BackBack
-11%

Sadran

Bittu Sandhu

Rs. 250 Rs. 223

सदरां दा सफ़र खारीयां रातां तों कसैले दिन, सुफनेयां दे निघ तों उडीक दी पीड़, ओसीयां भरीयां ‘तरकालां’ तों हिजर दी हूक निकियां-निकियां उम्मीदां, उडीकां ते गुआचीआं मुस्कुराहटां तों उस ‘किल’ तक दा है जो ऐसी ‘पीड़’ दे गया जिस तों कई जन्मां, रिश्तेयां ते रुतां दे बाद वी निजात... Read More

BlackBlack
Description

सदरां दा सफ़र खारीयां रातां तों कसैले दिन, सुफनेयां दे निघ तों उडीक दी पीड़, ओसीयां भरीयां ‘तरकालां’ तों हिजर दी हूक निकियां-निकियां उम्मीदां, उडीकां ते गुआचीआं मुस्कुराहटां तों उस ‘किल’ तक दा है जो ऐसी ‘पीड़’ दे गया जिस तों कई जन्मां, रिश्तेयां ते रुतां दे बाद वी निजात नहीं मिली जापदी।
बिट्टू दियां सदरां पता नहीं केहड़े जन्म तों केहड़ा पतझड़ ते केहड़ी बसन्त आपणी पोटली च बन लेआइयां हन।
गल ख़ास एह है कि बिट्टू दी पहली किताब ‘सफ़ीना’ 2009 विच हिन्दुस्तानी दा लड़ फड़ डूंगे उफानी रुहानी समुंदरां च गोते लाउंदी सी। अज उनां समुंदरां ने साडे आले दुआले दी मिट्टी नू गल ला पंजाबी विच गुनीआं सदरां नू साडी झोली पाया ए।
एह मिट्टी दा असर वी है। ते हां जो बिट्टू संधू नू नहीं जाणदे ते सिर्फ़ ‘सफ़ीना’ दी उर्दू हिन्दी विच बुणी महीन कविता नू मणदे हन। उन्हा लई एह ख़ुशख़बरी है कि पंजाबी बिट्टू संधू नू उन्हां दी अम्मी तों मिलया तोहफ़ा है।
पनताली कवितावां विच लखां सदरां करोड़ां सुफनेआं ते अनगिणत सफ़र नामेयां दा एह ज़िक्र ख़ूबसूरत है बिट्टू च रचेया, मिचेया हूबहू उसदे नाल दा, बिलकुल उसदे हाल दा। Sadran da safar khariyan ratan ton kasaile din, suphneyan de nigh ton udik di pid, osiyan bhariyan ‘tarkalan’ ton hijar di huk nikiyan-nikiyan ummidan, udikan te guachian muskurahtan ton us ‘kil’ tak da hai jo aisi ‘pid’ de gaya jis ton kai janman, rishteyan te rutan de baad vi nijat nahin mili japdi. Bittu diyan sadran pata nahin kehde janm ton kehda patjhad te kehdi basant aapni potli cha ban leaiyan han.
Gal khas eh hai ki bittu di pahli kitab ‘safina’ 2009 vich hindustani da lad phad dunge uphani ruhani samundran cha gote laundi si. Aj unan samundran ne sade aale duale di mitti nu gal la panjabi vich gunian sadran nu sadi jholi paya e.
Eh mitti da asar vi hai. Te han jo bittu sandhu nu nahin jande te sirf ‘safina’ di urdu hindi vich buni mahin kavita nu mande han. Unha lai eh khushakhabri hai ki panjabi bittu sandhu nu unhan di ammi ton milya tohfa hai.
Pantali kavitavan vich lakhan sadran karodan suphnean te anaginat safar nameyan da eh zikr khubsurat hai bittu cha racheya, micheya hubhu usde naal da, bilkul usde haal da.