Samkaleen Hindi Kavita

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Samkaleen Hindi Kavita

Samkaleen Hindi Kavita

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

जो कुछ लिखा जा रहा है, वह सब समकालीन नहीं है। समकालीनता एक जीवन-दृष्टि है जहाँ कविता अपने समय का आकलन करती है—तर्क और संवेदना की सम्मिलित भूमि पर। यह एक प्रकार से मुठभेड़ है, सर्जनात्मक धरातल पर, जहाँ वस्तुओं के प्रचलित नाम, अर्थ बदल जाते हैं। जीवन को एक नया विन्यास मिलता है कविता में। और यह सब होता है, एक नए मुहावरे में, जिसकी पहचान का कार्य सरल नहीं होता। जिसे मुक्तिबोध ने अभिव्यक्ति के ख़तरे उठाना कहा है। कठिनाई यह भी कि जीवन, यथार्थ और उसे व्यंजित करनेवाले कवि हमारे इतने पास होते हैं कि सही विवेचन का प्रयत्न भी कई कठिनाइयाँ उपस्थित करता है।
अरविंदाक्षन ने समकालीन हिन्दी कविता को सत्ता-मीमांसा का विवेचन करते हुए, एक प्रकार से इस चुनौती को स्वीकार किया है कि समकालीनता की पहचान आसान नहीं, इससे बचना चाहिए। वास्तविकता यह है कि अपने समय से आँख मिलाए बिना न रचना सम्भव है, न आलोचना। निराला को समकालीनता के पूर्वाभास रूप में देखते हुए यह पुस्तक नागार्जुन, मुक्तिबोध से लेकर बिलकुल नए कवि एकान्त श्रीवास्तव तक आती है और लगभग सभी कवियों की समकालीनता को उजागर करती है। नारी के प्रति नई कवि-दृष्टि और कवयित्रियों की अकुलाहट को भी यहाँ स्थान मिला है, सम्भवतः पहली बार। समकालीनता को देखने-समझने का ईमानदार प्रयत्न।
—डॉ. प्रेमशंकर Jo kuchh likha ja raha hai, vah sab samkalin nahin hai. Samkalinta ek jivan-drishti hai jahan kavita apne samay ka aaklan karti hai—tark aur sanvedna ki sammilit bhumi par. Ye ek prkar se muthbhed hai, sarjnatmak dharatal par, jahan vastuon ke prachlit naam, arth badal jate hain. Jivan ko ek naya vinyas milta hai kavita mein. Aur ye sab hota hai, ek ne muhavre mein, jiski pahchan ka karya saral nahin hota. Jise muktibodh ne abhivyakti ke khatre uthana kaha hai. Kathinai ye bhi ki jivan, yatharth aur use vyanjit karnevale kavi hamare itne paas hote hain ki sahi vivechan ka pryatn bhi kai kathinaiyan upasthit karta hai. Arvindakshan ne samkalin hindi kavita ko satta-mimansa ka vivechan karte hue, ek prkar se is chunauti ko svikar kiya hai ki samkalinta ki pahchan aasan nahin, isse bachna chahiye. Vastavikta ye hai ki apne samay se aankh milaye bina na rachna sambhav hai, na aalochna. Nirala ko samkalinta ke purvabhas rup mein dekhte hue ye pustak nagarjun, muktibodh se lekar bilkul ne kavi ekant shrivastav tak aati hai aur lagbhag sabhi kaviyon ki samkalinta ko ujagar karti hai. Nari ke prati nai kavi-drishti aur kavyitriyon ki akulahat ko bhi yahan sthan mila hai, sambhvatः pahli baar. Samkalinta ko dekhne-samajhne ka iimandar pryatn.
—dau. Premshankar

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products