BackBack
-11%

Saat Bhumikayen

Mahadevi Verma

Rs. 395 Rs. 352

छायावाद की यशस्वी रचनाकार महादेवी वर्मा का लेखन किसी न किसी रूप में पाठकों व आलोचकों को आन्दोलित करता आया है। कभी उनकी रचनाओं में उनके जीवन के बिखरे सूत्र रेखांकित किए जाते हैं तो कभी उनके जीवन में रचनाओं के स्रोत खोजे जाते हैं। महादेवी द्वारा लिखित प्रत्येक शब्द... Read More

BlackBlack
Description

छायावाद की यशस्वी रचनाकार महादेवी वर्मा का लेखन किसी न किसी रूप में पाठकों व आलोचकों को आन्दोलित करता आया है। कभी उनकी रचनाओं में उनके जीवन के बिखरे सूत्र रेखांकित किए जाते हैं तो कभी उनके जीवन में रचनाओं के स्रोत खोजे जाते हैं। महादेवी द्वारा लिखित प्रत्येक शब्द स्वयं को ध्यान से पढ़े जाने का आग्रह करता है। ‘सात भूमिकाएँ’ में ‘रश्मि’, ‘सांध्यगीत’, ‘आधुनिक कवि’, ‘दीपशिखा’, ‘बंग–दर्शन’, ‘सप्तपर्णा’ एवं ‘हिमालय’ कविता–संग्रहों की भूमिकाएँ हैं। महादेवी वर्मा लिखित इन भूमिकाओं का ऐतिहासिक महत्त्व है। ये भूमिकाएँ उनकी तत्कालीन मन:स्थिति को प्रकट करने के साथ उनके समग्र लेखन पर एक ‘अन्त:साक्ष्य’ की भाँति हैं। ‘सात भूमिकाओं’ के सम्पादक दूधनाथ सिंह का सम्पादकीय ‘छायावाद : व्यथा का सवेरा’ अत्यन्त विचारोत्तेजक है। अपनी विशिष्ट ‘तर्कसंगत पद्धति’ से दूधनाथ सिंह ने महादेवी के रचनाकर्म को विवेचित किया है—‘उनके वाक्य स्पष्ट, पारदर्शी व निर्भ्रान्त हैं, ‘महादेवी की आलोचनाएँ शब्द–अलंकृति अधिक हैं, आलोचनाएँ कम। उनका सारा वैचारिक गद्य–लेखन लगभग ऐसा ही है। उनमें तर्क और विश्लेषण का अभाव है। अपनी हर अगली बात के लिए महादेवी तर्क की जगह कोई प्रतीक–बिम्ब ढूँढ़ने लगती हैं।’
दूधनाथ सिंह के सम्पादकीय के प्रकाश में महादेवी की इन सात भूमिकाओं को पढ़ना एक आलोचनात्मक अनुभव है। तब और भी जब महादेवी के चुटीले ‘सुरक्षात्मक वाक्य’ उनकी प्रत्येक भूमिका में हैं। ‘रश्मि’ संग्रह की ‘अपनी बात’ का पहला ही वाक्य, ‘अपने विषय में कुछ कहना प्राय: बहुत कठिन हो जाता है, क्योंकि अपने दोष देखना अपने आपको अप्रिय लगता है और इनको अनदेखा कर जाना औरों को...।’ एक संग्रहणीय पुस्तक। Chhayavad ki yashasvi rachnakar mahadevi varma ka lekhan kisi na kisi rup mein pathkon va aalochkon ko aandolit karta aaya hai. Kabhi unki rachnaon mein unke jivan ke bikhre sutr rekhankit kiye jate hain to kabhi unke jivan mein rachnaon ke srot khoje jate hain. Mahadevi dvara likhit pratyek shabd svayan ko dhyan se padhe jane ka aagrah karta hai. ‘sat bhumikayen’ mein ‘rashmi’, ‘sandhygit’, ‘adhunik kavi’, ‘dipashikha’, ‘bang–darshan’, ‘saptparna’ evan ‘himalay’ kavita–sangrhon ki bhumikayen hain. Mahadevi varma likhit in bhumikaon ka aitihasik mahattv hai. Ye bhumikayen unki tatkalin man:sthiti ko prkat karne ke saath unke samagr lekhan par ek ‘ant:sakshya’ ki bhanti hain. ‘sat bhumikaon’ ke sampadak dudhnath sinh ka sampadkiy ‘chhayavad : vytha ka savera’ atyant vicharottejak hai. Apni vishisht ‘tarksangat paddhati’ se dudhnath sinh ne mahadevi ke rachnakarm ko vivechit kiya hai—‘unke vakya spasht, pardarshi va nirbhrant hain, ‘mahadevi ki aalochnaen shabd–alankriti adhik hain, aalochnaen kam. Unka sara vaicharik gadya–lekhan lagbhag aisa hi hai. Unmen tark aur vishleshan ka abhav hai. Apni har agli baat ke liye mahadevi tark ki jagah koi prtik–bimb dhundhane lagti hain. ’Dudhnath sinh ke sampadkiy ke prkash mein mahadevi ki in saat bhumikaon ko padhna ek aalochnatmak anubhav hai. Tab aur bhi jab mahadevi ke chutile ‘surakshatmak vakya’ unki pratyek bhumika mein hain. ‘rashmi’ sangrah ki ‘apni bat’ ka pahla hi vakya, ‘apne vishay mein kuchh kahna pray: bahut kathin ho jata hai, kyonki apne dosh dekhna apne aapko apriy lagta hai aur inko andekha kar jana auron ko. . . . ’ ek sangrahniy pustak.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year