Look Inside
Sahsa Kucch Nahin Hota
Sahsa Kucch Nahin Hota

Sahsa Kucch Nahin Hota

Regular price ₹ 100
Sale price ₹ 100 Regular price ₹ 100
Unit price
Save 0%
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Sahsa Kucch Nahin Hota

Sahsa Kucch Nahin Hota

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
सहसा कुछ नहीं होता - 'स्वप्न से बाहर', 'सन्नाटे का स्वेटर', 'हम चल रहे हैं'— इन तीन खण्डों में संयोजित बसन्त त्रिपाठी की कविताएँ सपने देखने, न देखने—उनमें रह पाने, न रह पाने की छटपटाहट की कविताएँ हैं। कुछ बीत चुका है जो अब सपना हो गया है और कुछ वह जिसकी आकांक्षा लिए इन्सान गतिशील बना है—तमाम अवरोधों के विरुद्ध! 'बाज़ार में बदलने की शुरुआत थी/ एक घाव अब टीसने लगा था'—यह आज की युवा कविता का दर्द है, मजबूरी है और पूर्व स्मृतियों की कसक है। बसन्त त्रिपाठी भी इन्हीं से खदेड़े जा रहे हैं लेकिन उनकी अभिव्यक्ति की रागात्मकता तथा उसके बीच अचानक आ खड़ी एक बेलाग समझदारी, दूर खड़े हो कर ख़ुद को परखने की नज़र, बार-बार इन कविताओं में कवि की पहचान बनती है: बसन्त त्रिपाठी की कविताओं में युवा मन का यह संज्ञान तो है कि 'सहसा कुछ नहीं होता', किन्तु जब वह इस धीरे-धीरे बदले 'आज' में ख़ुद को धकेला हुआ पाता है तो बेचैनी में कच्चा किशोर बन जाता है—'मुझे लगा कि न चाहने के बावजूद एक कीड़े में तब्दील होता जा रहा हूँ।' स्वेटर अभी भी बसन्त के लिए एक स्त्री-ध्वनित शब्द है—एक-एक घर उठ-गिरा कर बुना स्वेटर! 'सन्नाटे का स्वेटर' खण्ड की कविताएँ औरतों से मुख़ातिब हैं—अपने ख़ास बसन्तिया अन्दाज़ में; हालाँकि खण्ड के प्रवेश द्वार पर रघुवीर सहाय की पंक्तियाँ हैं। लड़कियों की सदियों जनित उदासी के बावजूद इस खण्ड में बर्फ़ पिघलने का संकेत है, कवि के स्वप्नों में कोंपलें फूटती हैं। यहाँ रनिवास में विद्रोह है, देवदासियों में बारिश का क़िस्सा है, उस बच्ची की उम्मीद है जिसकी राह दुनिया तक रही है, लॉटरी बेचने वाली लड़की की हँसी है, चुराई हुई ज़िन्दा साँसें हैं, शक्ति भरती औरत है। 'स्वप्न से बाहर' निकल कर कवि उम्मीद की दहलीज़ पर क़दम रखता है और ज़ाहिर है कि उसके बाद 'हम चल रहे हैं' की स्थिति अपनी उपस्थिति दर्ज कराती है। प्रतीक को ठोस आकार और दृश्य में बदलने की ख़ूबी बसन्त त्रिपाठी में है, चाहे वह असम की चाय हो, या कच्ची सड़क का नुकीला पत्थर या गुल्लक में पड़ी ज़रूरत। यहाँ एक कवि है जो ऊबड़-खाबड़ ज़मीन पर पैर साध रहा है। उसका यह सधाव दिमाग़ और दिल के सन्तुलन से पैदा हो रहा है। सधाव की यह कोशिश बसन्त की कविताओं से नयी उम्मीद जगाता है।—इन्दु जैन sahsa kuchh nahin hotasvapn se bahar, sannate ka svetar, hum chal rahe hain— in teen khanDon mein sanyojit basant tripathi ki kavitayen sapne dekhne, na dekhne—unmen rah pane, na rah pane ki chhataptahat ki kavitayen hain. kuchh beet chuka hai jo ab sapna ho gaya hai aur kuchh vah jiski akanksha liye insan gatishil bana hai—tamam avrodhon ke viruddh! bazar mein badalne ki shuruat thee/ ek ghaav ab tisne laga tha—yah aaj ki yuva kavita ka dard hai, majburi hai aur poorv smritiyon ki kasak hai. basant tripathi bhi inhin se khadeDe ja rahe hain lekin unki abhivyakti ki ragatmakta tatha uske beech achanak aa khaDi ek belag samajhdari, door khaDe ho kar khud ko parakhne ki nazar, baar baar in kavitaon mein kavi ki pahchan banti hai:
basant tripathi ki kavitaon mein yuva man ka ye sangyan to hai ki sahsa kuchh nahin hota, kintu jab vah is dhire dhire badle aaj mein khud ko dhakela hua pata hai to bechaini mein kachcha kishor ban jata hai—mujhe laga ki na chahne ke bavjud ek kiDe mein tabdil hota ja raha hoon.
svetar abhi bhi basant ke liye ek stri dhvnit shabd hai—ek ek ghar uth gira kar buna svetar! sannate ka svetar khanD ki kavitayen aurton se mukhatib hain—apne khaas basantiya andaz men; halanki khanD ke prvesh dvaar par raghuvir sahay ki panktiyan hain. laDakiyon ki sadiyon janit udasi ke bavjud is khanD mein barf pighalne ka sanket hai, kavi ke svapnon mein komplen phutti hain. yahan ranivas mein vidroh hai, devdasiyon mein barish ka qissa hai, us bachchi ki ummid hai jiski raah duniya tak rahi hai, lautri bechne vali laDki ki hansi hai, churai hui zinda sansen hain, shakti bharti aurat hai. svapn se bahar nikal kar kavi ummid ki dahliz par qadam rakhta hai aur zahir hai ki uske baad hum chal rahe hain ki sthiti apni upasthiti darj karati hai.
prteek ko thos akar aur drishya mein badalne ki khubi basant tripathi mein hai, chahe vah asam ki chaay ho, ya kachchi saDak ka nukila patthar ya gullak mein paDi zarurat. yahan ek kavi hai jo uubaD khabaD zamin par pair saadh raha hai. uska ye sadhav dimagh aur dil ke santulan se paida ho raha hai.
sadhav ki ye koshish basant ki kavitaon se nayi ummid jagata hai. —indu jain

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products