Look Inside
Sadho ! Jag Baurana
Sadho ! Jag Baurana
Sadho ! Jag Baurana
Sadho ! Jag Baurana

Sadho ! Jag Baurana

Regular price Rs. 207
Sale price Rs. 207 Regular price Rs. 223
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Sadho ! Jag Baurana

Sadho ! Jag Baurana

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

मुकेश कुमार टेलीविज़न की दुनिया का एक जाना-माना नाम है। साहित्य से जुड़े तमाम लोग उन्हें दूरदर्शन पर डॉ. नामवर सिंह के साथ पुस्तक चर्चा के अत्यन्त चर्चित कार्यक्रम ‘सुबह-सवेरे’ के माध्यम से, ‘हंस’ में पिछले आठ सालों से प्रकाशित उनके स्तम्भ ‘कसौटी’ के कारण तथा कई टेलीविज़न चैनलों को शुरू करके उन्हें सफल बनानेवाले एंकर के रूप में भी जानते-समझते रहे हैं। लेकिन उनके बहुविध व्यक्तित्व के बहुत से पहलू लोगों से अभी तक क़रीब-क़रीब छिपे हुए रहे हैं जिनमें उनका व्यंग्यकार, कथाकार तथा कवि रूप भी शामिल है।
टेलीविज़न की दुनिया में रहकर अपने परिवार तक के लिए समय निकाल पाना मुश्किल हो जाता है और हड़बड़ी की इस दुनिया में अपनी संवेदनाएँ बचाना प्राय: असम्भव ही होता है। अत: आश्चर्य होता है कि इस दुनिया में लगातार रहकर ख़ासकर कविता के लिए समय उन्होंने कैसे और कहाँ से निकाल लिया होगा? और यों ही अपनी भावनाएँ व्यक्त करने के लिए कविता के नाम पर कुछ भी लिख देना तो सम्भव या आसान है मगर कविता के आधुनिक मुहावरे को समझते हुए अपने पेशेवर काम से एक बिलकुल ही अलग दुनिया रच देना अगर असम्भव नहीं तो बेहद मुश्किल और जटिल है।
मुकेश की विशेषता सिर्फ़ यह नहीं है कि वे कविताएँ लिखते हैं, यह भी है जैसा कि ऊपर कहा गया, वे इसमें संवेदनाओं की एक अलग दुनिया रचते हैं। यह दुनिया दैनिक और हर घंटे या हर दस मिनट बाद टीवी के पर्दे पर आनेवाली ज़्यादातर सतही और कामचलाऊ ख़बरों और उनके विश्लेषण की दुनिया से बिलकुल ही अलग है। इन कविताओं को पढ़ते हुए पाठकों को याद ही नहीं आएगा कि यह वही मुकेश हैं जिन्हें रात के समय समाचारों का कोई कार्यक्रम प्रस्तुत करते हमने-आपने देखा है, हालाँकि वहाँ भी उनका तीखापन कहीं खोता नहीं जैसे कि ‘हंस’ के उनके स्तम्भ में भी यह बेधड़क ढंग से व्यक्त होता है। इन कविताओं में से कम कविताओं में ही आज की राजनीति से सीधे-सीधे रूप से कवि वाबस्ता है। ये कविताएँ उनके कोमल और लड़ाकू दोनों पक्षों को एक साथ उजागर करती हैं। वे चाँद की बात इनमें करते हैं, साथ ही समुद्र की, नदियों की, स्मृतियों की, साँकल की (जो जीवन से प्राय: खो चुकी है), प्यार की, अपने और बच्चों के बचपन की, आत्मनिर्वासन की और ऐसी ही कई-कई बातें करते हैं। वे कई ताज़े टटके बिम्ब रचते हैं। दूज का चाँद उन्हें बिना मूठ का हँसिया नज़र आता है जो तारों की फ़सल काटने के काम आता है। इन कविताओं में नदी अपनी आत्मकथा लिखती पाई जाती है। इनमें कवि स्मृतियों के घर में रहता हुआ पाया जाता है। और मुकेश यह सारा काम टेलीविज़न की अत्यन्त शब्दस्फीत दुनिया से अलग पर्याप्त भाषा संयम से करते हैं।
उनकी कविताएँ छोटी हैं, स्पष्ट हैं और लगभग उतने ही शब्दों का इस्तेमाल करती हैं जितने का प्रयोग करना अनिवार्य है और यह अनुशासन हासिल करना आसान नहीं है। कई नामी कवि बेहद शब्दस्फीत हैं। उनमें कहीं-कहीं एक गहरा आक्रोश भी है तो कहीं एक गहरा आत्मविश्वास भी, इसलिए कितना भी घना क्यों न हो अँधेरा जितना जान पड़ता है उतना घना नहीं होता अँधेरा। और ऐसे आत्मविश्वास का अर्थ तब ज़्यादा है जब कवि को पता है कि—जिन्हें पूजा हो गए पत्थर, पूजते-पूजते लोग भी हो गए पत्थर, देवता भी पत्थर, पुजारी भी पत्थर, सब पत्थर पत्थर ही पत्थर। जब सब तरफ़ पत्थर ही पत्थर हों, हमारे आदर्श देवता और पुजारी तक जब पत्थर हो चुके हों, तब रचने की चुनौती ज़्यादा गम्भीर है क्योंकि रचना के स्रोत भी पथरा चुके हैं। ऐसे कठिन समय में सरल-आत्मीय कविताएँ रचनेवाले मुकेश कुमार के इस संग्रह की तरफ़ आशा है सबका ध्यान जाएगा, हालाँकि स्थितियाँ साहित्य से जुड़े लोगों के भी पथरा जाने की हैं। Mukesh kumar telivizan ki duniya ka ek jana-mana naam hai. Sahitya se jude tamam log unhen durdarshan par dau. Namvar sinh ke saath pustak charcha ke atyant charchit karyakram ‘subah-savere’ ke madhyam se, ‘hans’ mein pichhle aath salon se prkashit unke stambh ‘kasauti’ ke karan tatha kai telivizan chainlon ko shuru karke unhen saphal bananevale enkar ke rup mein bhi jante-samajhte rahe hain. Lekin unke bahuvidh vyaktitv ke bahut se pahlu logon se abhi tak qarib-qarib chhipe hue rahe hain jinmen unka vyangykar, kathakar tatha kavi rup bhi shamil hai. Telivizan ki duniya mein rahkar apne parivar tak ke liye samay nikal pana mushkil ho jata hai aur hadabdi ki is duniya mein apni sanvednayen bachana pray: asambhav hi hota hai. At: aashcharya hota hai ki is duniya mein lagatar rahkar khaskar kavita ke liye samay unhonne kaise aur kahan se nikal liya hoga? aur yon hi apni bhavnayen vyakt karne ke liye kavita ke naam par kuchh bhi likh dena to sambhav ya aasan hai magar kavita ke aadhunik muhavre ko samajhte hue apne peshevar kaam se ek bilkul hi alag duniya rach dena agar asambhav nahin to behad mushkil aur jatil hai.
Mukesh ki visheshta sirf ye nahin hai ki ve kavitayen likhte hain, ye bhi hai jaisa ki uupar kaha gaya, ve ismen sanvednaon ki ek alag duniya rachte hain. Ye duniya dainik aur har ghante ya har das minat baad tivi ke parde par aanevali zyadatar sathi aur kamachlau khabron aur unke vishleshan ki duniya se bilkul hi alag hai. In kavitaon ko padhte hue pathkon ko yaad hi nahin aaega ki ye vahi mukesh hain jinhen raat ke samay samacharon ka koi karyakram prastut karte hamne-apne dekha hai, halanki vahan bhi unka tikhapan kahin khota nahin jaise ki ‘hans’ ke unke stambh mein bhi ye bedhdak dhang se vyakt hota hai. In kavitaon mein se kam kavitaon mein hi aaj ki rajniti se sidhe-sidhe rup se kavi vabasta hai. Ye kavitayen unke komal aur ladaku donon pakshon ko ek saath ujagar karti hain. Ve chand ki baat inmen karte hain, saath hi samudr ki, nadiyon ki, smritiyon ki, sankal ki (jo jivan se pray: kho chuki hai), pyar ki, apne aur bachchon ke bachpan ki, aatmnirvasan ki aur aisi hi kai-kai baten karte hain. Ve kai taze tatke bimb rachte hain. Duj ka chand unhen bina muth ka hansiya nazar aata hai jo taron ki fasal katne ke kaam aata hai. In kavitaon mein nadi apni aatmaktha likhti pai jati hai. Inmen kavi smritiyon ke ghar mein rahta hua paya jata hai. Aur mukesh ye sara kaam telivizan ki atyant shabdasphit duniya se alag paryapt bhasha sanyam se karte hain.
Unki kavitayen chhoti hain, spasht hain aur lagbhag utne hi shabdon ka istemal karti hain jitne ka pryog karna anivarya hai aur ye anushasan hasil karna aasan nahin hai. Kai nami kavi behad shabdasphit hain. Unmen kahin-kahin ek gahra aakrosh bhi hai to kahin ek gahra aatmvishvas bhi, isaliye kitna bhi ghana kyon na ho andhera jitna jaan padta hai utna ghana nahin hota andhera. Aur aise aatmvishvas ka arth tab zyada hai jab kavi ko pata hai ki—jinhen puja ho ge patthar, pujte-pujte log bhi ho ge patthar, devta bhi patthar, pujari bhi patthar, sab patthar patthar hi patthar. Jab sab taraf patthar hi patthar hon, hamare aadarsh devta aur pujari tak jab patthar ho chuke hon, tab rachne ki chunauti zyada gambhir hai kyonki rachna ke srot bhi pathra chuke hain. Aise kathin samay mein saral-atmiy kavitayen rachnevale mukesh kumar ke is sangrah ki taraf aasha hai sabka dhyan jayega, halanki sthitiyan sahitya se jude logon ke bhi pathra jane ki hain.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products