta tha, ek bhikhari tha jo thode antral se baink aata aur rokadiya ke kauntar par jakar bahut sari chillar apni thaili se ulat deta, phir apni anti se, kabhi apni aastin se tude-mude not nikalkar ek chhoti-si dheri laga deta. Kahta, ise jama kar lijiye. Uske aane se maza aata, aashcharya bhi hota aur ek qism ki khij bhi hoti—un noton aur gandi-si chillar ko ginne mein. Us rokadiya jaisi hi sthiti meri bhi hoti hai jab samay-samay par likhi gai, chhoti-badi tippaniyon ko jama kar unki kitab banane lagta hun. Is puri prakriya mein lekin bhikhari bhi main hi hun aur rokadiya bhi. Sari chillar aur not gin liye jate tab pata lagta ki rashi kam nahin hain—kul jama kafi achchha-khasa hai. Aisa aashcharya kabhi-kabhi mujhe bhi hota hai. Prishth ginne lagta hun to lagta hai ki bahut kuchh jama ho gaya hai. Sab kuchh chokha nahin hai, kuchh khote sikke aur phate hue not bhi hain. Is dusri notbuk mein itna hi farq hai ki ismen gadya ki kuchh kitabon par gahe-bagahe likhi gai tippaniyon ko bhi shamil kiya gaya hai. Pahli notbuk ke flaip par mainne kaha tha ki likhne ke sare kaushal sirf rachnakar ki kshamtaon se hi paida nahin hote hain, kai baar vah akshamtaon se bhi janm lete hain. Ye not‌sa aur tippaniyan meri kshamtaon ke banisbat meri akshamtaon se zyada paida hui hain.
Mujhe lagta tha ki bazar hindi ki kavita ka kabhi kuchh nahin bigad payega kyonki na to is kshetr mein adhik paisa hai, na hi kirti ke koi bahut bade avsar hi hain. Par main galat tha. Bazar ek prvritti hai. Iska talluq avsar, paise ya kirti se nahin hai. Hindi sahitya ka vartman paridrishya jis tarah ke ghamasan aur nirarthak vivadon se bhara nazar aa raha hai, vah bazar ke hi prbhav ka parinam hai. Vigat tin dashkon ki kavita ka jaisa mulyankan hona chahiye, vah nahin ho pa raha hai. ‘alochna’ se ye ummid tab tak nirarthak hi hogi jab tak ki kavi svayan is drishya ke mulyankan ki koshish nahin karenge. Yahi halat gadya ki bhi hai, vishesh rup se kahani aur upanyas ki. Usmen halla adhik hai, sarthak vimarsh aur saaf bolnevali aalochna kam. Aalochna ka ek bada hissa ya to ujaddta aur ahankar se bhara hai ya ‘aho rupam aho dhvani’ ke shor se. Ek kavi aur kathakar hi ismen hastakshep kar sakta hai. Usi ki zarurat hai.
—rajesh joshi

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products