Ruktapur

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Ruktapur

Ruktapur

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

यह किताब एक सजग-संवेदनशील पत्रकार की डायरी है, जिसमें उसकी ‘आँखों देखी’ तो दर्ज है ही, हालात का तथ्यपरक विश्लेषण भी है। यह दिखलाती है कि एक आम बिहारी तरक़्क़ी की राह पर आगे बढ़ना चाहता है पर उसके पाँवों में भारी पत्थर बँधे हैं, जिससे उसको मुक्त करने में उस राजनीतिक नेतृत्व ने भी तत्परता नहीं दिखाई, जो इसी का वादा कर सत्तासीन हुआ था। आख्यानपरक शैली में लिखी गई यह किताब आम बिहारियों की जबान बोलती है, उनसे मिलकर उनकी कहानियों को सामने लाती है और उनके दुःख-दर्द को सरकारी आँकड़ों के सामने रखकर दिखाती है। इस तरह यह उस दरार पर रोशनी डालती है जिसके एक ओर सरकार के डबल डिजिट ग्रोथ के आँकड़े और चमचमाते दावे हैं तो दूसरी तरफ़ वंचित समाज के लोगों के अभाव, असहायता और पीड़ा की झकझोर देने वाली कहानियाँ हैं।
इस किताब के केन्द्र में बिहार है, उसके नीति-निर्माताओं की 73 वर्षों की कामयाबी और नाकामी का लेखा-जोखा है, लेकिन इसमें उठाए गए मुद्दे देश के हरेक राज्य की सचाई हैं। सरकार द्वारा आधुनिक विकास के ताबड़तोड़ दिखावे के बावजूद उसकी प्राथमिकताओं और आमजन की ज़रूरतों में अलगाव के निरंतर बने रहने को रेखांकित करते हुए यह किताब जिन सवालों को सामने रखती है, उनका सम्बन्ध वस्तुत: हमारे लोकतंत्र की बुनियाद है। Ye kitab ek sajag-sanvedanshil patrkar ki dayri hai, jismen uski ‘ankhon dekhi’ to darj hai hi, halat ka tathyaprak vishleshan bhi hai. Ye dikhlati hai ki ek aam bihari tarakqi ki raah par aage badhna chahta hai par uske panvon mein bhari patthar bandhe hain, jisse usko mukt karne mein us rajnitik netritv ne bhi tatparta nahin dikhai, jo isi ka vada kar sattasin hua tha. Aakhyanaprak shaili mein likhi gai ye kitab aam bihariyon ki jaban bolti hai, unse milkar unki kahaniyon ko samne lati hai aur unke duःkha-dard ko sarkari aankadon ke samne rakhkar dikhati hai. Is tarah ye us darar par roshni dalti hai jiske ek or sarkar ke dabal dijit groth ke aankade aur chamachmate dave hain to dusri taraf vanchit samaj ke logon ke abhav, ashayta aur pida ki jhakjhor dene vali kahaniyan hain. Is kitab ke kendr mein bihar hai, uske niti-nirmataon ki 73 varshon ki kamyabi aur nakami ka lekha-jokha hai, lekin ismen uthaye ge mudde desh ke harek rajya ki sachai hain. Sarkar dvara aadhunik vikas ke tabadtod dikhave ke bavjud uski prathamiktaon aur aamjan ki zarurton mein algav ke nirantar bane rahne ko rekhankit karte hue ye kitab jin savalon ko samne rakhti hai, unka sambandh vastut: hamare loktantr ki buniyad hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products