BackBack
-11%

Sadhu Ojha Sant

Sudhir Kakkar

Rs. 250 Rs. 223

आधुनिक चिकित्सा-पद्धति के विकास तथा शिक्षा के प्रचार-प्रसार के बावजूद आज भी भारतीय जनमानस में साधुओं-ओझाओं आदि के प्रति विश्वास पूरी तरह ख़त्म नहीं हुआ है। इसे आधुनिक विज्ञान और राज्य की अक्षमता कहें या जनसाधारण के मन में बैठा अन्धविश्वास कि आज भी ऐसी-ऐसी ख़बरें सुनाई दे जाती हैं... Read More

BlackBlack
Description

आधुनिक चिकित्सा-पद्धति के विकास तथा शिक्षा के प्रचार-प्रसार के बावजूद आज भी भारतीय जनमानस में साधुओं-ओझाओं आदि के प्रति विश्वास पूरी तरह ख़त्म नहीं हुआ है। इसे आधुनिक विज्ञान और राज्य की अक्षमता कहें या जनसाधारण के मन में बैठा अन्धविश्वास कि आज भी ऐसी-ऐसी ख़बरें सुनाई दे जाती हैं जिन पर सहज ही विश्वास नहीं हो पाता।
प्रतिष्ठित मनोविश्लेषक सुधीर कक्कड़ अपनी इस कृति में उसी अविश्वसनीय लेकिन वास्तविक दुनिया की यात्रा करते हैं। साधुओं, ओझाओं, स्थानीय वैद्यों और सन्तों द्वारा सदियों से जारी परम्परागत मनोचिकित्सा पद्धतियों का विश्लेषण करते हुए वे उनके रहस्यों का उद्घाटन करते हैं। मन्दिरों, मठों आदि पर निरन्तर होनेवाली गतिविधियों का विवरण प्रस्तुत करते हुए वे इनकी कार्य-शैली और आस्थावान लोगों की मनोरचना को अपने वैज्ञानिक-नज़रिए से भी देखते चलते हैं।
भारतीय ज्ञान में रुचि रखनेवाले लोगों के लिए उपयोगी इस पुस्तक में लेखक ने भारतीय और पश्चिमी मनोविज्ञान का तुलनात्मक अध्ययन भी किया है। Aadhunik chikitsa-paddhati ke vikas tatha shiksha ke prchar-prsar ke bavjud aaj bhi bhartiy janmanas mein sadhuon-ojhaon aadi ke prati vishvas puri tarah khatm nahin hua hai. Ise aadhunik vigyan aur rajya ki akshamta kahen ya jansadharan ke man mein baitha andhvishvas ki aaj bhi aisi-aisi khabren sunai de jati hain jin par sahaj hi vishvas nahin ho pata. Prtishthit manovishleshak sudhir kakkad apni is kriti mein usi avishvasniy lekin vastvik duniya ki yatra karte hain. Sadhuon, ojhaon, sthaniy vaidyon aur santon dvara sadiyon se jari parampragat manochikitsa paddhatiyon ka vishleshan karte hue ve unke rahasyon ka udghatan karte hain. Mandiron, mathon aadi par nirantar honevali gatividhiyon ka vivran prastut karte hue ve inki karya-shaili aur aasthavan logon ki manorachna ko apne vaigyanik-nazariye se bhi dekhte chalte hain.
Bhartiy gyan mein ruchi rakhnevale logon ke liye upyogi is pustak mein lekhak ne bhartiy aur pashchimi manovigyan ka tulnatmak adhyyan bhi kiya hai.