Look Inside
Sab Itna Asamapt
Sab Itna Asamapt
Sab Itna Asamapt
Sab Itna Asamapt

Sab Itna Asamapt

Regular price ₹ 274
Sale price ₹ 274 Regular price ₹ 295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Sab Itna Asamapt

Sab Itna Asamapt

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘सब इतना असमाप्त’ अपने शीर्षक से ही संग्रह की अन्तर्वस्तु का आभास देता है। इसकी अधिकांश कविताएँ वर्ष 2010 के बाद लिखी गई हैं। यहाँ कुछ अन्य काव्य-प्रयोग भी शामिल हैं जो कविता और उसकी एक बड़ी दुनिया में कवि की निरन्तर आवाजाही के प्रमाण हैं। कुँवर नारायण ने किसी भी क़ीमत पर कविता की भूमिका को सीमित करके नहीं देखा। उन्होंने अपनी एक कविता में प्रतीकात्मक लहजे़ में कहा है कि मैं कभी भी अपनी कविताओं का अन्त नहीं लाना चाहता। उस जीवन्त नाते को बनाए रखना चाहता हूँ जिसे अन्त समाप्त कर देता है। वे हमेशा अनन्तिम कविताएँ लिखना चाहते थे, इसलिए अन्तहीन भी। प्रस्तुत संग्रह की कविताएँ अपने आप में उनकी इस चिन्ता को मूर्त करती हैं और इस तरह अन्त और आरम्भ की एक व्यापक और परस्पर अभिन्न परिकल्पना हमारे सामने रखती हैं।
संग्रह की कविताएँ बहुत अनोखे ढंग से बेचैन करती हैं और आश्वस्त भी। इनमें एक बड़े कवि के समस्त अनुभवों की काव्यात्मक फलश्रुति है और अक्सर एक भव्य उदासी का गूँजता हुआ स्वर। यहाँ कुछ भूली-बिसरी यादों का कोलाज है और अप्रत्याशित विडम्बनाओं की ओर लुढ़कते हुए समाज की चिन्ता भी। पूरे संग्रह में सागर के दो तटों की तरह जीवन और मृत्यु के विविध अनुभवों-आहटों की कविताएँ एक सायुज्य में हैं।
हिन्दी के शीर्षस्थ कवि कुँवर नारायण ने अपनी कृतियों के माध्यम से एक पूरा अलग 'पैराडाइम’ रचा है। इसी क्रम में प्रस्तुत संग्रह की कविताएँ एक नए रूप में उनकी उपस्थिति को सम्भव बनाती हैं। इसमें उनकी काव्य-यात्रा भौतिक-अभौतिक, नैतिक-अनैतिक, लौटना-जाना, अन्त और आरम्भ, जिजीविषा और मुमुक्षा की परस्पर यात्रा रही है। पूरे संग्रह में यह संवेदनशीलता क्रमश: बहुआयामी विस्तार पाती गई है और कुँवर नारायण का एक बेहद सघन और अनुभव-समृद्ध काव्य-संसार पाठकों के सामने खुलता चला जाता है। ‘sab itna asmapt’ apne shirshak se hi sangrah ki antarvastu ka aabhas deta hai. Iski adhikansh kavitayen varsh 2010 ke baad likhi gai hain. Yahan kuchh anya kavya-pryog bhi shamil hain jo kavita aur uski ek badi duniya mein kavi ki nirantar aavajahi ke prman hain. Kunvar narayan ne kisi bhi qimat par kavita ki bhumika ko simit karke nahin dekha. Unhonne apni ek kavita mein prtikatmak lahje mein kaha hai ki main kabhi bhi apni kavitaon ka ant nahin lana chahta. Us jivant nate ko banaye rakhna chahta hun jise ant samapt kar deta hai. Ve hamesha anantim kavitayen likhna chahte the, isaliye anthin bhi. Prastut sangrah ki kavitayen apne aap mein unki is chinta ko murt karti hain aur is tarah ant aur aarambh ki ek vyapak aur paraspar abhinn parikalpna hamare samne rakhti hain. Sangrah ki kavitayen bahut anokhe dhang se bechain karti hain aur aashvast bhi. Inmen ek bade kavi ke samast anubhvon ki kavyatmak phalashruti hai aur aksar ek bhavya udasi ka gunjata hua svar. Yahan kuchh bhuli-bisri yadon ka kolaj hai aur apratyashit vidambnaon ki or ludhakte hue samaj ki chinta bhi. Pure sangrah mein sagar ke do taton ki tarah jivan aur mrityu ke vividh anubhvon-ahton ki kavitayen ek sayujya mein hain.
Hindi ke shirshasth kavi kunvar narayan ne apni kritiyon ke madhyam se ek pura alag pairadaim’ racha hai. Isi kram mein prastut sangrah ki kavitayen ek ne rup mein unki upasthiti ko sambhav banati hain. Ismen unki kavya-yatra bhautik-abhautik, naitik-anaitik, lautna-jana, ant aur aarambh, jijivisha aur mumuksha ki paraspar yatra rahi hai. Pure sangrah mein ye sanvedanshilta krmash: bahuayami vistar pati gai hai aur kunvar narayan ka ek behad saghan aur anubhav-samriddh kavya-sansar pathkon ke samne khulta chala jata hai.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products