BackBack
-11%

Sabke Liye Swasthya

Rs. 300 Rs. 267

हमारा तन-मन ही हमारा सबसे बड़ा धन है। उसकी सार-सँभाल हम कैसे करें कि वह सदा खिला रहे और हम अपने बड़े-बूढ़ों का ‘चिरंजीव भव’ का आशीर्वचन पूरा कर सकें, यह कृति इसी ओर हमारा मार्ग प्रशस्त करती है। ‘खिला रहे तन-मन’, ‘खान-पान और सेहत’, ‘पर्यावरण और स्वास्थ्य’, ‘मौसम के... Read More

BlackBlack
Description

हमारा तन-मन ही हमारा सबसे बड़ा धन है। उसकी सार-सँभाल हम कैसे करें कि वह सदा खिला रहे और हम अपने बड़े-बूढ़ों का ‘चिरंजीव भव’ का आशीर्वचन पूरा कर सकें, यह कृति इसी ओर हमारा मार्ग प्रशस्त करती है। ‘खिला रहे तन-मन’, ‘खान-पान और सेहत’, ‘पर्यावरण और स्वास्थ्य’, ‘मौसम के साथ’, ‘सफ़र और सेहत’, ‘फ़र्स्ट एड’ अध्यायों के ज़रिए जानकारियों से समृद्ध करती अत्यन्त महत्त्वपूर्ण और संग्रहणीय पुस्तक। Hamara tan-man hi hamara sabse bada dhan hai. Uski sar-sanbhal hum kaise karen ki vah sada khila rahe aur hum apne bade-budhon ka ‘chiranjiv bhav’ ka aashirvchan pura kar saken, ye kriti isi or hamara marg prshast karti hai. ‘khila rahe tan-man’, ‘khan-pan aur sehat’, ‘paryavran aur svasthya’, ‘mausam ke sath’, ‘safar aur sehat’, ‘farst ed’ adhyayon ke zariye jankariyon se samriddh karti atyant mahattvpurn aur sangrahniy pustak.