Samay Ke Pass Samay

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Samay Ke Pass Samay

Samay Ke Pass Samay

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

प्रेम, मृत्यु और आसक्ति के कवि अशोक वाजपेयी ने इधर अपनी जिजीविषा का भूगोल एकबारगी बदल दिया है : वे कहेंगे बदला नहीं, सिर्फ़ उसमें शामिल कुछ ऐसे अहाते रौशन भर कर दिए हैं जो पहले भी थे पर लोगों को नज़र नहीं आते थे। अपनी निजता को छोड़े बिना उनकी कविता की दुनिया अब कुछ अधिक पारदर्शी और सार्वजनिक है। उसमें अब एक नए क़िस्म की बेचैनी और प्रश्नाकुलता विन्यस्त हो रही है।
समय, इतिहास, सच्चाई आदि को लेकर बीसवीं शताब्दी के अन्त में जो दृश्य हाशिये पर से दीखता है, उसे अशोक वाजपेयी अपनी कविता के केन्द्र में ले आए हैं। जुड़ाव-उलझाव के कुछ बिलकुल अछूते प्रसंग उनकी पहली लम्बी कविता में कुम्हार, लुहार, बढ़ई, मछुआरा, कबाड़ी और कुंजड़े जैसे चरित्रों के मर्मकथनों से अपनी पूरी ऐन्द्रियता और चारित्रिकता के साथ प्रगट हुए हैं। उनका पुराना पारिवारिक सरोकार अपने पोते के लिए लिखी गई दो कविताओं में दृष्टि और अनुभव के अनूठे रसायन में चरितार्थ होता है।
एक बार फिर अशोक वाजपेयी की आवाज़ नए प्रश्न पूछती, नई बेचैनी व्यक्त करती और कविता को वहाँ ले जाने की कोशिश करती है जहाँ वह अक्सर नहीं जाती है। अब उनका काव्यदृश्य सयानी समझ और उदासी से, सयानी आत्मालोचना से आलोकित है, उसमें किसी तरह अपसरण नहीं है—कवि अपनी दुनिया में अपनी सारी अपर्याप्तताओं और निष्ठा के साथ शामिल है। कविता उसके इस अटूट उलझाव का साक्ष्य है। Prem, mrityu aur aasakti ke kavi ashok vajpeyi ne idhar apni jijivisha ka bhugol ekbargi badal diya hai : ve kahenge badla nahin, sirf usmen shamil kuchh aise ahate raushan bhar kar diye hain jo pahle bhi the par logon ko nazar nahin aate the. Apni nijta ko chhode bina unki kavita ki duniya ab kuchh adhik pardarshi aur sarvajnik hai. Usmen ab ek ne qism ki bechaini aur prashnakulta vinyast ho rahi hai. Samay, itihas, sachchai aadi ko lekar bisvin shatabdi ke ant mein jo drishya hashiye par se dikhta hai, use ashok vajpeyi apni kavita ke kendr mein le aae hain. Judav-uljhav ke kuchh bilkul achhute prsang unki pahli lambi kavita mein kumhar, luhar, badhii, machhuara, kabadi aur kunjde jaise charitron ke marmakathnon se apni puri aindriyta aur charitrikta ke saath prgat hue hain. Unka purana parivarik sarokar apne pote ke liye likhi gai do kavitaon mein drishti aur anubhav ke anuthe rasayan mein charitarth hota hai.
Ek baar phir ashok vajpeyi ki aavaz ne prashn puchhti, nai bechaini vyakt karti aur kavita ko vahan le jane ki koshish karti hai jahan vah aksar nahin jati hai. Ab unka kavydrishya sayani samajh aur udasi se, sayani aatmalochna se aalokit hai, usmen kisi tarah apasran nahin hai—kavi apni duniya mein apni sari aparyapttaon aur nishtha ke saath shamil hai. Kavita uske is atut uljhav ka sakshya hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products