Look Inside
Samay Se Aage
Samay Se Aage
Samay Se Aage
Samay Se Aage

Samay Se Aage

Regular price Rs. 207
Sale price Rs. 207 Regular price Rs. 223
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Samay Se Aage

Samay Se Aage

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

डॉ. सीताराम झा ‘श्याम’ विरचित ‘समय से आगे’ शीर्षक उपन्यास जितना ही रोचक है, उतना ही प्रेरक और प्रभावक भी। इसमें विशाल एवं विस्तृत सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक तथा बौद्धिक-सांस्कृतिक पट-भूमि पर समग्र मानव जीवन का अभूतपूर्व चित्रण किया गया है। वस्तुतः, जीवन के सभी पक्ष अपनी परिपूर्णता में व्यंजित हैं। मानव प्रेम एवं प्रकृति-प्रेम में समवाय सम्बन्ध दिखाते हुए प्रेम को नया विस्तार प्रदान किया गया है, जो जीवन में आशा का संचार करता है, विकास की नई दिशाओं की तलाश के लिए नई दृष्टि प्रदान करता है—शोषण, उत्पीड़न, प्रपीड़न से मुक्त होने तथा समस्त प्राणियों को निर्भर रहने का अमर सन्देश देता है।
इस उपन्यास के कुछ पात्र—विभाकर, रंचना, नन्दिता, निदेश, चलित्तर, सुराजीदास, अनुपम आदि ऐसे हैं, जो धैर्य, साहस, आत्मबल, उत्साह, दूरदृष्टि, कर्मठता, दक्षता, ईमानदारी आदि मानवीय गुणों का उत्कृष्ट परिचय देकर जीवन को सफल-सार्थक बनाते हैं। इसके विपरीत, वल्लरी, सौदामिनी, पुरन्दर जैसे पात्र वर्तमान जीवन के संघर्षपूर्ण दौर में आगे बढ़ने के लिए छटपटाते तो हैं ज़रूर, पर उन्हें न तो आधार भूमि की परख है और न ही मंज़िल का पता। इसी से आगे बढ़ने की अमर्यादित इच्छा उनके वर्तमान को तो विनष्ट कर ही देती है, गौरवपूर्ण अतीत से भी प्रेरणा लेने के योग्य नहीं रहने देती। ऐसी स्थिति में प्रोज्ज्वल भविष्य के दर्शन का सुयोग कैसे मिल सकता है? उपन्यास का पहला ही वाक्य अद्भुत प्रकाश फैला देता है अतीत से भविष्य तक ‘व्यक्ति बहुत कुछ बन जाने की भाग-दौड़ में मनुष्य बनना ही भूल जाता है।’
डॉ. श्याम के इस उपन्यास में मानवीय संवेदना की अप्रतिम अभिव्यंजना है—निश्चल संवेदना की वह मार्मिक व्यंजना, जो मनुष्यता की अनिवार्य शर्त है, जिसके बिना जीवन नीरस और निरर्थक बन जाता है। सम्पूर्ण उपन्यास पढ़ जाने पर किसी को भी यह कहने में संकोच का अनुभव नहीं होगा कि ‘समय से आगे’ उपन्यास लेखन के क्षेत्र में नया प्रतिमान है। Dau. Sitaram jha ‘shyam’ virchit ‘samay se aage’ shirshak upanyas jitna hi rochak hai, utna hi prerak aur prbhavak bhi. Ismen vishal evan vistrit samajik, aarthik, rajnitik tatha bauddhik-sanskritik pat-bhumi par samagr manav jivan ka abhutpurv chitran kiya gaya hai. Vastutः, jivan ke sabhi paksh apni paripurnta mein vyanjit hain. Manav prem evan prkriti-prem mein samvay sambandh dikhate hue prem ko naya vistar prdan kiya gaya hai, jo jivan mein aasha ka sanchar karta hai, vikas ki nai dishaon ki talash ke liye nai drishti prdan karta hai—shoshan, utpidan, prpidan se mukt hone tatha samast praniyon ko nirbhar rahne ka amar sandesh deta hai. Is upanyas ke kuchh patr—vibhakar, ranchna, nandita, nidesh, chalittar, surajidas, anupam aadi aise hain, jo dhairya, sahas, aatmbal, utsah, durdrishti, karmathta, dakshta, iimandari aadi manviy gunon ka utkrisht parichay dekar jivan ko saphal-sarthak banate hain. Iske viprit, vallri, saudamini, purandar jaise patr vartman jivan ke sangharshpurn daur mein aage badhne ke liye chhataptate to hain zarur, par unhen na to aadhar bhumi ki parakh hai aur na hi manzil ka pata. Isi se aage badhne ki amaryadit ichchha unke vartman ko to vinasht kar hi deti hai, gauravpurn atit se bhi prerna lene ke yogya nahin rahne deti. Aisi sthiti mein projjval bhavishya ke darshan ka suyog kaise mil sakta hai? upanyas ka pahla hi vakya adbhut prkash phaila deta hai atit se bhavishya tak ‘vyakti bahut kuchh ban jane ki bhag-daud mein manushya banna hi bhul jata hai. ’
Dau. Shyam ke is upanyas mein manviy sanvedna ki aprtim abhivyanjna hai—nishchal sanvedna ki vah marmik vyanjna, jo manushyta ki anivarya shart hai, jiske bina jivan niras aur nirarthak ban jata hai. Sampurn upanyas padh jane par kisi ko bhi ye kahne mein sankoch ka anubhav nahin hoga ki ‘samay se aage’ upanyas lekhan ke kshetr mein naya pratiman hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products