Sab kuchh Hona Bacha Rahega

Regular price Rs. 274
Sale price Rs. 274 Regular price Rs. 295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Sab kuchh Hona Bacha Rahega

Sab kuchh Hona Bacha Rahega

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

इस कविता-संग्रह में वह दृष्टि है जो समय को झरती हुई पत्तियों की जगह फूटती हुई कोंपलों में देखने का हौसला रखती है। विनोद कुमार शुक्ल की कविताएँ शब्दों को ध्वजा की तरह फहरानेवाली कविताएँ नहीं हैं। अनुभवों को हमारे पास छोड़कर स्वयं अदृश्य हो जानेवाली या अपने अद्भुत वाक्य-विन्यास की मौलिकता से स्वयं का दर्ज़ा प्राप्त कर लेनेवाली भाषा इन कविताओं की विशेषता है।... मंगल ग्रह सूना है। पृथ्वी के पड़ोस में सन्नाटा है। संकट में पृथ्वी के लोग कहाँ जाएँगे, कहकर उनकी कविताएँ हमारी संवेदना को जिन महत्तम आयामों से जोड़ती हैं, वह समकालीन कविता के लिए अभूतपूर्व है। जिस भाषा को राजनीतिज्ञों ने झूठा और कवियों ने अर्थहीन बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है, उसी से विनोद कुमार शुक्ल सच्चाई और जीवन में शेष हो चली आस्था की पुनर्रचना कैसे कर लेते हैं, यह एक सुखद आश्चर्य का विषय है। इसमें बच्चे हैं मज़दूरनियों के, जो दूध से पहले माँ के स्तनों पर आए पसीने का स्वाद चखते हैं। उन्हीं के शब्दों में कहें तो यह कविता की दुर्लभ प्रजाति है जिसमें ऊबा हुआ पाठक ताज़गी से भरी कुछ गहरी साँसें ले सकता है।...इस पत्थर समय को मोम की तरह तराशते चले जाने की ताक़त और निस्संगता के स्रोत विनोद कुमार शुक्ल की ग़ैर-साहित्यिक पृष्ठभूमि और रुझानों में हैं। यह उनकी वैज्ञानिक समझ और संवेदना का दुर्लभ संयोग है और गहरी जीवनासक्ति कि पेड़, पत्थर, पानी, हवा हमें अपने पूर्वजों की तरह लगने लगते हैं (जो कि वे सचमुच हैं)।...एक अद्भुत आत्मीय संस्पर्श है इस दृष्टि में कि जिन चीज़ों पर वह पड़ती है, वे जीवित हो उठती हैं और अपने अधिकारों की माँग करने लगती हैं। इस तरह संग्रह की सम्पूर्णता में देखा जाए तो यही लगता है कि लाशों से भरे समय का सामना करती ये कविताएँ मृत्यु को न सिर्फ़ मनुष्य की नियति मानने से इनकार करती हैं बल्कि जीने के लिए ज़रूरी सामान भी जुटाती हैं।
—नरेश सक्सेना Is kavita-sangrah mein vah drishti hai jo samay ko jharti hui pattiyon ki jagah phutti hui komplon mein dekhne ka hausla rakhti hai. Vinod kumar shukl ki kavitayen shabdon ko dhvja ki tarah phahranevali kavitayen nahin hain. Anubhvon ko hamare paas chhodkar svayan adrishya ho janevali ya apne adbhut vakya-vinyas ki maulikta se svayan ka darza prapt kar lenevali bhasha in kavitaon ki visheshta hai. . . . Mangal grah suna hai. Prithvi ke pados mein sannata hai. Sankat mein prithvi ke log kahan jayenge, kahkar unki kavitayen hamari sanvedna ko jin mahattam aayamon se jodti hain, vah samkalin kavita ke liye abhutpurv hai. Jis bhasha ko rajnitigyon ne jhutha aur kaviyon ne arthhin banane mein koi kasar nahin chhodi hai, usi se vinod kumar shukl sachchai aur jivan mein shesh ho chali aastha ki punarrachna kaise kar lete hain, ye ek sukhad aashcharya ka vishay hai. Ismen bachche hain mazduraniyon ke, jo dudh se pahle man ke stnon par aae pasine ka svad chakhte hain. Unhin ke shabdon mein kahen to ye kavita ki durlabh prjati hai jismen uuba hua pathak tazgi se bhari kuchh gahri sansen le sakta hai. . . . Is patthar samay ko mom ki tarah tarashte chale jane ki taqat aur nissangta ke srot vinod kumar shukl ki gair-sahityik prishthbhumi aur rujhanon mein hain. Ye unki vaigyanik samajh aur sanvedna ka durlabh sanyog hai aur gahri jivnasakti ki ped, patthar, pani, hava hamein apne purvjon ki tarah lagne lagte hain (jo ki ve sachmuch hain). . . . Ek adbhut aatmiy sansparsh hai is drishti mein ki jin chizon par vah padti hai, ve jivit ho uthti hain aur apne adhikaron ki mang karne lagti hain. Is tarah sangrah ki sampurnta mein dekha jaye to yahi lagta hai ki lashon se bhare samay ka samna karti ye kavitayen mrityu ko na sirf manushya ki niyati manne se inkar karti hain balki jine ke liye zaruri saman bhi jutati hain. —naresh saksena

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products